देश को तकड़ा झटका लगा,आईएनएस सिंधुरक्षक समुद्र में डूबी

0
268

अजेय भारत ब्यूरो मुंबई। करन निम्बार्क  आजादी का जश्न मनाने से पहले देश को तकड़ा झटका लगा है। नौसेना की पनडुब्बी आईएनएस सिंधुरक्षक और सिंधुरत्न में मंगलवार आधी रात को तेज विस्फोट के बाद लगी आग के बाद सिंधुरक्षक पनडुब्बी समुद्र में डूब गई है और इसमें सवार तीन नेवी अफसरों समेत 18 नौसैनिकों की मौत हो गई है। नेवी ने इस घटना की जांच के लिए बोर्ड ऑफ इनक्वायरी के आदेश दिए हैं। कोलाबा में ही नौसेना का डॉकयार्ड है। रक्षा प्रवक्ता ने बताया कि डीजल जनरेटर और इलेक्ट्रिक बैटरी से चलने वाली 2300 टन की इस पनडुब्बी में 18 लोग सवार थे।

रक्षा मंत्री एके एंटनी ने सिंधुरक्षक में आग लगने से लोगों की मौत होने की पुष्टि की है, लेकिन उन्होंने हताहतों की संख्या की कोई जानकारी नहीं दी। एंटनी ने मुंबई रवाना होने से पहले कहा, मैं नौसेना के उन जवानों के लिए दुखी हूं, जिन्होंने देश की सेवा में अपनी जान गंवा दी। यह नौसेना के लिए बड़ी त्रसदी है। इससे पहले उन्होंने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को दुर्घटना की जानकारी दी। नौसेना के चीफ एडमिरल डी के जोशी भी मुंबई पहुंच चुके हैं।

बैटरी चार्ज करते वक्त हुआ धमाका

सूत्रों के मुताबिक बीती रात मुंबई के डॉकयार्ड पर खड़ी सिंधुरक्षक पनडुब्बी की बैटरी चार्ज की जा रही थी, तभी किन्हीं वजहों से बैटरी में आग लग गई और देखते ही देखते आग तेजी से बढ़ी और बाद में पनडुब्बी में जोरदार धमाका हुआ। इसके बाद पास ही खड़ी सिधुरत्न पनडुब्बी में भी आग लग गई।

ऑक्सीजन लीक होने से लगी आग

सिंधुरक्षक पनडुब्बी में टारपीडो और मिसाइल तैनात थे। टारपीडो में ऑक्सीजन होता है। टारपीडो रूम से सटे बैटरी कंपार्टमेंट था जिसमें हाइड्रोजन मौजूद था। आशंका है कि किसी दुर्घटना के चलते ऑक्सीजन लीक हुआ और हाइड्रोजन से जा मिला। दोनों गैसों के रिएक्शन से आग लग गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here