Categorized | INDIA

हर Situation और मुसीबत से निपटने के लिए ज़रूरी हैं जानने ये Helpline Numbers

समाज को सुचारू रूप से चलाने के लिए कानून-व्यवस्था बनाई गई थी. अलग-अलग देशों में कानून भी अलग हैं और कानूनी प्रक्रिया भी. समाज में अब भी कानून व्यवस्था और पुलिस को लेकर लोगों के मन में संशय बना रहता है. पर कानून व्यवस्था को सुदृढ़ और पारदर्शी बनाने के लिए और लोगों की परेशानियों को आसानी से सुलझाने के लिए सरका कई तरीके अपनाती है. बदलते दौर के साथ ही देश के नागरिकों की परेशानियों को मिनटों में सुलझाने के लिए कई हेल्पलाइन नंबर और ऑनलाइन पोर्टल खोले गए हैं. अब तो ट्वीट करके भी अपने समस्या को मिनटों में सुलझाया जा सकता है.

आज हम आपको बताएंगे ऐसे ही कुछ हेल्पलाइन नंबर्स के बारे में, जिन पर फ़ोन कर के आप तत्काल रूप से मदद प्राप्त कर सकते हैं.

1.


भारत के किसी भी हिस्से में अगर आप मुसीबत में हों तो 100 डायल करके पुलिस बुला सकते हैं.

2.


 


3.देश के किसी भी राज्य में कोई भी महिला अगर किसी मुसीबत में हो, तो इस पर फ़ोन कर के अपनी समस्या बता सकती हैं. कुछ राज्यों ने अपनी अलग महिला हेल्पलाइन भी शुरू की है. मध्य प्रदेश में 1090 पर कॉल कर के कोई भी महिला शिकायत दर्ज करवा सकती हैं.


समय बीतने के साथ भारतीय रेल भी अपने यात्रियों के लिए नई-नई सुविधाएं लॉन्च कर रही है. भारतीय रेल में सफ़र के दौरान आप अलग-अलग हेल्पलाइन पर कॉल करके सहायता प्राप्त कर सकते हैं.

Toll Security Helpline Number- 1800111322, 182(Thefts, Harassment, Pick Pocketing, Criminal Incidents)

Customer Helpline number- 138

PNR Enquiry- 139

Catering Services- 1800111139/1800111321

4.


अगर कहीं आग लग जाए, तो इस पर कॉल करके Fire Fighters को बुलाया जा सकता है. हर शहर के Fire Station का भी अलग नंबर होता है पर इससे भी सहायता मिल जाएगी.

5. 


किसी ज़रूरतमंद की मदद के लिए इस नंबर पर कॉल कर सकते हैं. सिर्फ़ एक फ़ोन घुमाने से ही किसी की ज़िन्दगी बच सकती 
आपदा की स्थिति में इस नंबर पर फ़ोन कर के मदद बुलवाई जा सकती है.


7. 


ट्रैफ़िक से जुड़ी समस्यायों के लिए दिल्ली के नागरिक इन नंबर्स(011-25844444/1095) पर फ़ोन कर सकते हैं. दिल्ली ट्रैफ़िक पुलिस ने Whats App नंबर भी जारी किया है. 8750871493 पर अपनी समस्या बताई जा सकती है.

8. 


Vandrevala Foundation द्वारा जारी किए गए इन नंबर्स(1860-266-2345/ 1800-233-3330) पर फ़ोन कर के सहायता प्राप्त की जा सकती है.

इस समस्या के लिए देशभर में एक नंबर जारी किया जाना चाहिए.

9.


911 की तर्ज पर ही सरकार ने एक नेशनल हेल्पलाइन नंबर जारी किया था. ट्रायल पीरियड के दौरान ही इस पर कई ब्लैंक कॉल्स आते थे. अभी ये नंबर कार्यरत नहीं है.

10.


Senior Citizens Helpline Number- 1096(Gujarat Police), 1253(Helpage India, Chennai), 1291/1091(Delhi), 1298/1090(Mumbai)

वरिष्ठ नागरिकों की समस्याओं को सुलझाने के लिए इन नंबर पर फ़ोन किया जा सकता है. दिल्ली के कुछ इलाकों में तो पुलिस पेट्रोलिंग भी चलती है.

11.



देशभर में शायद ही कोई ऐसी महिला होगी जिसका कभी पीछा न किया गया हो. अगर आप दिल्ली में हैं और आपको लगता है कि आप किसी मुसीबत में हैं, तो तत्कालिक रूप से इस नंबर पर कॉल करें. National Commission For Women के वेबसाइट पर जाकर भी आप अपनी शिकायत दर्ज कर सकती हैं.

12.


Domestic Violence Helpline Number- 1091(Bengaluru), 1298(Mumbai)


घरेलू हिंसा के खिलाफ़ अगर आप शिकायत दर्ज करवाने के लिए, अलग-अलग शहरों में अलग-अलग हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं.

इसके अलावा National Commission For Women के हेल्पलाइन नंबर 0111-23219750 पर भी कॉल कर के या फिर उनकी वेबसाइट पर कंप्लेन दर्ज कर सकते हैं.

13.


Human Trafficking –  9582909025

मानव तस्करी एक संगीन अपराध ह. घर पर काम करवाने के लिए अकसर गरीब मासूमों को बंधुआ मज़दूर बनाकर काम करवाया जाता है. अगर आप कहीं भी ऐसा होते देखें, तो इन नंबर्स पर कॉल कर के किसी की ज़िन्दगी बचा सकते हैं.

14.


ये हेल्पलाइन बच्चों के अधिकारों की सुरक्षा के लिए काम करती है.

15.


Depression के कारण हर साल कई लोग अपनी जान ले लेते हैं. अगर आपको कभी भी ऐसा लगे कि कि आप अवसाद ग्रसित हैं या ज़िन्दगी से पूरी तरह त्रस्त हो गए हैं, तो इस पर फ़ोन कर के मदद ले सकते हैं.

इस तरह के हेल्पलाइन नंबर्स का हमारे समाज में होना ज़रूरी है. पर दुख की बात है कि मानसिक रोगों से निपटने के मामले में अभी हम काफ़ी पीछे हैं.

16.


AIDS जैसी बीमारी के लिए अगर काउंसिलिंग और मदद की ज़रूरत हो, तो इस नंबर पर कॉल करके जानकारी ली जा सकती है. Kripa Foundation द्वारा ये नंबर जारी किया गया है.

17. 


UGC द्वारा लॉन्च की गई ये हेल्पलाइन नंबर ऐसे छात्रों के लिए सहायक है जो विश्वविद्यालय में रैगिंग का शिकार होते हैं. इसकी वेबसाइट पर जाकर भी कंप्लेन दर्ज की जा सकती है.


इनमें से कुछ हेल्पलाइन नंबर पर हमने कॉल करके देखा. कुछ नंबरों पर तो फ़ोन लग गया. पर कुछ नंबर व्यस्त जा रहे थे, तो कुछ लग ही नहीं रहे थे. हम अपील करते हैं कि अगर हेल्पलाइन नंबर जारी किए गए हैं तो उनको सुचारू रूप से चलाया भी जाना चाहिए.


 

Designed by- Sanil Modi

This post was written by:

- who has written 1464 posts on Ajey Bharat.


Contact the author

advert