थाईलैंड एकमात्र ऐसा देश है जो रोहिंग्या मुस्लिमों को निकालने में सफल रहा, अब भारत भी उसके रास्ते पर चलते हुए करने वाला है ऐसा काम कि…

0
95

भारत सरकार अवैध रूप से भारत में रह रहे रोहिंग्या मुस्लिमों को भारत की सुरक्षा के लिए खतरा बता रही है. सरकार द्वारा इनको वापस म्यांमार भेजने की बात की जा रही है, लेकिन सवाल यह उठता है कि आखिर भारत सरकार इन रोहिंग्या मुस्लिमों को भारत से बाहर भेजेगी कैसे ? इस समय रोहिंग्या मुस्लिमों की समस्या भारत सरकार के लिए एक बड़ा सरदर्द बन गयी है.

source

गौरतलब है कि भारत में 40 हज़ार से अधिक रोहिंग्या मुस्लिम, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, जम्मू, राजस्थान समेत दिल्ली और एनसीआर में अवैध तरीके से रह रहे हैं. इन लोगों पर आरोप लगता रहा है कि इनका कनेक्शन ISIS जैसे बड़े आतंकी संगठनों से है. इसी वजह से भारत के अलावा कई देश इन लोगों को अपने यहाँ रखने के खिलाफ है.

source

जानकारी के लिए बता दें कि म्यांमार में हिंसा होने के बाद से रोहिंग्या भारत, पाकिस्तान , नेपाल समेत कई देशों में बस गए लेकिन थाईलैंड के अलावा कोई भी दूसरा देश इन्हें बाहर भेजने में सफल नहीं हो पाया. अब इस बात पर बहस गर्म हो गई है कि क्या भारत भी थाईलैंड की तरह इन रोहिंग्या मुस्लिमों को वापस भेज पाएगा.

source

थाईलैंड की सरकार ने वर्ष 2014 में रोहिंग्या मुस्लिमों को वापस भजने का फरमान जारी किया था. जिसके बाद वहां से 1300 से ज्यादा रोहिंग्या मुस्लिमों को वापस भेजा जा चुका है. थाईलैंड के पुलिस अधिकारी फार्मू केड्रालफोन ने बताया कि, “इन लोगों को स्वेच्छा से भेजा गया है. इनका कहना था कि थाईलैंड में इन्हें अपना कोई भविष्य दिखाई नहीं दे रहा है, इसलिए हमें बर्मा भेज दिया जाए.” थाईलैंड की ऑथोरिटीज ने रोहिंग्याओं को स्वेच्छा से वापस भेजने का निर्णय लिया था. थाईलैंड सरकार ने रोहिंग्या मुस्लिमों को छूट दी थी कि वो कैसे जाएं ये वो खुद निर्णय लें. जिसके बाद 100-200 के ग्रुप बनाकर उन्हें वापस भेज दिया गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here