Archive | HEALTH

Hair Transformations से कितना बदल जाता है इंसान का लुक, भला इन लोगों से अच्छा और कौन बता सकता है

'No Doubt' कि हमारे व्यक्तित्व को निख़ारने में हमारी हेयर स्टाइल अहम रोल अदा करती है. साथ ही एक अच्छी हेयर स्टाइल से किसी भी शख़्स के लुक में चार चांद लगा देती है, लेकिन जब बात लुक चेंज करने की हो, ख़ासकर बाल छोटे करवाने की हो, तो किसी भी शख़्स के लिए ये फ़ैसला लेना काफ़ी मुश्किल होता है.

'कैसा होगा नया लुक'?, 'छोटे बाल सूट करेंगे या नहीं'?, 'बाल फिर इतने बड़े हो पाएंगे कि नहीं'?,

अगर आप भी कुछ इसी तरह की कशमकश से जूझ रहे हैं तो बेझिझक अपने हेयर स्टाइलिस्ट के पास जा सकते हैं, क्योंकि लंबे बालों से छोटे बालों के Transformations की ये तस्वीरें आपको अपने बाल कटवाने की हिम्मत देंगी.

1. ये जनाब तो बिल्कुल ही बदल गए.


2. 11 साल बाद आपका ये परिवर्तित रूप देख कर ख़ुशी हुई.


3. अब ये शख़्स किसी एंगल से बेघर नहीं लग रहा है.


4. 14 साल बाद आख़िर आज वो शुभ घड़ी आ ही गई.


5. Before और After में कितना फ़र्क है.

Posted in HEALTHComments (0)

देश का पहला हैंड ट्रांसप्लांट, किसी लड़के का हाथ लगा लड़की को दिया जीवन

कुछ लोग मौत को काफ़ी करीब से देखने के बाद भी ज़िंदगी जीना नहीं छोड़ते, ऐसे ही लोगों में 19 साल की श्रेया सिद्दनागौड़ भी है. दरअसल, बीते साल श्रेया पुणे से मनीपाल इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी के लिए सफ़र कर रही थीं, अचानक बस एक्सीडेंट में वो बुरी तरह ज़ख्मी हो गई, हादसे में श्रेया के दोनों हाथ भी बेकार हो गए थे.

इतने बड़े हादसे का शिकार होने का बावजूद भी श्रेया ने ज़िंदगी से हार नहीं मानी और ठीक एक साल बाद, कोच्चि के डॉक्टरों की टीम ने उनके हाथों का सफ़ल ऑपरेशन कर, उसे नया जीवनदान दे दिया.


 

अपनी ख़ुशी का इज़हार करते हुए श्रेया कहती हैं, 'मुझे अपनी हालत पर विश्वास नहीं हो रहा था, एक पल के लिए तो मानों मेरी दुनिया ही ख़त्म हो गई, लेकिन जैसे ही मेरी मां ने मुझसे ये बताया कि भारत में तुम्हारा हैंड ट्रांसप्लांट सफ़ल रहा, उस वक़्त मेरी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा. सर्जरी के बाद मुझे ताकत और आशा मिली, मेरी विकलांगता अस्थायी दिख रही है. एक दिन मैं फिर से सामान्य जीवन जी पाउंगी.'


हैंड ट्रांसप्लांट Amrita Institute Of Medical Sciences के Plastic And Reconstructive Surgery Department हेड डॉक्टर Subrahmania Iyer के नेतृत्व में किया गया. इस ऑपरेशन में 20 सर्जन और 16 एनस्थेटिस्ट शामिल थे, करीब 13 घंटों की मशक्कत के बाद डॉक्टर श्रेया को उसकी ख़ुशियां वापस लौटाने में कामयाब रहे.


ऐसा माना जा रहा है कि ये एशिया की पहली ऐसी सर्जरी है, जिसमें कोहनी से निचले के हाथों की जगह 20 साल के लड़के का हाथ लगाया है. डॉ मोहित शर्मा और डॉ रविशंकरन ने कहा, फ़िलहाल श्रेया को अस्पताल से छुट्टी दे गई है, हम आशा करते हैं कि आने वाले एक डेढ़ साल में श्रेया सामान्य ज़िंदगी जीने लगेगी.

सफ़ल सर्जरी के बाद श्रेया ने डोनर सचिन, अस्पताल और डॉक्टर्स का शुक्रिया भी अदा किया.

 

Source : thequint

Posted in HEALTHComments (0)

Heart को रखना है अगर Healthy, तो अपनी दिनचर्या में शामिल करें ये आसान उपाय

इंसान दिल से रूमानी तौर पर जुड़ा हुआ है. शायरों ने दिल की धड़कनों को महबूबा के साथ जोड़ दिया, दिल और दिमाग को इत्तेफ़ाकन दो रस्ते बता दिया. इसके अलावा डॉक्टर लोगों ने गहरी रिसर्च करने के बाद पता लगाया कि भईया दिल जो है शरीर का सबसे ज़रूरी हिस्सा है.

चलिए छोड़िए… अब ज़रा दिल की बात को दिमाग से करते हैं. आये दिन हार्ट अटैक के मरीज़ बढ़ते जा रहे हैं. इसके पीछे कारण एक हो तो बात करें. इसके पीछे कई कारण हैं. उन कारणों को साइड में रखकर हृदय को सेहतमंद रखने की बात पर जोर दिया जाये तो बेहतर होगा.

1. रोज करें योगा

सुबह योगा करने से आपका हार्ट सही रहता है. इसीलिए शुरु कर दीजिए. आसन बहुत से हैं. सबसे बेहतर अनुलोम-विलोम है.

Source: Isow

2. स्वीमिंग करें

स्वीमिंग करने से हृदय स्वस्थ्य रहता है. इससे आपके हृदय को मजबूती भी मिलती है. इसके साथ-साथ मांसपेशियों को मजबूत करने में भी ये बहुत सहायक साबित होती है.

Source: Gocentury

3. सीढ़ियां चढ़ें

लाइफ बड़ी ही व्यस्त है. आज लोग लिफ्ट का ज़्यादा इस्तेमाल करते हैं, लेकिन अगर सीढ़ियों का इस्तेमाल करोगो तो हार्ट सही रहेगा.

Source: Flowclothing

4. हरी सब्जियों का सेवन करें

हरी सब्जियों में उचित मात्रा में प्रोटिन और फाइबर पाये जाते हैं. इसी लिए हरी सब्जियों को धो कर, गर हो सके तो गर्म पानी से धोकर उसका सेवन करें.

Source: Flowclothing

5. ज़्यादा खाना ना खायें

ज़्यादा खाना खाने से बेहतर है कि खाने को थोड़ा-थोड़ा खायें और कई बार में खायें. इससे आपकी पाचन क्रिया और हृदय पर बुरा असर नहीं पड़ेगा.

Source: Hercampus

6. नमक का सेवन कम करें

नमक शरीर में कॉलेस्ट्रोल बढ़ाता है. और ये कॉलेस्ट्रोल हृदय के लिए खतरनाक साबित हो सकता है. बेहतर ये है कि साधारण नमक के मुकाबले सेंधा नमक इस्तेमाल करें.

Source: English

7. सिगरेट छोड़ दें

गर आप सिगरेट पीते हैं तो जितनी जल्द हो सकता है उसे त्याग दें, क्योंकि ये आपके हृदय को सबसे ज़्यादा नुकसान पहुंचाती है.

Source: Diprojects

8. Stress ना लें

टेंशन किसको नहीं है? हर कोई किसी ना किसी टेंशन से ग्रस्त है. बेहतर ये है कि अपनी टेंशन का प्रभाव अपने हृदय पर ना पड़ने दें.

Source: Livesstrong

9. खाने में फाइबर से जुड़ी चीज़ें खायें

गर आप अपने खाने में फाइबर वाली चीज़ें शामिल कर लेते हैं, तो ये आपके हृदय की उम्र बढ़ा सकता है. मसलन लीची, हरी सब्जियां और फल, दालें आदि.

Source: Livestrong

10. मुस्कुरायें

हंसी, मुस्कान हर दिक्कत को दूर भागा सकती है. चेहरों पर चढ़ा तनाव आपके हृदय में कभी भी उतर सकता है. इसके लिए बेहतर है कि हंसते रहें और हंसाते रहें.

Souurce: Kingofwallpaper

एक बात और याद रखिए कि आज कल हृदय दान भी किया जाता है. अपने शरीर के इस अंग को मरने के बाद दान कर आप किसी को शिद्दत से अपना दिल दे सकते हैं.

Posted in HEALTHComments (0)

नयी थेरेपी के कारण से 15 साल से कोमा में जी रहे मरीज़ को आया होश

फ़्रांस के 35 वर्षीय आदमी के परिवार के लिए वो एक भावुक करने वाला क्षण था, जब उसकी आंख से एक आंसू टपका था. ये आदमी पिछले 15 सालों से कोमा में था.

ब्रिटेन की राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) के अनुसार, अचेतन अवस्था में इंसान जगा हुआ तो होता है, लेकिन इसका कोई संकेत नहीं दे पाता.


'Current Biology' जर्नल के अनुसार, इस आदमी को न्यूरोसर्जन द्वारा Nerve Stimulation थेरेपी देने के कारण होश आ पाया है. VNS (Vagus Nerve Stimulation) का इस्तेमाल पहले से मिर्गी और अवसाद के इलाज के लिए किया जाता रहा था. अब पाया गया है कि ये थेरेपी कोमा के इलाज में भी कारगर हो सकती है.

माना जाता था कि 12 महीने से ज़्यादा कोमा में रहने के बाद मरीज़ का ठीक हो पाना लगभग नामुमकिन होता है. Vagus नस दिमाग़ को शरीर के कई हिस्सों से जोड़ती है. ये चलने, अलर्ट होने जैसे कई कामों को नियंत्रित भी करती है.

ये थेरेपी कितनी कारगर है, ये जानने के लिए वैज्ञानिकों ने एक मुश्किल केस लिया था. इस थेरेपी के एक महीने बाद ही मरीज़ की हालत में सुधार होने के संकेत मिलने लगे. वो आंखों की पुतलियां घुमाने लगा, अपना सिर हिलाने लगा और अपनी आंखें भी खोलने लगा. उसके दिमाग में भी हलचल होने के संकेत मिले हैं.

इस केस स्टडी के बाद कहा जा सकता है कि अब कोमा में जा चुके मरीज़ों का इलाज होना भी संभव हो सकेगा. 

Source: Timesnownews

Posted in HEALTHComments (0)

पीएम मोदी को लिखी इस चिट्ठी से मचा योगी सरकार में हडकंप, अधिकारियों को दिए गये निर्देश

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते है. लोगो की चिट्ठियों का जवाब भी देते है. कई बार कई बच्चो ने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर अपनी अपनी समस्याओं से अवगत कराते है और प्रधानमंत्री कार्यालय से इन चिट्ठियों का जवाब भी दिया जाता है. इसी तरह सराहनपुर की रहने वाली 6 साल की बच्ची ने जब अपनी समस्या को लेकर प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखी उसके बाद जो हुआ उसकी कल्पना बच्ची ने भी नही की होगी. बच्ची की चिट्ठी इस समय सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है.

Source

दरअसल सराहनपुर की रहने वाली एक 6 साल की बच्ची ने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखी कि उसके पिता एक एक्सीडेंट के कारण पिछले साल से कोमा में चले गये है. उसके घर में अब पिता के इलाज के लिया क्या खाने तक के लिए कुछ नही बचा है. 6 साल की बच्ची ईशु ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर पिता के इलाज के लिए मदद के लिए गुहार लगायी. ईशु के पिता अरुण कुमार का एक साल पहले एक्सीडेंट हो गया था तब से वो कोमा में हैं.

बच्ची के पत्र लिखने के बाद प्रदेश केमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरहानपुर के जिलाअधिकारी को अरुण कुमार का इलाज कराने का आदेश दिए हैं.गंगोह ब्लाक के अलीपुरा निवासी अरुण फोटोग्राफर का काम करते थे. करीब एक साल पहले जब वो फोटोग्राफी करके वापस लौट रहे थे तो उनकी बाइक को ट्रेक्टर ने टक्कर मार दी थी जिसमें अरुण बुरी तरह घायल हो गये थे उसके बाद वो कोमा में  चले गये थे.

View image on TwitterView image on Twitter

 Follow

CM Office, GoUP @CMOfficeUP

 श्री  ने जिलाधिकारी सहारनपुर को श्री अरुण कुमार के उपचार की अविलम्ब व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

Twitter Ads info and privacy

 

एक साल से इलाज करवा रहे परिवार की सारी जमा पूंजी ख़त्म हो चुकी हैं. पैसा ख़त्म होने के बाद अरुण को परिवार घर ले आया. बच्ची ने पड़ोस की टीवी में प्रधानमंत्री को सुन रही थी वहीँ उसके मन में विचार आया और उसने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर मोदी जी से गुहार लगाई जिसके बाद प्रदेश सरकार हरकत में आई और जिलाधिकारी को तत्काल अरुण के इलाज के लिए व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं.

 

Posted in HEALTHComments (0)

अगर आपकी दवाई पर भी है ये निशान तो संभल जाएँ, मिनिस्ट्री ऑफ़ हेल्थ ने ज़ारी किया है ये सन्देश !

आज के जीवन में शायद ही कोई ऐसा इंसान होगा जो दवाई ना लेता हो, अंतर सिर्फ इतना है कि कुछ लोग डॉक्टर की सलाह से दवाई लेते हैं तो कुछ लोग बिना किसी से पूछे यानी अपनी डॉक्टरी के अनुसार दवाई ले लेते हैं. अब हम आपको एक ऐसी खबर बताने वाले हैं जिसे पढ़ने के बाद आप कोई भी दवाई लेने से पहले दस बार सोचेंगे.

source

 

दरअसल मिनिस्ट्री ऑफ़ हेल्थ ने खुद एक ट्वीट करते हुए ये कहा है कि अगर आप वो दवाई जिनके पीछे लाल लकीर है उन्हें बिना डॉक्टर की सलाह के लेते हैं तो सावधान हो जाएँ. ऐसी दवाई डॉक्टर से बिना पूछें ना लें.

source

 

आपको बता दें लाल निशान का मतलब है कि आपको दवाई डॉक्टर से ही पूछकर लेनी है और कोर्स पूरा करना है.

 

 

तो आपको हम भी यही सलाह देते हैं कि किसी भी दवाई को बिना डॉक्टर की सलाह के ना लें.

क्या आप जानते है दवाई के पत्ते पर क्यों होती है खाली जगह ?

क्या आप लोग जानते है कि दवाई के पत्तों में खाली जगह क्यों होती हैं ? वो गोली के आकार की खाली जगहें जिसमे दवाइयां नहीं होती.

source
source

आप को भी लगता होगा की जब इसमें दवाइयां नहीं होती तो इन खाली जगह को बनाते क्यों हैं l आईये आपको इसके बारे में कुछ जानकारियां देते हैं l

यह खाली स्पेसेस गोलियों के साथ जुड़े होते हैं, इनकी मदद से दवाइयां आपस में नहीं मिलती और केमिकल दुश्र्प्रभाव होने से बचता हैं l

Capture-1

यह दवाइयों को बचाए रखने के लिए होते हैं l दवाइयों को लाने में और ले जानें में कोई नुक्सान ना हो इसलिए भी यह खाली जगहें बनी होती हैं l  यह दवाइयों के लिए Cushioning effect की तरह हैं इससे दवाइयां ख़राब नहीं होती हैं l

 

ऐसे में पत्ते के पीछे प्रिंट की जाने वाली ( तारीख, एक्सपायरी ) आदि को छापने के लिए जगह की ज़रूरत होती हैं इसलिए खाली जगहें बनाईं जाती हैं l

इसके अलावा दवाइयों के पत्तों को काटते समय दवाई को नुक्सान से बचाने के लिए और सही डोज दिखाने के लिए यह खाली जगहें बनाईं जाती हैं l

अब आपको दुबारा दवाई के पत्तों में खाली जगहें को देखकर फिर से यह नहीं सोचना पड़ेगा की यह खाली जगहें क्यों होती हैं l

Posted in EDUCATION, HEALTHComments (0)

देश के सबसे फ़िट आईपीएस ऑफ़िसर, सचिन अतुलकर

पुलिसकर्मियों में फ़िटनेस एक समस्या है. घड़े के पेट जैसे कई पुलिसकर्मी आपने भी देखे होंगे. लेकिन एक पुलिसकर्मी ऐसा भी है जो बड़े-बड़े बॉलीवुड स्टार्स को भी टक्कर दे सकता है. ये पुलिसकर्मी न सिर्फ़ फ़िट हैं, पर इनके गुड लुक्स भी किसी भी बॉलीवुड हीरो को देती है. हम बात कर रहे हैं सचिन अतुलकर की, जिन्होंने पहले ही Attempt में सिविल सर्विसेज़ की परिक्षा उत्तीर्ण कर ली थी.


आम लोगों के लिए Gym जाना या योग करना ज़्यादा एहमियत नहीं रखता, पर पुलिसकर्मियों और सीमा सुरक्षा पर तैनात जवानों के लिए फ़िट रहना बहुत ज़रूरी है. एक IPS अधिकारी बनने के लिए भी फ़िटनेस बहुत ज़रूरी है. अगर आप फ़िट नहीं हुए तो आईपीएस अधिकारी बनने का सपना कभी पूरा नहीं हो सकता.

ADVERTISEMENT


सचिन ने स्पोर्टस में भी कई मेडल्स हासिल किए हैं. अपने व्यस्त दिनचर्या में वे फ़िटनेस पर भी ख़ास ध्यान देते हैं.

गौरतलब है कि सचिन पर, अपहरण के आरोपी 3 दलितों पर 3rd डिग्री टॉर्चर का प्रयोग करने के लिए Show-Cause Notice दिया गया था. उस समय वे मध्य प्रदेश के सागर ज़िले के एसपी थे.

ADVERTISEMENT
वर्तमान में सचिन, उज्जैन के एसपी के पद पर कार्यरत हैं. जो विद्यार्थी आईपीएस बनने का सपना देख रहे हैं उन्हें सचिन से प्रेरणा लेनी चाहिए.


Image Source: Facebook

Article Source: Unite for India

Posted in HEALTHComments (0)

पाकिस्तानी लड़की ने एक पल में खोल दी पाकिस्तान और चीन की झूठी दोस्ती की पोल और बताया…

अब ये बात जग जाहिर है कि भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज  हर वक्त लोगों की मदद के लिए तैयार रहती हैं, चाहे वो लोग भारतीय हों या पाकिस्तानी. पिछले कुछ दिनों में कई पाकिस्तानी लोगों ने सुषमा स्वराज को ट्वीट करके मदद मांगी थी और सुषमा स्वराज ने बिना कुछ सोचे समय रहते सबकी मदद की है.  हाल ही में एक बार फिर एक ऐसा मामला सामने आया है जब एक पाकिस्तान महिला ने सुषमा स्वराज से ट्वीट करके एक पाकिस्तानी लड़की ने इलाज के लिए भारत आने का वीजा मांगा जिसके जवाब में एक शख्स ने कहा कि चीन चले जाओ, वो तो तुम्हारे दोस्त हैं ना. जिसके बाद…

पाकिस्तानी महिला ने ट्वीट करके मांगी मदद..

दरअसल पाकिस्तान की एक लड़की जो इस वक़्त कैंसर से जूझ रही पाकिस्तानी छात्रा फाइजा तनवीर ने भारत आने की गुहार लगायी. फाइजा ने अपने ट्वीटर पर लिखा कि, “सियासतदानों के निकट होंगे तो होंगे चीनी, अवाम को तो हिंदुस्तानी अपने अपने लगते हैं.”

मुंह के कैंसर से जूझ रही पाकिस्तानी लड़की फाइज़ा

जिसपर एक शख्स ने ट्वीट करके फाइजा को सलाह दी  कि जब भारत उसे वीजा नहीं दे रहा तो वह अपने इलाज के लिए चीन क्यों नहीं चली जाती? चीन तो पाकिस्तान का दोस्त देश है ना?

 Follow

Faiza Tanveer @FaizaTanveer8

@SushmaSwaraj please maa meri help krain 00923355255999

Twitter Ads info and privacy

 

ऐसे में फाइजा ने जवाब में लिखा कि, “आपकी जानकारी के लिए बता दें कि चीनियों से हमारा कुछ नहीं मिलता है.  ना हमारी भाषा एक है, ना हमारे रीति रिवाज. लेकिन बात करें अगर हिंदुस्तानियों की बोली भाषा से लेकर, उनकी शक्लें भी हमारे जैसी हैं. हिंदुस्तान में रिश्तेदारियां हैं, शादियों ब्याहों में आना जाना है. दोनों मुल्कों में रोटी बेटी के रिश्ते हैं.

source

ख़बरों के मुताबिक लाहौर की 25 साला फाइजा तनवीर को जबड़े का कैंसर है. ऐसे में फाइज़ा अपना इलाज करने के लिए भारत आना चाहती है पर दोनों देशों के बीच तनावपूर्ण बने रिश्ते के चलते उसे वीजा फिलहाल नही मिल पा रहा है. बताया जा रहा है कि फाइजा ने सोशल मीडिया से फोन नंबर ढूंढकर भारत में अनेक पत्रकारों व राजनीतिज्ञों को वीडियो क्लिप भेजें हैं तथा उसने भारत आने के लिए मेडिकल वीजा दिलाए जाने के लिए मदद मांगी है.

source

पाकिस्तानी विदेश मंत्री सरताज द्वारा अपनी ही एक नागरिक के लिए पत्र लिखने में हिचकने पर फाइजा ने लिखा कि पाकिस्तान दी रियाया चों इक बंदी घट्ट वी हो जाएगी तां सरताज अजीज साब नूं कोई फरक नहीं पैंदा. फाइजा ने निराश लफ्जों में कहा कि वे तो पाकिस्तान की रहने वाली हैं. अजीज साहब उसकी हालत पर रहम नहीं कर रहे.

source

कुलभूषण मसले पर फाइज़ा ने कहा कि

वहीँ सवाल जब पाकिस्तान की जेल में कैद कुलभूषण जाधव की मां के वीजे को लेकर उठा तो फाइजा ने कहा कि कुलभूषण जाधव का मामला एक राजनीतिक मामला है. ऐसे में उन्हें इसकी कोई ज्यादा समझ नहीं है. हाँ लेकिन उन्हें इतना पता है कि एक मां अगर अपने बेटे से मिलने आना चाहती है तो उसे आने देना चाहिए.

source

POK के नागरिक ने मांगी इजाज़त तो सुषमा स्वराज ने कहा, इजाज़त की जरुरत नहीं इलाका..

भारत ने बहुत कोशिश की पाकिस्तान के साथ दोस्ती करने की लेकिन पाकिस्तान ने भारत को हर बार धोखा ही दिया. जब भारत ने उससे रिश्ते बेहतर करने की कोशिश की तब-तब उसने भारत पर जंग थोप दी. हालांकि हर बार उसे मुंह की खानी पड़ी लेकिन अगर वो इस तरह के मुर्खतापूर्ण कदम नहीं उठाता तो कई सैनिकों की जानें नहीं जाती. उसकी नापाक हरकतों की वजह से न केवल भारत बल्कि पाकिस्तान के लोगों को भी परेशानी झेलनी पड़ी.

source

कश्मीर मुद्दे पर सुषमा ने दिया बयान 

पाकिस्तान बनने के बाद से ही वहां के हुक्मरानों ने कश्मीर का मुद्दा उछालना शुरू कर दिया. कश्मीर में घुसपैठ भी करवाई और कश्मीर के एक हिस्से पर जबरन अपना अधिकार जमाने लगा. इसके बाद भी उसकी लालसा कम नहीं हुई पाकिस्तान आज तक भी भारत के कश्मीर को लेकर पाकिस्तान के लोगों को मुर्ख बनाता है और उनकी भावनाओं के साथ खेलता है. अब भारत भी पाकिस्तान के रवैये को लेकर आक्रामक रुख अपनाने लगा है, अब भारत ने पाकिस्तान को बड़े भाई की तरह समझाना बंद कर दिया है. अब भारत भी खुलकर अपने हिस्सों को लेकर बात कर रहा है. इसका ही एक नज़ारा हाल ही में देखने को मिला.

दरअसल भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाक के कब्जे वाले कश्मीर (POK) के निवासी को भारत के मेडिकल वीज़ा के लिए सरताज अजीज की चिट्ठी की अनिवार्यता को समाप्त कर दिया है. सुषमा ने ट्वीट के जरिये ये बात रखी. उन्होंने लिखा POK के व्यक्ति को भारत आने के लिए अनुमति होगी, क्योंकि पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है.

source

ओसामा अली जो कि पाक अधिकृत कश्मीर के रावलकोट में रहते हैं ने अपना इलाज़ दिल्ली में करवाने के लिए अनुमति मांगी. जिसके बाद सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर के कहा कि POK भारत का अभिन्न अंग है और पाकिस्तान ने गैरकानूनी तरीके से इस पर कब्जा किया है. हम उसे वीज़ा दे रहे हैं और किसी प्रकार की चिट्ठी की जरुरत नहीं है. अली के परिवार की तरफ से सिफारिश की गई थी कि मेडिकल वीज़ा के लिए सरताज़ अजीज की सिफारिशी चिट्ठी की अनिवार्यता खत्म की जाए.

 

source

पाकिस्तान की बोलती बंद करने के लिए भारत अपना रहा है कड़ा रुख

आपको बता दें कि कुछ समय पहले ही सुषमा स्वराज ने कहा था कि अजीज ने उनके निजी खत पर कोई संज्ञान नहीं लिया, जिसमें उनके द्वारा कुलभूषण जाधव की मां के लिए पाकिस्तानी वीजा देने की बात कही गई थी. इसके बाद सुषमा स्वराज ने अपनी नाराजगी भी ज़ाहिर की थी.

source

भारत और पाकिस्तान के बीच बहुत लम्बे समय से कश्मीर को लेकर विवाद है. ये बात तो स्पष्ट है कि कश्मीर भारत का ही हिस्सा है और पाकिस्तान उसपर अपना झूठा दावा जताता है. भारत अब तक तो पाकिस्तान को अपना हमशाया समझकर माफ़ कर देता था लेकिन अब पाकिस्तान ने भारत के सब्र के सारे बाँध तोड़ दिए हैं, इसलिए भारत भी अब खुलकर उसके खिलाफ़ आ गया है. पाकिस्तान की बोलती बंद करने के लिए भारत अब आक्रामक रुख अपनाने लगा है. पाकिस्तान आए दिन सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है और भारत भी उसको मुंहतोड़ जवाब दे रहा है. सुषमा स्वराज के ट्वीट से साफ़ जाहिर हो जाता है कि अब भारत पाकिस्तान को चालाकी करने का कोई मौका नहीं देगा.

Posted in HEALTH, INDIAComments (0)

WORLD HEPATITIS DAY – हर साल मरते है करीब 6 लाख लोग…!

भारत में वायरल हेपेटाइटिस सेहत के लिए एक चुनौती बन गया है, जिसमें हेपेटाइटिस-बी सबसे ज्यादा फैलने वाली बीमारी है। भारत के लोगों में तीन से पांच फीसदी लोग हेपेटाइटिस-बी की बीमारी से लड़ रहे है। दुनिया में हर साल 28 जुलाई को मनाए जाने वाला ‘वर्ल्ड हेपेटाइटिस-डे’ का इस बार का मेन टॉपिक ‘एलिमिनेट हेपेटाइटिस’ यानी हेपेटाइटिस को खत्म करना रखा गया है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक जानकारी सामने आयी है कि भारत जैसे देश में हेपेटाइटिस-सी की बीमारी अब महामारी का रुप ले सकती है। WHO (वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन) का मानना है देश में हेपेटाइटिस-सी से करीब सवा करोड़ लोग बीमार है, लेकिन इस बीमारी में सबसे बड़ी जो परेशानी है वो ये है कि इस बीमारी में लंबे समय तक बीमारी के कोई लक्षण दिखाई नहीं देते जिससे मरीज के अंदर वायरस होने के बाद भी इसका पता नहीं चल पाता। जब तक बीमारी पता लगती है तब काफी देर हो जाती है। क्योंकि तब तक इंसान का लीवर खराब हो चुका होता है। अगर हेपेटाइटिस-सी से पीड़ित मरीज का खून किसी स्वस्थ इंसान के शरीर में चढ़ाया जाए तो इससे भी यह बीमारी फैलती है। साथ ही नशेड़ियों में एक ही सीरिंज के इस्तेमाल और कुछ लोगों में असुरक्षित यौन संबंध बनाने से भी हेपेटाइटिस-सी फैलता है।

सबसे बड़ी बात ये है कि हेपेटाइटिस-सी सबसे ज्यादा उन लोगों में पाया जा रहा है, जिन्हें एचआईवी की बीमारी है। इसके बावजूद देश में इस बीमारी से जूझ रहे लोगों की पहचान के लिए कोई खास कदम नहीं उठाया गया है। मीडिया से बातचीत के दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन से बातचीत के दौरान उन्हें कुछ सवाल भेजे गए जिनका सरकार की तरफ से कोई जवाब नहीं आया है।

वर्ल्ड हेपेटाइटिस डे हर साल इस मकसद से मनाया जाता है कि लोगों को इस बीमारी के बारे में ज्यादा से ज्यादा जागरुक किया जा सके। बताया जा सके कि कैसे हेपेटाइटिस को रोका जा सकता है, कैसे इसका इलाज किया जा सकता है। हेपेटाइटिस एक ऐसी फैलने वाली बीमारियों का समूह है जिसे हेपेटाइटिस ए, बी, सी, डी और ई के नाम से जाना जाता है।

हेपेटाइटिस के लक्षण

डॉ मोनिका जैन ने बताती है, ‘भारत उन 11 देशों में से एक है, जो पूरी दुनिया में मौजूद हेपेटाइटिस के मरीजों का करीब 50 फीसदी बोझ उठा रहे है। भारत में हेपेटाइटिस फैलने की असल वजह मां से बच्चे में वायरस का पहुंचना है। इस बीमारी के सबसे आम लक्षणों में स्किन या आंखों के सफेद हिस्से का पीला पड़ जाना, भूख न लगना, उल्टी का आना, बुखार और थकान जो हफ्तों भर या महीनों तक शरीर में रहती है। ऐसे समय पर किसी स्पेशल डॉक्टर के पास तुरंत जाना चाहिए क्योंकि इस बीमारी में आपकी जरा सी लापरवाही आपके लिए जानलेवा साबित हो सकती है।

ध्यान रखने वाली बातें

मॉनसून के समय यह बीमारी अधिक फैलती है, इसलिए इस मौसम में तैलीय, मसालेदार, मांसाहारी और भारी खाने-पीने की चीजों से परहेज करना चाहिए। पॉलिश किए हुए सफेद चावल, डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ, केक, पेस्ट्रीज, चॉकलेट्स, एल्कोहोलिक पेय पदार्थ से दूरी बनानी चाहिए और इनकी जगह पर शाकाहारी खाना जैसे ब्राउन राइस, हरी पत्तेदार सब्जियां, पपीता, खीरा, सलाद, नारियल पानी, टमाटर, पालक, आंवला, अंगूर, मूली, नींबू, सूखे खजूर, किशमिश, बादाम और इलायची का भरपूर सेवन करना चाहिए।’

Posted in HEALTHComments (0)

इस फ़ोटोग्राफ़र को 20 साल का लड़का समझ कर दिल देने की ग़लती मत करिएगा, इनकी असली उम्र 50 साल है

कुछ लोगों को देखकर ऐसा लगता है कि मानों उनकी बढ़ती उम्र थम सी गई है. ऐसे लोग जब हमारी नज़रों के सामने होते हैं, तो मन में एक ही सवाल आता है कि यार ये ख़ुद को इतना Maintain कैसे रखते हैं. इतना ही नहीं, कुछ लोग 50 की उम्र के होकर भी 20 साल के दिखते हैं. इसका जीता-जागता सबूत है, सिंगापुर के फ़ोटोग्राफ़र Chuando Tan.

इंस्टाग्राम पर Chuando Tan के 160K फ़ॉलोअर्स हैं. Chuando को देखकर आप उनकी असली उम्र का अंदाज़ा नहीं लगा सकते. Chuando की असली उम्र 50 साल हैं, लेकिन वो देखने में बिल्कुल 20 साल के लड़के की तरह दिखते हैं. 50 साल के इस शख़्स को देखकर कोई भी लड़की अपना दिल दे बैठेगी.

सभी की तरह आपके मन में भी ये ख़्याल आ रहा होगा कि भाई ये कैसे संभव है, तो हम आपको बताते हैं क्या है Chuando की इस फ़िटनेस का राज़. Chuando सुबह जल्दी और रात में देर से नहाना Avoid करते हैं. वो रोज़ाना Hainan चिकन खाते हैं. Chuando हर हफ़्ते के कई घंटे जिम में ही बिताते हैं. Chuando की एक ख़ास बात और है कि सामने वाला शख़्स उनसे कितना ही अच्छा क्यों न हो, वो कभी किसी से ईर्ष्या नहीं करते.

1. इस फ़ोटो को देखकर कौन य़कीन करेगा कि ये शख़्स 50 साल का है.


2. देखा लग रहा है न 20 साल का लड़का!


3. Chuando की बढ़ती उम्र मानों थम सी गई है.


4. Chuando 80s और 90s में सिंगापुर के पॉपलुर मॉडल भी रह चुके हैं.


5. फ़ोटोग्राफ़र बनने से पहले Chuando सिगिंग भी कर चुके हैं.


6. OMG! चेहरे की चमक तो देखो.


7. क्या बात है.


8. कैसे कर लेते हो भाई!


9. असल में ऐसे हैं महाशय.


10. लगे रहो.


11. आपके फ़िटनेस की जितनी तारीफ़ हो, कम है.


12. लोगों को आपसे कुछ सीखना चाहिए.


13. आपको देखकर लगता है, ख़ुदा आप पर कुछ ज़्यादा ही मेहरबान है. 


 

Source : boredpanda

Posted in ENTERTAINMENT, HEALTHComments (0)

बिना जिम जाये ही मिलिंद सोमन ने कैसे हासिल की ग़ज़ब की फ़िटनेस

मिलिंद सोमन उन कलाकरों में से एक हैं, जो उम्र के 50वें पड़ाव पर होने के बावजूद बिलकुल फ़िट दिखाई देते हैं. आज जब उनके कई हम उम्र स्टार फ़िल्म और टीवी सीरियल चाचा और बड़े भाई का किरदार निभाते हुए दिखाई हैं. वहीं मिलिंद सोमन नंगे पांव धूप में दौड़ते हुए दिखाई देते हैं.


9 की उम्र में मिलिंद नेशनल स्विमिंग के चैंपियन बन चुके थे, 23 साल की उम्र तक वो लगातार स्विमिंग से जुड़े रहे, पर 23 साल की उम्र उन्होंने हर तरह के स्पोर्ट्स से दूरी बना ली और 38 साल की उम्र तक इससे दूरी बनाये रखी. इसके बावजूद उनकी फ़िटनेस में कोई कमी नहीं आई. हाल ही में हिंदुस्तान टाइम्स को दिए गए अपने इंटरव्यू में मिलिंद ने अपनी फ़िटनेस संबंधी कुछ ऐसे ही राज दुनिया के सामने रखे.


इस इंटरव्यू में मिलिंद ने बताया कि वो अपनी ज़िंदगी में कभी जिम नहीं गए. मिलिंद के मुताबिक, जिम सिर्फ़ वो लोग जाते हैं, जिन्हें बॉडी-बिल्डिंग का शौक है. फ़िटनेस के लिए शायद ही कोई जिम जाता है. मिलिंद रात 10:30 तक सो जाते हैं और सुबह 5 बजे तक अपना बिस्तर छोड़ देते हैं और जब भी वक़्त मिलता है दौड़ने के लिए निकल जाते हैं.

इसके अलावा मिलिंद अपने खाने को ले कर सजग रहते हैं. वो मीठे में सिर्फ़ शहद लेते हैं. इसके अलावा वो पैक्ड फ़ूड से हमेशा दूर रहते हैं.

सिर्फ़ मिलिंद ही नहीं, बल्कि उनकी माता जी भी फ़िटनेस की काफ़ी शौक़ीन रही हैं, जो कभी उनकी तरह ही उनके साथ दौड़ती हुई दिखाई देती हैं. हाल ही में मिलिंद की माता जी अपनी फ़िटनेस से एक बार फिर इंटरनेट सेंसेशन बन गईं. दरअसल, उन्होंने लगातार 80 सेकंड तक खुद को एक ही मुद्रा में रखा, जिसकी लोगों ने काफ़ी तारीफ़ की थी.

 

 

Source: HT

Posted in ENTERTAINMENT, HEALTHComments (0)

अब ब्रश के लिए मेहनत नहीं करनी होगी, इस आॅटोमैटिक टूथब्रश ‘Amabrush’ से 10 सेकंड में चमकेंगे दांत

वो वक़्त शायद लद जाए जब हम टूथपेस्ट में नमक के लिए परेशान रहते थे. जल्द ही दुनिया को एक आधुनिक टूथब्रश मिलने वाला है, जिसमें पेस्ट नहीं लगता, न ही इसके लिए आपको अपने हाथों को ज़ोर देना पड़ेगा. 'Amabrush' नाम का ये टूथब्रश, जो मात्र 10 सेकंड में आपके सारे दांत साफ़ कर देगा.


ये देखने में नकली दांत जैसा है, जो आसानी से आपके दांतों में फ़िट हो जाता है. इसके बाद इसमें लगे बटन को आपको आॅन कर देना है, बाकी काम ये खु​द कर लेगा. इसके तार काफ़ी मुलायम हैं, जिससे आपके मसूड़ों को नुकसान न पहुंचे. इसमें लगा वाइब्रेटर दांतों को पूरी तरह साफ़ करता है.


इसके आविष्कारक का दावा है कि ये बैक्टीरिया-प्रतिरोधी सिलिकॉन से बना है, जो इसे आम टूथब्रश से बेहतर बनाता है. वो ये भी दावा करते हैं कि ये आपकी ज़िन्दगी के 100 दिन बचाता है.आप सोच रहे होंगे कैसे? दरअसल इस टूथब्रश को बनाने वालों को कहना है कि कोई भी व्यक्ति कम से कम दो मिनट तक अपने दांत साफ़ करता है, जबकी ये सिर्फ़ 10 सेकंड में आपके दांत पूरी तरह साफ़ कर सकता है. इसमें कोई आम टूथ पेस्ट नहीं लगता, बल्कि एक अनोखा टूथ पेस्ट कैप्सूल लगता है.



इस Amabrush की कीमत 70 पाउंड यानि करीब 5836 रुपये होगी और कैप्सूल की कीमत 2.60 पाउंड यानि करीब 270 रुपये/पैकट होगी, जो एक महीने चलेगा.


ये Amabrush दिसंबर में लॉन्च होगा. 

Posted in HEALTHComments (0)

OMG अगर आप भी चाहते है की शराब पीने के बाद आपके पेट में भी ऐसा छेद न हो तो ये खबर सिर्फ आपके लिए है

कहते हैं कि रेस्टोरेंट या बाहर कहीं भी कुछ नया ट्राई करने से पहले अच्छी तरह उसकी जानकारी होना बहुत ज़रूरी है, वरना लेने के देने पड़ सकते हैं. कुछ ऐसा ही हुआ दिल्ली के 30 साल के एक शख़्स के साथ.

ये शख़्स गुरुग्राम के एक पब में जाता है और अपने लिए कॉकटेल ऑर्डर करता है. देखने में ये ड्रिंक काफ़ी खूबसूरत लग रही होती है और उसमें से सफ़ेद धुआं निकल रहा होता है. वो शख़्स अपने ग्लास को उठाता है और एक बार में पूरी ड्रिंक खत्म कर देता है. थोड़ी देर बाद उसके पेट में काफ़ी तेज़ दर्द शुरू होता है और सांस लेने में तकलीफ़ होने लगती है. वो गुरुग्राम के एक हॉस्पिटल पहुंचता है और उसकी हालत देख कर डॉक्टर उसकी सर्जरी करते हैं.

Source: HT

सर्जरी के दौरान डॉक्टर्स ने जो देखा उससे उनके होश उड़ गए. डॉक्टर्स ने बताया कि उन शख़्स पेट में एक बड़ा छेद हो गया था. लेकिन सवाल ये था कि ऐसा क्या था उस ड्रिंक में जो उस शख़्स के पेट का ये हाल हुआ.

दरअसल जो कॉकटेल उस शख़्स ने ऑर्डर की थी, उसे सजाने के लिए लिक्विड नाइट्रोजन का इस्तेमाल किया जाता है और इसकी वजह से उठ रहे धुंए के खत्म हो जाने के बाद इसे पीया जाता है. लेकिन शख़्स ने बिना इसकी परवाह किए वो ड्रिंक एक बार में पी ली.

Source: india

नाइट्रोजन का इस्तेमाल अक्सर तेज़ी से ड्रिंक्स को ठंडा करने के लिए किया जाता है. ये शरीर को काफ़ी ज़्यादा नुकसान पहुंचा सकती है. इस शख़्स के साथ जो हुआ वो इसके ख़तरनाक होने का प्रमाण है.

डॉक्टर्स ने उसे तीन दिन अपनी देख-रेख में रखा है. तीन दिन बाद शख़्स की तबीयत और उसके शरीर की हालत देखने के बाद उसे डिस्चार्ज कर दिया जाएगा.

Source: HT

Posted in HEALTH, INDIAComments (0)

WWE में हिस्सा लेने वाली पहली भारतीय महिला बन गयी हैं, हरियाणा की कविता देवी

WWE विश्व भर में प्रसिद्ध है, भारत में भी इसे लेकर काफ़ी क्रेज़ है. वो बात और है कि इसमें भारतीयों के नाम ज़्यादा सुनने को नहीं मिलते. अब तक ग्रेट खली और जिंदर महल जैसे चंद खिलाड़ी ही यहां तक पहुंच पाए हैं. अब इस लिस्ट में एक महिला का नाम भी शामिल हो गया है. हरियाणा की कविता देवी इसमें हिस्सा लेने वाली पहली महिला बन गयी हैं.

 Follow

WWE @WWEIndia

Do you think Kavita Devi aka Hard KD, known for her strength will make it all the way? @WWE  

Twitter Ads info and privacy

ग्रेट खली से Wrestling के गुर सीख चुकी कविता, Hard KD, Tessa Blanchard, Abbey Laith, Taynara Conti और Alpha Female के साथ इस इवेंट के लिए चुनी गयी हैं. इससे पहले कविता ने WWE Dubai Tryout में हिस्सा लिया था. अब वो जुलाई 13-14 को होने वाले इवेंट में हिस्सा लेने वाली हैं.

 Follow

WWE @WWEIndia

Check what Kavita Devi aka Hard KD has to say to all you members of @WWE Universe India  2017

Twitter Ads info and privacy

दक्षिण एशियाई खेलों की स्वर्ण पदक विजेता रह चुकी कविता देवी को 'माई यंग क्लासिक' के लिये चुना गया है, जो महिलाओं का पहला WWE टूनार्मेंट है.

कविता ने कहा कि मुझे खुशी है कि मैं पहली बार WWE महिला टूर्नामेंट में हिस्सा ले रही हूं. मैं भारतीय महिलाओं को अपने प्रदर्शन से प्रेरित करने का प्रयास करूंगी और इस मंच का उपयोग देश को गौरवान्वित करने के लिये करूंगी.

हम कविता को इस सफ़लता के लिए बधाई और आने वाले टूर्नामेंट के लिए शुभकामनाएं देते हैं. 

Posted in HEALTH, SPORTSComments (0)

महिला ने कार से उतर सड़क पर किया योग. योगा-डे पर इससे अच्छा क्या हो सकता है

आए दिन हम सभी को ट्रैफ़िक जाम का सामना करना पड़ जाता है. जाम में फंसने के बाद, टाइम पास करने के लिए हम या तो म्यूज़िक का सहारा लेते हैं, या फिर किसी से फ़ोन पर बात करने लग जाते हैं. ट्रैफ़िक जाम से बचने के लिए, फ्लोरिडा की एक महिला ने जो रास्ता ढूंढ़ निकाला है, वो करना हर किसी के बस की बात नहीं.

भीषण जाम को देखते हुए, ये विदेशी महिला कार से उतरी और योग मैट बिछा, बिना ज़माने की परवाह किए हुए बीच सड़क पर योग करने में जुट गई. इंटरनेशनल योगा दिवस मनाने का इससे अच्छा तरीका और क्या हो सकता था. क्रिस्टिन जॉन्सन नाम की महिला ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'मैं इस तरह अपने दिमाग़ से ट्रैफ़िक क्लियर कर रही हूं.' वहीं सोशल मीडिया पर क्रिस्टिन का भुजंग आसन चर्चा का विषय बना हुआ है.


क्रिस्टिन, मियामी न्यू टाइम्स में काम करती है. क्रिस्टिन बताती हैं, 'एक ट्रक के कारण सड़क पर भीषण जाम लगा हुआ था. अपने मन को शांत करने के लिए, मैनें कार की ख़िड़की से बाहर झांक कर देखा, तो नज़ारा काफ़ी शानदार था. बस फिर क्या था, मैं गाड़ी से उतरी और योग करना शुरू कर दिया.'

 

क्रिस्टिन को सड़क के बीचों-बीच योग करते देख, उनके आस-पास के लोग हैरान थे. वहीं कुछ लोग क्रिस्टिन की तस्वीर ख़ींचने में लगे हुए थे. वैसे ट्रैफ़िक जाम से बचने के लिए, ये आईडिया बुरा नहीं है.  

 

Source : indiatimes

Posted in HEALTH, WORLDComments (0)

योग दिवस के उपल्क्ष में मैराथान का किया आयोजन

अजेयभारत.कॉम /भिवानी/गुलशन महता/जिला प्रशासन व आयुष द्वारा भिवानी के भीम स्टेडियम में आज एक मैराथान का आयोजन किया गया । इस मैराथान में स्कूली बच्चों,खिलाडिय़ों,समाज के बुद्विजीवी वर्ग व आयोजको ने भी बढ़चढ़ कर भाग लिया । इस मौके पर अतिरिक्त उपायुक्त धिरेंन्द्र खडग़टा ने हरी झंडी दिखाकर मैराथान को रवाना किया ।

इस मौके पर अतिरिक्त उपायुक्त धिरेंन्द्र खडग़टा ने कहा कि इस मैराथान का आयोजन तीसरे अन्तराष्ट्रीय योग दिवस के उपल्क्ष में किया गया है । इसका मुख्य उदेश्य् आजकल के युवाओं में योग की जागृती लाना और स्वास्थ्य व खेल को बढ़ावा देना है ।

जिला आयुर्वेद अधिकारी डा० देवेन्द्र शर्मा ने कहा कि हर साल की तरह इस साल भी अन्तराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को मनाया जाएगा । यह अन्तराष्ट्रीय योग दिवस राधा स्वामी सतसंग भवन रोहतक गेट भिवानी में मनाया जाएगा । आज की मैराथान का आयोजन इसी के उपल्क्ष में किया गया है । उन्होने कहा कि समय – समय पर प्रशासन कि तरफ से उन्हे आदेश व मार्ग दर्शन मिलता रहता है । योग को जनमानस तक पहुंचाना ही उनका मुख्य उदेश्य् है ।

Posted in HEALTH, INDIAComments (0)

दिनेश वसिष्ठ ने सेक्टर -6 के कम्युनिटी सेंटर में अंतरास्ट्रीय योग दिवस का आयोजन किया

अजेयभारत.कॉम /गुरुग्राम /आर डव्लू ऐ सेक्टर 5 पार्ट -3 और 4 के सहयोग से अध्यक्ष दिनेश वसिष्ठ ने सेक्टर -6 के कम्युनिटी सेंटर में अंतरास्ट्रीय योग दिवस का आयोजन किया गया,इस योग विज्ञानं शिविर में सेक्टर वासियों काफी संख्या में हिस्सा लिया,लोगो को डॉक्टर सुनील आर्य ने योग करवाया और जीवन में योग के महत्व को बताया

Posted in HEALTH, INDIAComments (0)

तोंद कम हो जाएगी अगर नाश्‍ते में खाएंगे ये स्‍नैक

कई बार सुबह के समय आपको सबसे ज्यादा भूख परेशान करती है और ऐसे में आपको भूख के अलावा और कुछ नहीं सूझता। ऑफिस में होने पर खाना खाने के लिए आपको लंच टाइम का इंतज़ार करना ही पड़ता है। ऐसे में आप एक बार से ज्यादा लंच करने के बारे में सोच भी नहीं सकते खासतौर से जब आप वजन घटाने के लिए डाइट पर हों।

ऐसे में आप सुबह के समय वजन घटाने के लिए कोई स्‍वास्‍थ्‍यवर्द्धक स्‍नैक्‍स ले सकते हैं। ब्रेकफास्ट से लंच के बीच घंटों का अंतराल होता है और इसी समय में सबसे ज्यादा भूख लगती है। इस समय आपको कुछ गलत खाने की बजाय हैल्दी स्नैक्स लेने चाहिए।

अब आप सोच रहे होंगें कि भला हैल्दी स्नैक्स में क्या खाया जा सकता है। तो चलिए आपकी इस मुश्किल को दूर करते हुए आज हम आपको बताते हैं कि ब्रेकफास्ट से लंच के बीच लगने वाली भूख को हैल्दी स्नैक्स से कैसे दूर किया जा सकता है।

लंच से पहले भूख लगने पर आप ओवरईटिंग कर सकते हैं जिससे सिर्फ आपका वजन ही बढ़ेगा। वहीं लंच के बाद शाम तक कुछ न खाने की स्थिति में आपको शरीर कुपोषण का शिकार हो सकता है। इसके चलते आपका शरीर उस कैलोरी को खर्च करने लगता है जो उसे बचाकर रखना चाहिए। नाश्ते और लंच के बीच में हैल्दी स्नैक खाने से आपमें भरपूर एनर्जी बनी रहती है।

इसलिए लंच से पहले अपनी भूख को शांत करने के लिए आप ये हैल्दी स्नैक्स जरूर ट्राई करें। इन स्नैक्स ये आपके वजन में भी कमी आएगी। तो चलिए फिर जानते हैं इन हैल्दी स्नैक्स के बारे में।

 
 
 1. ग्रैनोला बार्स
 

VIDEO : Weight Loss Tips | Sleep more to eat less | सो कर घटाए वज़न

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

1. ग्रैनोला बार्स

 

 

ग्रैनोला बार्स में शुगर और कैलोरी की मात्रा काफी कम होती है। इसमें फाइबर के सात तरह के अनाज, 6 प्रकार के प्रोटीन, पांच तरह की शुगर होती है इसलिए वजन घटाने के लिए ये परफैक्ट स्नैक है।

 

 

 

 

 
2. चीज़ और एप्पल स्लाइस

 

 

2. चीज़ और एप्पल स्लाइस

 

 

ब्रेकफास्ट और लंच के बीच हैल्दी स्नैक में चीज़ सबसे बैस्ट ऑप्शन होता है। इसमें चार तरह के फाइबर और 70 कैलोरी होती है। साथ ही सेब से आपको फाइबर भी मिलता है। अगर आप वजन घटा रहे हैं या डाइट पर हैं तो ये स्नैक आपके लिए ही बना है।

 

 

 

 

3. भुने हुए छोले

 

 

3. भुने हुए छोले

 

 

एक कटोरी भुने हुए छोलों में आठ ग्राम प्रोटीन और 6 ग्राम फाइबर होता है। आप इस स्नैक को अपनी टेबल पर रखकर आराम से खा सकते हैं।

 

 

 

 

 
4. स्ट्रॉेबेरी और ग्रीक योगर्ट

 

 

4. स्ट्रॉेबेरी और ग्रीक योगर्ट

 

 

स्ट्रॉेबेरी और ग्रीक योगर्ट आपको एनर्जी से भर देता है। इस स्नैक में 20 ग्राम प्रोटीन होता है जिससे आपका पेट जल्दी भर जाता है। वहीं स्ट्रॉबेरी से प्रचुर मात्रा में प्रोटीन मिलता है।

 

 

 

 

 
5. पिस्ता

 

 

5. पिस्ता

 

 

पिस्ता में 6 ग्राम प्रोटीन और तीन ग्राम फाइबर होता है। ये स्नैक आपकी भूख को शांत करता है। साथ ही वजन घटाने के लिए ये सबसे सही स्नैक है।

 

 

 

 

 
6. उबले अंडे और आटा ब्रेड

 

 

6. उबले अंडे और आटा ब्रेड

 

 

अगर आपको ऑफिस में बहुत ज्यादा ही भूख लगती है तो आप दो उबले अंडे और आटा ब्रेड भी खा सकते हैं। ब्रेड के साथ अंडे खाने से आपको प्रोटीन, फैट और फाइबर तीनों एकसाथ मिल जाता है।

 

 

 

 

 
7. लो फैट कॉटेज चीज़ और केला

 

 

7. लो फैट कॉटेज चीज़ और केला

 

 

कॉटेज चीज़, प्रोटीन का बेहतर स्रोत है। एक चौथाई कप में दस ग्राम कॉटेज चीज़ होती है। वहीं एक केले में दस ग्राम फाइबर होता है जिससे पेट भरा रहता है। भूख मिटाने का इससे बेहतर हैल्दी तरीका आपको कोई और मिल ही नहीं सकता है।

 

 

 

 

 
8. क्रैकर्स और बादाम का मक्खन

 

 

8. क्रैकर्स और बादाम का मक्खन

 

 

क्रैकर्स में 60 कैलोरी और तीन ग्राम फाइबर होता है। आप इसके ऊपर बादाम का मक्खन या‍नि आल्मंड बटर भी लगा सकते हैं। इससे आपको प्रोटीन और हैल्दी फैट भी मिलता है।

 

 

 

 

 
9. चिकन एंड चीज़ लैटस रैप

 

 

9. चिकन एंड चीज़ लैटस रैप

 

 

अगर आप लो फैट स्नैक खाना चाहते हैं तो आपको चिकन एंड चीज़ लैटस रैप ट्राई करना चाहिए। इसमें 12 ग्राम प्रोटीन होता है। आप इसके ऊपर थोड़े चिया के बीज भी डाल सकते हैं। इससे आपको फाइबर भी मिलेगा। ये भी बैस्ट मॉर्निंग स्नैक है।

 

 

 

 

 

 

 

 

Posted in HEALTHComments (0)

सेहतमंद होने के लिए करें इन चीजों का सेवन

अगर आप अपना पुरुषार्थ यानी की मेंनपावर बढ़ाना चाहते हैं तो आज हम आपको 5 चीज़ों के ऐसे नाम बता रहे हैं जिनके सेवन से ही आप ज्यादा शक्तिशाली महसूस करेंगे ये चीज़ें ना सिर्फ आप ऊर्जावान रहेंगे बल्कि इससे आपकी शारीरिक कमजोरियां भी दूर होंगे

केला

केला ऊर्जा का सबसे ज्यादा अच्छा स्रोत है इसके सेवन से ही आप अधिक समय तक ऊर्जावान रह सकेंगे आपको ये भी बता दे कि इसमें पोटेसियम मैग्निसियम तथा फाइबर प्रचुर ज्यादा पाया जाता है
जो शरीर को अंदर से काफी मजबूत बनता है तथा कैंसर जैसे भी गंभीर रोगों से रक्षा करता है

ग्रीन टी

यै बात तो लगभग सभी जानते ही है ग्रीन टी सेहत के लिए बहुत अधिक लाभकारी है अक्सर ही पुरुषो में अधिक सिगरेट और साथ ही शराब की लत पाई जाती है
ऐसे में लोगों को अवश्य ग्रीन टी ही पीनी चाहिए इसमें एंटी ऑक्सीडेंट भी होते हैं जो कि कैंसर सेल को खत्म कर देती है इसके अलावा भी ये मोटापे में अधिक लाभकारी है

टमाटर
टमाटर का खाने में तथा सलाद के रूप में कर सकते हैं साथ ही ये पुरुषो में प्रोस्टेट कैंसर को रोकता है टमाटर को पकाकर खाएं ये अधिक बेहतर होगा.

स्प्राउट्स
स्प्राउट्स सेहत के लिए बहुत ही लाभकारी है इससे आपको सारी जरूरतमंद प्रोटीन भी मिल जाते हैं और इससे पुरुषार्थ में भी वृद्धि होती
बादाम
रोजाना ४-५ बादाम का सेवन करने, और इन्हे दूध के साथ लें तो बेहतर ही होगा ये एंटी एजिंग होता है तथा शरीर को भी जरुरी पोषक तत्वों की पूर्ति करता है

Posted in HEALTHComments (0)

रोज शाम को जलाते हैं घर में अगरबत्ती, तो जान लीजिए इसके नुकसान


अगर आप भी अपने पूजा घर में अक्सर अगरबत्ती का इस्तेमाल करते हैं तो ये खबर आपके लिए है। जी हां शायद ही आपको पता होगा कि भगवान को खुश करने के लिए जलाई जाने वाली ये अगरबत्ती हमारी सेहत के लिए बेहद हानिकारक होती है।

 

आइए जानते हैं अगरबत्ती से होने वाले कुछ ऐसे नुकसान ।  

अगरबत्ती से सांस का संक्रमण होता है
हाल में हुए एक शोध में कहा गया है कि घरों में जलाई जाने वाली अगरबत्ती स्वास्थ्य के लिहाज से आपके लिए बेहद खतरनाक होती है। अगरबत्ती जलाने से हवा में कार्बन मोनोऑक्साइड फैलती है। जिसकी वजह से फेफड़ों में सूजन और सांस सबंधी कई दिक्कतें हो सकती हैं। ये धुआं धूम्रपान के समय फेफड़ों में जाने वाले धुएं की तरह ही होता है।

त्वचा की एलर्जी 
लंबे समय तक अगरबत्तियों का उपयोग करने से आंखों और त्वचा की एलर्जी हो जाती है। इसको जलाने से इसमें से निकलने वाला धुआं आंखों में जलन पैदा करता है। इसके अलावा संवेदनशील त्वचा वाले लोग जब इस धुएं के संपर्क में आते हैं तो उन्हें खुजली महसूस होने लगती है।

मस्तिष्क के रोग
नियमित तौर पर अगरबत्ती का उपयोग करने से सिरदर्द, ध्यान केंद्रित करने में समस्या होना और विस्मृति आदि कई समस्याएं होती है।

गले का  कैंसर ​
अगरबत्ती का उपयोग करने से गले का  कैंसर भी हो सकता है। अगरबत्ती के धुएं से ऊपरी श्वास नलिका का कैंसर होने का ख़तरा बढ़ जाता है।

Posted in DHARM, HEALTH, INDIAComments (0)

advert