‘‘अग्रिम खोज व बचाव’’ विषय पर आयोजित प्रशिक्षण कार्यशाला संपन्न

0
67

धर्मशाला:

‘‘अग्रिम खोज व बचाव’’ विषय पर आयोजित 14 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला बुधवार को संपन्न हो गई। पुलिस अधीक्षक कार्यालय धर्मशाला के कान्फ्रेंस हॉल में आयोजित समापन समारोह में उपायुक्त कांगड़ा संदीप कुमार ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक संतोष पटियाल भी उपस्थित रहे। जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण कांगड़ा, पुलिस विभाग कांगड़ा तथा राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल के सहयोग से आयोजित इस प्रशिक्षण कार्यशाला में 32 पुलिस कर्मियों ने भाग लिया।
उपायुक्त कांगड़ा संदीप कुमार ने अधिकारियों और कर्मचारियों को आपदा के समय उनके कर्तव्य और जिम्मेदारी के बारे में बताया। उन्होंने अग्रिम खोज व बचाव के प्रशिक्षण के महत्व को रेखांकित करते हुए कहा कि आपदाकाल में लोगों को बचाने, घायलों के इलाज के साथ साथ आपदा के बेहतर प्रबंधन के लिए इस तरह के प्रशिक्षण बहुत अहम हैं। संबंधित अधिकारियों एवं कर्मचारियों को हरसंभव आपदा खोज बचाव और प्राथमिक इलाज की जानकारी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि आपदाकाल में सभी विभागों की जिम्मेदारी बढ़ जाती है।


उपायुक्त ने कहा कि ऐसी कार्यशाला का आयोजन उपमंडल स्तर पर भी किया जाना चाहिए। उन्होंने एनडीआरएफ के अधिकारियों से आग्रह किया कि वे बैजनाथ विधान सभा क्षेत्र के चढ़ियार में होने वाले जनमंच से पहले ऐसी एक कार्यशाला का आयोजन कर युवा वर्ग को इस प्रशिक्षण में शमिल करें। उन्होंने आम लोगों को भी प्राथमिक उपचार बारे जानकारी प्रदान करना जरूरी है। उन्होंने कहा कि एनसीसी कैडेट्स तथा टैक्सी यूनियन के सदस्यों को भी प्राथमिक उपचार का प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए।
उन्होंने ने किसी भी आपदा की स्थिति से निपटने के लिए अपनी सभी प्रकार की तैयारियां पूरी रखने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कार्यशाला में उपस्थित पुलिस कर्मियों से कार्यक्रम में प्राप्त ज्ञान को अन्य लोगों के साथ बांटने और अपने विभाग के निचले स्तर के कर्मचारियों को आपदा प्रबंधन के बारे में जागरूक करने को कहा।
कार्यशाला में एनडीआरएफ के सहायक निरीक्षक राहुल राहुल सिंह ने प्रशिक्षण से संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी दी।


इस अवसर पर प्रशिक्षण में हैड कांस्टेबल अशीष कुमार प्रथम, कांस्टेबल वीरेन्द्र कुमार द्वितीय तथा कांस्टेबल कमल जीत सिंह ने तीसरा स्थान प्राप्त किया।
उपायक्त संदीप कुमार ने इन्हें स्मृति चिन्ह व शेष प्रशिक्षर्थियों को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया।
इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक संतोष पटियाल ने जिलाधीश का आभार जताते हुए प्रशिक्षु कर्मचारियों से प्रशिक्षण कार्यशाला में प्राप्त ज्ञान एवं कौशल का आपदा प्रबंधन में बेहतर इस्तेमाल करने को कहा।

इस अवसर पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बद्री सिंह, एनडीआरएफ के प्रताप सिंह, भानु, रॉबिन सहित पुलिस विभाग के कर्मचारी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here