Categorized | INDIA

सीजेएम ने किया नशामुक्ति केन्द्र का निरीक्षण

जीन्द 16 सितम्बर जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण के सचिव एवं मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी डा० अशोक कुमार ने शनिवार को स्थानीय सफीदों रोड़ स्थित नई सोच नशा मुक्ति केन्द्र का औचक निरीक्षण किया । इस केन्द्र में विभिन्न नशों के आदि 16 मरीज नशा छोडऩे की जदोजहद कर रहे है। केन्द्र में उन्हे नशा छोडऩे के लिए दवाईयों के साथ- साथ मनोवैज्ञानिक डोज भी दी जाती है। 

निरीक्षण उपरान्त मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी ने बताया कि इसमें अफीम, सुल्फा, भूकी, समैक आदि प्रकार के नशा करने वाले लोगों को नशा छुड़ाने के लिए मानसिक रूप से भी तैयार किया जाता है। सीजेएम ने केन्द्र संचालक द्वारा मरीजों के लिए जुटाई जा रही सुविधाओं का मुआयना किया। गौरतलब है कि हर माह सीजेएम इस सैंटर का निरीक्षण करते है। इस निरीक्षण के दौरान सीजेएम ने सीसीटीवी की फुटेज भी देखी। उन्होंने कहा कि मरीजों के ईलाज में किसी भी प्रकार की कोताही नहीं बरती जानी चाहिए। मरीजों को मानसिक रूप से तैयार करना चाहिए कि वे भविष्य में किसी प्रकार का नशा नहीं करेंगे। सीजेएम ने एक- एक नशेड़ी से अलग- अलग बात की और उन्हे समाज की मूलधारा में शामिल होने के लिए नशों से दूर रहने की प्ररेणा दी। उन्होंने समझाया कि नशा किसी भी अच्छे भले इंसान को खत्म कर देता है। 

निरीक्षण के दौरान जुलाना कस्बे से एक वृद्ध नशा मुक्ति केन्द्र में आकर अपने पोते से मिलता है। 19 वर्षीय पोता शुल्फा की लत में पड़कर अपने स्वास्थ्य के साथ- साथ सामाजिक प्रवेश को भी भुल चुका है। दादा ने इस नशेड़ी पोते की इस लत को छोडऩे के काम में डाक्टरों की भूमिका की सराहना की। सीजेएम ने कहा कि इस युवा को मनावैज्ञानिक रूप से सहायता दिये जाने की आवश्यकता है। इस मौके पर मनोवैज्ञानिक नरेश जागलान, एडवोकेट विजय शर्मा, पीएलवी वेदप्रकाश आर्य भी उपस्थित रहे। 

इसके बाद मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी ने महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा जिला के निर्जन गांव में संचालित बाल प्रयास कुंज का भी औचक निरीक्षण किया उन्होंने यहां सफाई व्यवस्था की बात को लेकर संचालक को कड़े निर्देश दिये कि वे यहां परिसर में पूरी साफ- सफाई रखे। बच्चों के स्वास्थ्य के प्रति भी पूरी तरह से गम्भीर रहे। भविष्य में किसी प्रकार की कोताही किसी भी सूरत में स्वीकार नहीं होगी। गौरतलब है कि यहंा बाल प्रयास कुंज में 8 बच्चे रखे गये है। इस मौके पर बाल कल्याण विभाग के प्रोबैसन ऑफिसर अमित कुमार, मनोवैज्ञानिक नरेश जागलान, वकील विजय शर्मा, पीएलवी वेद प्रकाश आर्य भी मौजूद रहे। 
 

Image may contain: 1 person, sitting

Image may contain: 3 people, people sitting and screen

This post was written by:

- who has written 1464 posts on Ajey Bharat.


Contact the author

advert