कर्ज से दबे किसान की आत्महत्या के बाद किसानों ने सरकार के खिलाफ किया प्रदर्शन

0
70

सीएम को जिले में नहीं घुसने देने की चेतावनी।कर्ज के बोझ के चलते किसान द्वारा आत्महत्या का मामला,किसानों ने सरकार के खिलाफ किया प्रदर्शन,मिनी सचिवालय पर किया प्रदर्शन,मृतक किसान के कर्ज को माफ़ करने की है मांग,कर्ज माफ़ी के लिए कलेक्टर दिया ज्ञापन 

अजय कुमार विद्यार्थी /डीग, भरतपुर/ डीग थाना क्षेत्र के गाँव जाटौली में रबी की फसल नहीं उगने और कर्ज के बोझ में दबे होने से व्यथित 45 वर्षीय एक किसान भगवान् सिंह ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली जिसके बाद मंगलवार को भारतीय किसान यूनियन अम्बाबाता,युवा विंग के राष्ट्रीय अध्यक्ष नेम सिंह फौजदार के नेतृत्व में सैकड़ों किसानों ने मृतक किसान के कर्ज माफ़ी व् उसके बच्चों को मुआवजे की मांग को लेकर मिनी सचिवालय पर सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया | 

प्रदर्शन के बाद किसानों ने मुख्यमंत्री के नाम जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर मृतक किसान के कर्ज को माफ़ करने की मांग की साथ ही किसानों ने सरकार को चेतावनी दी है की यदि सरकार ने मृतक किसान का कर्ज माफ़ नहीं किया और उसके बच्चों को मुआवजा नहीं दिया तो जिले के किसान आगामी 26 जनवरी को सीएम आगमन कार्यक्रम के दौरान वे मुख्यमंत्री को जिले में नहीं घुसने देंगे | 

गौरतलब है की विगत दिन डीग उपखण्ड के गाँव जाटौली में 45 वर्षीय किसान भगवान् सिंह ने कर्ज के बोझ के चलते फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी | उसने बैंक से कृषि लोन करीब 5 लाख रूपये ले रखा था साथ ही करीब 6 लाख रूपये गाँव के साहूकार से ले रखे थे जिसको चुकाने के लिए वह चिंतित रहता था | वह अपनी पशुओं के बाड़े में सोता था जहाँ आज सुबह जब उसकी पत्नी हरदेई वहां पहुंची तो उसका शव फांसी से लटका हुआ मिला | शोर मचाने पर ग्रामीण इकट्ठे हुए और पुलिस को सूचित किया | 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here