Archive | INDIA

Rukhmabai, the first Indian woman physician, gets Google Doodle

नई दिल्ली 
गूगल ने आज डॉक्टर रखमाबाई राउत को उनके 153वें जन्मदिन पर डूडल बनाकर याद किया है। रखमाबाई भारत की पहली महिला डॉक्टर्स में से एक थीं। गूगल के आज के डूडल में रखमाबाई को एक ओजस्वी महिला के रूप में दिखाया गया है और उनके आस-पास मरीजों की सेवा में लगे कर्मचारियों को भी दिखाया गया है। 

Posted in INDIAComments (0)

Google Doodle Celebrates 151st Birthday Of India’s First Female Advocate Cornelia Sorabji

ornelia Sorabji was the first ever female graduate from Bombay University and went on to become the first woman to study law at the esteemed Oxford University. Her education at Oxford also meant another 'first' was set – she became the first Indian national to study at any British university.

NEW DELHI:  Google today celebrates the 151st birth anniversary of Cornelia Sorabji, a pioneer who helped open up the legal profession for women in India. Born in Nashik to a Parsi missionary, Ms Sorabji set many 'firsts' in the legal word. Cornelia Sorabji was the first ever female graduate from Bombay University and went on to become the first woman to study law at the esteemed Oxford University. Her education at Oxford also meant another 'first' was set – she became the first Indian national to study at any British university. Actively involved in social reforms, Ms Sorabji championed the legal rights of women and minors.

Born on 15 November 1866, Cornelia Sorabji was homeschooled by her father, Reverend Sorabji Karsedji, at many of his mission schools. Feminism ran in her blood, as her mother Francina Ford strongly advocated education for women, and even helped establish several girls' schools in Pune. Francina Ford's views and ideology would shape the work Cornelia would go on to do. She also had six siblings – a sister and five brothers.

After allegedly being denied a scholarship to study in England after topping her graduating class, Cornelia Sorabji petitioned to the National Indian Association to assist her in completing her education. Many reputed people funded her education in Britain, including Florence Nightingale. In 1892, she graduated in law from the Sommerville College in Oxford University. Throughout her education, she faced strong opposition from many quarters as men were not used to seeing a woman pursuing the same goals. Often examiners would refuse to examine her, and she would be given poor grades.

Returning to India in 1894, Cornelia Sorabji became involved in helping purdanashins. Purdanashins are women, who according to Hindu law, were forbidden to communicate with any male persons apart from their husbands. Isolated from the male world, the purdanashins never had any legal support, as all lawyers at that time were men. So while many of these women owned considerable property, they would not be able to defend it due to lack of legal access.


She was not allowed to fight in court, as women were not allowed to be barristers at the time in India. Cornelia began to petition the India Office to provide for a felmale legal advisor to represent women and minors in provincial courts. In 1904, she was appointed the Lady Assistant to the Court of Wards of Bengal, and she started to work in the provinces of Bengal, Bihar, Orissa and Assam. It is estimated that in her next 20 years of service, Cornelia Sorabji helped over 600 women and children. Allegedly she would even provide her services for no charge.

Her fight to have women representation in law finally paid dividends, as, in 1924 the legal profession was opened to women in India. Cornelia Sorabji began to practice in Kolkata, hence becoming the first woman to practice law in India, and indeed, in Britain.

Apart from her law, she also wrote a number of books, short stories and articles, including her autobiography 'Between the Twilights'.

Cornelia Sorabji always believed in educating women, as she believed that any movement for women's empowerment would fail in the absence of education. And her struggles and success made her an inspiring example to follow. Whether in her education or her legal and social work, Cornelia Sorabji was a history-maker.

Posted in INDIAComments (0)

Auto Transfer Of EPF: Check Out How This New EPFO Facility Works

New Delhi: Transferring your employee provident fund (EPF) accounts while changing jobs has become easier. New joinees are no longer required to file separate EPF transfer claims using Form-13 after changing jobs. It will now be done automatically. EPFO has introduced a new composite form called Form 11 that will replace Form 13 in all cases of auto transfer. This was stated by EPFO in an order dated September 20, 2017. At present, employees are required to file Form-13 for provident fund account transfer on changing jobs. The EPFO has decided that Form 11 will replace Form No 13 in all cases of auto transfer.

How PF Auto Transfer Works Through Form 11


1) After joining a new organization, the new employee has to fill and submit details through the new Composite Declaration Form 11, wherein the joinee has to fill personal details and other details about previous employment. The new joined has to also fill in UAN (Universal Account Number) and previous provident fund number.

2) The employer enters the information as given in Form 11 in the employer's portal.

3) The data is then validated with the information available against the UAN and in case of any discrepancy, the employer has to verify/update the information provided.


4) In case, the earlier UAN was Aadhaar seeded and verified, the declaration by the employer of transfer request made by the employee in Form-11 will trigger an auto-transfer process which will transfer the accumulations against his previous provident fund account (PF ID) to the new provident fund account. Form No. 13 is not required to be submitted in such cases.

5) An SMS informing the subscriber about the proposed auto-transfer will be sent on his registered mobile number.

6) Auto transfer will be completed only after the member does not request to stop the proposed auto-transfer (either online, or through employer or at the nearest EPFO office) within 10 days of the SMS, and the first contribution by the present employer is deposited and reconciled.

7) On transfer of the account, the new employee will be communicated by SMS on his mobile number seeded against the UAN and by e-mail, if registered.

8) Auto transfer of previous PF account would be possible in respect of Aadhar verified employees only. In case the earlier UAN was not seeded with Aadhaar or UAN was Aadhaar seeded but not verified, the member needs to apply for transfer in Form-13 as the existing procedure for physical transfer would be followed.
 
 

Meanwhile, retirement fund body EPFO said it has asked its field offices to take action against erring 700 PF trusts that have not filed online returns. The Central Provident Fund Commissioner after a review found that more than 700 exempted establishments (private PF trusts) did not file online returns, the EPFO said in a statement.

Posted in INDIAComments (0)

3केशवराय पाटन में कार्तिक स्नान का महत्व, नदी में दीपक तैर गया तो व्रत संपूर्ण

बूंदी। भारत की द्वितीय काशी के नाम से विख्यात बूंदी नगर अपनी स्थापना के समय से ही विद्वानों, वीरों और संतों के आश्रय की त्रिवेणी रही है। हर मोड़ पर बल खाती, अंगडाईयां लेती अरावली की तलहटी में बसी बूंदी जिसने अपने विशाल वक्ष में जमीन की मान की रक्षा के लिए प्राणों को हथेली पर रखकर झूमने वाले वीरों की अमर गाथाएं छुपा रखी हैं। प्रसिद्ध पुष्कर मेले की भव्यता के समकक्ष ही बूंदी जिले के केशवराय पाटन में भी एक कार्तिक मेले का भव्य आयोजन होता है। हाड़ौती अंचल में विविध प्रसंगाें में बूंदी जिला महत्वपूर्ण स्थान रखता है। 

चम्बल नदी के तट पर बने केशवराय पाटन भगवान के मंदिर की ऊंचाई का अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि यह मंदिर मीलों दूर से ही नजर आने लगता है। इसके एक ओर चम्बल की अथाह गहराई है और दूसरी और मंदिर की आकाश को छू लेने वाली बनावट का बहुत ही सुन्दर, मनोहारी और मन को लुभाने वाला दृश्य है। यहां अन्य स्थानों के विपरीत चम्बल नदी पूर्वामुखी होकर बहती है। नदी तट से 59 सीढ़ियां चढने पर मुख्य मंदिर आता है। मंदिर में केशवराय भगवान की भव्य प्रतिमा प्रतिष्ठित है। पृष्ट भाग के एक अन्य छोटे मंदिर में भी चारभुजा जी की मूर्ति है। 

ऐसी कथा है कि भ्रांतिदेव ने नदी में पडी हुई इन मूर्तियों को खोजकर नदी तट पर एक मंदिर में स्थापित किया। मंदिर के चारों तरफ विशाल परिसर में भगवान गणेश, शेषनाग, अष्टभुजा दुर्ग, सूर्य और गंगा आदि के मंदिर हैं। इस मंदिर का निर्माण बूंदी नरेश छत्रासाल सिंह ने करवाया था। केशोराय पाटन का उल्लेख पुराणों में जम्बूद्वीप के प्रमुख तीर्थों में है। 

ऐसी कहावत है कि महर्षि परसराम जी ने पृथ्वी से 21 शरशमैयों का विनाश करने के पश्चात इस भूमि पर कठोर तपस्या और यज्ञ किये थे। पाण्डवों की गुफा, उनके द्वारा स्थापित पंच शिवलिंग, हनुमान मंदिर, अंजनि मंदिर व यज्ञसाला, वराह मंदिर इस पावन भूमि के अन्य पवित्रा स्थल हैं। इस पवित्रा स्थल के मध्य श्रृद्धालुआें की रंग-बिरंगी छटा, आपाधापी और सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक आस्था कुल मिलाकर कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर केशवराय पाटन की मोहक छटा न केवल धार्मिक दृष्टि से ही महत्वपूर्ण है बल्कि इसके साथ परम्परा की मर्यादा भी जुड़ी है और समाज की नैतिक निष्ठाएं भी।

भारत के विभिन्न धार्मिक स्थलों की तरह ही हाड़ौती अंचल में भी कार्तिक माह में सुबह जल्दी ही स्नान करने की प्रथा प्रचलित है। पौ फटने (अमृत बेला) के समय लोग अपने बिस्तर छोड़कर कार्तिक स्नान के लिए अपने गांव के निकट बहने वाली नदी या कुए-बावड़ियों की और चल देते हैं। वहां पर स्नान करके लौटते वक्त महिलाएं एवं बालिकाएं मधुर भजनों के साथ अपने निकटस्थ मंदिर पर पहुंचती है और वहां पर भगवान की पूर्जा अर्चना कर धार्मिक भजन गाये जाते हैं। 

Posted in INDIAComments (0)

#OddEven is back as Delhi chokes on smog

With Delhi earning shame for its toxic smog, and citizens struggling to breathe for the third day on Thursday, the state government has finally decided to implement the odd-even formula from November 13 to 17.

The National Green Tribunal has reportedly banned construction and industrial activities in the Delhi-NCR region till November 14.

 

NDTV @ndtv

 plan back, say sources as Delhi pollution outstrips Beijing   https://www.ndtv.com/delhi-news/odd-even-may-be-back-says-arvind-kejriwal-as-delhi-pollution-outstrips-beijing-1773215 …

Twitter Ads info and privacy

 

 

 

Amarjeet Kumar Singh @AmarjeetKSingh_

Heavy  at  in#newDelhi required 

Twitter Ads info and privacy

 

 

An air emergency has already been declared in the national capital, with schools shut, train and flight operations affected, parking fees raised and entry of most trucks prohibited.

Chief minister Arvind Kejriwal wrote to the CMs of neighbouring Haryana and Punjab to find a solution to stubble-burning in their states, which is one of the factors causing the smog.

 

ASHUTOSH MISHRA @ashu3page

Emergency meeting called by Delhi transport minister Kailash Gahlot at Secretariat on  with top officials of concerned Dept to curb air pollution in the capital, announcement likely at 4 pm today in a press conference. @IndiaToday @aajtak

Twitter Ads info and privacy

 

 

C

Posted in INDIAComments (0)

असामान्य लोगों की फ़ोटो ले फ़ोटोग्राफ़र ने बनाया उन्हें बेहतर

ख़ूबसूरती को लेकर हर किसी का अपना-अपना नज़रिया होता है. कुछ लोगों के लिए शारीरिक सुदंरता मायने रखती है, तो वहीं कई लोगों का मानना है कि इंसान को दिल से ख़ूबसूरत होना चाहिए. क्योंकि बढ़ती उम्र के साथ इंसान के चेहरे की चमक, तो वैसे ही फ़ीकी पड़ जाती है.

स्पेन का 22 वर्षीय फ़ोटोग्राफ़र Francesc Planes ज़माने की इसी सोच को बदलने की कोशिश कर रहा. इसके लिए उसने कुछ असामान्य लोगों की तस्वीरें भी खींची हैं. ये ऐसे लोग हैं, जो आम लोगों से थोड़ा अलग हैं. मतलब किसी के शरीर पर ढेर सारे Moles, तो किसी की एक आंख पत्थर की है. वहीं तस्वीरें खींचवाते वक़्त इन लोगों के मनोबल में किसी तरह की कोई कमी नहीं देखी गई.

1. ये शख़्स अपने गंजेपन से त्रस्त है.

ADVERTISEMENT


2. कृत्रिम आंख के साथ दुनिया देखने का नया अंदाज़.



3. शरीर पर 500 Moles होने के बावजूद, इस लड़की का मनोबल कम नहीं हुआ.

ADVERTISEMENT



ADVERTISEMENT




4. मोटे लोगों को भी ज़िंदगी जीने का हक है.


ADVERTISEMENT


5. Tattoos के साथ ज़िंदगी में नए रंग भरना चाहता है ये इंसान.



वाकई फ़ोटोग्राफ़र की ये क्रिएटिविटी देख कर, उसकी जितनी तारीफ़ करो कम है.

Source : Boredpanda

Posted in INDIAComments (0)

Google marks 97th birth anniversary of Kathak legend Sitara Devi with a doodle

Google on Wednesday marked the birth anniversary of Kathak legend Sitara Devi with a doodle. She was born as Dhannolakshmi on November 8, 1920, to Kathak dancer and Sanskrit scholar Sukhdev Maharaj and his wife Matsya Kumar in Kolkata. Maharaj was a Kathakar or an early Kathak dancer, PTI reported.

By the age of 10, she was giving solo performances. Her family moved to Mumbai a few years later where Devi continued her training and started teaching others. Nobel Laureate Rabindranath Tagore, impressed with her performance at one of her shows, offered her a shawl and a citation for Rs 50. Devi, then 16, refused to accept it and asked him for his blessings instead, PTI reported. The poet described her as Nritya Samragini.

Sitara Devi composed many kathak pieces, including todas and parans.She used to encourage her students to incorporate ideas from other dance forms, including ballet, tango and tap dance, her niece Jayanti Mala had said.

She received several awards, including the Sangeet Natak Akademi Award in 1969 and the Padma Shree in 1973, during her career as a dancer, IANS reported.

She died at the age of 94 on November 25, 2014.

Posted in INDIAComments (0)

अगले महीने से बंद हो जाएगी रिलायंस कम्यूनिकेशन की वॉयस कॉल सर्विस


Harish Vaishnav (New Delhi) टेलीकॉम ऑपरेटर रिलायंस कम्यूनिकेशन (Rcom) 1 दिसंबर से वॉयस कॉल सर्विस बंद करने जा रहा है. साल के अंत तक ग्राहक दूसरे नेटवर्क का रूख कर सकते हैं. शुक्रवार को टेलीकॉम अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) ने ये जानकारी दी. पीटीआई की खबर के मुताबिक, सभी टेलीकॉम आपरेटर्स को ट्राई की ओर से जारी सूचना में बताया कि 31 अक्टूबर 2017 को आरकॉम ने कहा, ' रिलायंस कम्यूनिकेशन लिमिटेड (RCL) अपने ग्राहकों को केवल 4G डेटा सर्विस ही उपलब्ध करा सकता है. इस वजह से हम 1 दिसंबर 2017 से अपने सब्सक्राइबर्स को वॉयस सर्विस नहीं दे पाएंगे.' Rcom ने TRAI को जानकारी दी कि वो आठ टेलीकॉम सर्किल- आंध्र-प्रदेश, हरयाणा, महाराष्ट्र, यूपी ईस्ट और वेस्ट, तमिल नाडु, कर्नाटक और केरल में अपनी 2G और 4G सेवाएं उपलब्ध कराता है. अनिल अंबानी की अगुवाई वाली कंपनी ने ट्राई को जानकारी दी कि कंपनी अपने मर्जर वाली कंपनी सिसतेमा श्याम टेलीसर्विस के CDMA नेटवर्क को अपग्रेड कर रही है. ताकी कंपनी दिल्ली, राजस्थान, यूपी वेस्ट, तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, गुजरात और कोलकाता में 4G सर्विस उपलब्ध करा सके. ट्राई ने बताया कि Rcom ने दूसरे नेटवर्क में पोर्ट करने के साथ ही वॉयस कॉल के बंद होने संबंधी सभी जरुरी जानकारियां जारी कर दी हैं. ट्राई ने Rcom को किसी भी पोर्टिंग रिक्वेस्ट को रिजेक्ट नहीं करने का आदेश दिया है और सभी टेलीकॉम कंपनियों से 31 दिसंबर 2017 तक Rcom सब्सक्राइबर्स के रिक्वेस्ट एक्सेप्ट करने को कहा है.


Posted in AjeyBharatTV, BUSINESS, ENTERTAINMENT, INDIA, NEWS IN IMAGESComments (0)

रा.आ.उ.मा. वि. इकलहरा में आठवीं बोर्ड के प्रारंभिक शिक्षा पूर्णता प्रमाण पत्र विधिवत् पूजा अर्चना के साथ भरे गये

अजय कुमार विद्यार्थी/डीग/डीग के राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय इकलहरा में राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान के प्रारंभिक शिक्षा पूर्णता प्रमाण पत्र कक्षा 8 के परीक्षा आवेदन पत्र शुभ मुर्हत चौघडिया में गुरुवार 2 नवम्बर को विधिवत देवी सरस्वती की पूजा अर्चना के उपरांत विद्यालय प्रधानाचार्य अशोक जैन व परीक्षा प्रभारी बोर्ड हिमांशुप्रीत के निर्देशन में कक्षा आठवीं के सैतालीस छात्र छात्राओं द्वारा बोर्ड के फार्म भरे गये  ।


इस दौरान प्रधानाचार्य अशोक जैन ने सम्बोधित करते हुऐ कहा कि परीक्षा फार्म भरने के साथ ही छात्र छात्रा अपनी पढ़ाई में जुट जाए और विद्यालय में अधिक से शिक्षकों का पढाई के दौरान लाभ उठायें व घर पर अधिक मेहनत कर परीक्षा की तैयारी पढाई के साथ साथ प्रारम्भ कर दे।इस अवसर कक्षाध्यापक सुरेश शर्मा व बच्चू सिंह सहित  राजीव कुमार आदि अध्यापक उपस्थित थे। कार्यकम के दौरान छात्र छात्राओं के तिलक लगाकर व कलाया बाँध उनके उज्जबल भविष्य की मंत्रोच्चारण कर कामना की गई। कक्षा आठ के सभी छात्र छात्राओं ने अभी से कड़ी मेहनत करने का प्रण लिया I

Posted in INDIAComments (0)

हरियाणा के खनन माफियाओं को लीज देने के विरोध में 15000 साधु संतों द्वारा शुक्रवार को धरने की चेतावनी

अजय कुमार विद्यार्थी/डीग /बृज क्षेत्र की आरक्षित वन भूमि पर राजस्थान सरकार द्वारा हरियाणा के माफियाओं को खनन लीज देने के विरोध में गुरुवार को मान मंदिर सेवा संस्थान गह्वर वन बरसाना  के कार्यकारी अध्यक्ष राधा कांत शास्त्री ने सैकड़ों साधु संतों के साथ डीग एसडीएम एवं ए डी एम कार्यालय पहुंचकर ज्ञापन दिया। 
ज्ञापन में कहा गया है कि पूर्व में महीनों चले आंदोलन के पश्चात भी नियुक्त कमेटी ने आज तक अपनी रिपोर्ट पेश नहीं की जबकि इस कमेटी को 1 महीने में ही रिपोर्ट देनी थी । 8 महीने बीत जाने के पश्चात भी अभी तक कमेटी द्वारा रिपोर्ट पेश नहीं की गई की गई है ,अतः  गठित कमेटी द्वारा  अभिलंब रिपोर्ट प्रस्तुत की जाए  I ज्ञापन में कहा गया है कि पर्यावरण नियमों की अनदेखी कर  खनन पट्टों की स्वीकृति दी गई है I अतः उन्हें तुरंत निरस्त किया जाएI 
स्थानीय निवासियों की स्वास्थ्य के साथ  खनन माफियाओं द्वारा खिलवाड़ किया जा रहा है । उनकी फसल नष्ट हो रही है ,भेड़ बकरी एवं अन्य पशुधन भयंकर विस्फोटों से मर रहे हैं ,तथा मानव जीवन भी असुरक्षित हो गया है । 
ज्ञापन में ग्राम नांगल एवं बुआपुर गढी से  खनन लीज की दूरी के मात्र 500 एवं 700 मीटर है का लिखित में सक्षम अधिकारी द्वारा लीज पत्र जारी किया जाए ।
खसरा नंबर 611 के 

ऊपर तालवन है  जिस पर मनरेगा के तहत कार्य हुआ है  फिर खनन पट्टा क्यों दिया गया ,यह लिखित में चाहिए I 

कब्रिस्तानों को खनन माफियाओं ने घेर रखा है ,जो लीज क्षेत्र में है फिर मुस्लिम भाइयों के हितों की अनदेखी क्यों ।

अवैध खनन को की सारी गतिविधियां  को अविलंब रोका जाए ।
ज्ञापन में चेतावनी दी कि अगर आज रात्रि 10:00 बजे तक अवैध खनन रोकने व संरक्षित वन क्षेत्र में लीज को निरस्त करने की के लिए कोई कार्यवाही नहीं की गई तो ब्रज यात्रा में चल रहे 15000 से अधिक साधु संतों के साथ साथ हजारों बृज के लोग एसडीएम एवं ए डी एम कार्यालय के समक्ष धरना देंगे जिस की समस्त जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी I

मान मंदिर सेवा संस्थान के अध्यक्ष राधा कांत शास्त्री ने कहा कि पर्यावरण नियमों की अनदेखी कर राजस्थान सरकार द्वारा पौराणिक महत्व की आदि ब्रद्री के पर्वत के आसपास खनन पट्टों को लीज पर दिया गया है जिसके कारण पौराणिक महत्व के पर्वत नष्ट होने की कगार पर पहुंच गए हैं अगर रात्रि 10:00 बजे तक अवैध खनन को रोकने के लिए और संरक्षित क्षेत्र में अवैध खनन रोकने के लिए कोई कार्यवाही का आश्वासन प्रदान नहीं किया गया तो शुक्रवार को प्रातः से ही 15000 से अधिक साधु संत डीग में हरि नाम कीर्तन करते हुए एसडीएम और एसडीएम कार्यालय के समक्ष धरना देंगे

Posted in INDIAComments (0)

Whatsapp ने लॉन्च किया Real Time Location शेयरिंग फ़ीचर

दुनिया का सबसे लोकप्रिय Messaging App Whatsapp अपने यूज़र्स के लिए त्यौहारों के मौसम में तोहफ़े के रूप में नया फ़ीचर लेकर आया है.

Whatsapp यूज़र्स अब अपनी लोकेशन भी इस Messaging App की मदद से साझा कर सकते हैं. अभी तक WhatsApp यूज़र्स अपने Contacts से अपनी लोकेशन शेयर कर सकते थे.

Source: Bgr

मंगलवार को Whatsapp ने Real-Time Location शेयर करने की सुविधा की शुरुआत की. इस फ़ीचर के ज़रिए हमारे दोस्त हमारे लोकेशन पर आसानी से नज़र रख सकेंगे. इस फ़ीचर की मदद से हम अपने दोस्तों और रिश्तेदारों की सुरक्षा सुनिश्चित कर सकते हैं.

ADVERTISEMENT


अगर हम किसी मुसीबत में भी हैं तो हमारे घरवाले आसानी से हम तक पहुंच सकते हैं.मान लीजिये कि हम किसी जगह पर अकेले छुट्टियां मनाने गए हैं. कहीं भी अकेले जाना हमेशा सुरक्षित नहीं होता. लेकिन Whatsapp के इस फ़ीचर की मदद से हमारे दोस्त और घरवाले आसानी से हमारी Real-Time Location यानि कि हम Exactly किस जगह पर हैं, इसका पता लगा सकते हैं.

आसान शब्दों में कहा जाए तो ये हम सब की सुरक्षा सुनिश्चित करता है.

कुछ दिनों पहले Whatsapp ने End to End Encryption फ़ीचर लॉन्च किया था, जिससे हमारे Messages सुरक्षित हो गए थे.

Source- 9 to 5 Mac

कैसे करें इस नए फ़ीचर का इस्तेमाल?

 


2. अपडेट करने के बाद ऐप डाउनलोड करें.1. अगर आप Android या iOS यूज़र हैं, तो गूगल प्ले स्टोर खोलें और अपना Whatsapp अपडेट करें.

3. अब जिस Contact के साथ आप अपना लोकेशन शेयर करना चाहते हैं उस Contact पर जाइये और चैट बॉक्स खोलें

4. अब Attachment Icon पर जाएं 'Location' Option पर Click करें.

5. यहां आपको 'Share Live Location' Option दिखेगा.

6. इस Option पर क्लिक करें. अब उस Contact को आपका Real Time Location पता चलता रहेगा.

आप किसी भी Contact से अपना Location शेयर करने की समय सीमा भी तय कर सकते हैं.

तो मम्मी-पापा की टेंशन कम करें और उन्हें भी इस अपडेट के बारे में बताएं.

 

Source- News18

Posted in INDIAComments (0)

अब अंतरिक्ष की सैर कर सकते हैं आप, घर बैठे जानिए सौरमंडल के ग्रहों का रहस्य

अगर आपको आसमां की खूबसूरती निहारने का शौक है और ग्रहों और ब्रहाण्ड से जुड़ी गतिविधियों में बेहद दिलचस्पी है तो गूगल मैप्स का नया फीचर आपके लिए काफी फ़ायदेमंद हो सकता है. इस फीचर की मदद से आप पृथ्वी के अलावा अन्य ग्रहों और चंद्रमा का घर बैठे दर्शन कर सकते हैं.

गूगल मैप्स के इस स्क्रीनशॉट में सूरज के सबसे पास मौजूद बुध ग्रह

गूगल मैप्स के जरिये शनि ग्रह के प्राकृतिक उपग्रह इंसेलेडस, डिओन, मिमास, रेआ के साथ ही बृहस्पति ग्रह के चंद्रमा यूरोपा और गनीमेड की यात्रा भी की जा सकती है. गूगल ने 12 ग्रहों और चंद्रमा को डिजिटाइस किया है जिसे किसी स्मार्टफ़ोन या लैपटॉप पर देखा जा सकता है.

इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन से पृ्थ्वी की झलक

इस फीचर की मदद से पृथ्वी के अलावा अन्य ग्रहों और चंद्रमा का घर बैठे दर्शन किया जा सकता है. गूगल मैप के जरिए शनि ग्रह के प्राकृतिक उपग्रह इंसेलेडस, डिओन, मिमास, रेआ के साथ ही बृहस्पति ग्रह के चंद्रमा, यूरोपा और गनीमेड की यात्रा भी की जा सकती है.

मंगल ग्रह

गूगल के प्रॉडक्ट मैनेजर स्टैफोर्ड मारक्वार्ड ने कहा, ‘मैप से आप इंसेलेडस के बर्फीले मैदानों का भ्रमण कर सकते हैं जहां कैसिनी यान ने पानी ढूंढा था और टाइटन की मिथेन झीलों की यात्रा भी कर सकते हैं. हमने प्लूटो, शुक्र ग्रह और अन्य चंद्रमाओं के साथ 12 नई दुनिया के नक्शे एप में शामिल किए हैं.

Saturn ग्रह का सबसे बड़ा चांद, Titan

गूगल ने इसे तैयार करने के लिए खगोल वैज्ञानिक ब्योर्न जॉनसन की मदद ली है जिन्होंने नासा और यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी की तस्वीरों की मदद से ग्रहों और चंद्रमाओं के नक्शे तैयार किए हैं.

एक ग्रह से बौने ग्रह की उपाधि पा चुका प्लूटो की तस्वीर

गूगल ने कहा कि 20 साल पहले एक स्पेसक्राफ़्ट कैसिनी ने Saturn ग्रह और इसके चंद्रमा के रहस्यों को खंगालने के लिए उड़ान भरी थी. इस मिशन के दौरान, कैसिनी ने कई तस्वीरें रिकॉर्ड की थी और इन 15 लाख तस्वीरों को पृथ्वी पर भेजा था. इन्हीं तस्वीरों के सहारे वैज्ञानिक इन दुनिया के बारे में आकलन लगाने की कोशिश की है.

 

Source: The Sun

Posted in INDIAComments (0)

बांस से बनाई इन गज़ब की आकृतियों को देख तुम दातों तले दबा लोगे उंगली

दुनिया में ऐसी बहुत सी चीज़ें हैं जिन्हें देखने पर यक़ीन करना मुश्किल है कि वो इंसान के हाथों का कमाल है. चाहे वो चित्रकारों की चित्रकारी हो या शिल्पकारों की कलाकृतियां.

Noriyuki Saitoh भी ऐसे ही एक चित्रकार हैं जिनकी चित्रकारी किसी करिश्मे से कम नहीं लगती. जापान के ये अत्यंत Talented शिल्पकार ने शिल्पकारी के लिए बिल्कुल अलग विषय चुना है.

Noriyuki ने कीड़ों को अपना विषय चुना है. आर्टिस्ट के अनुसार, 'हम Specimen (नमूना) या Replica (प्रतिरूप) नहीं बनाते. हमारी कोशिश है कि कीड़ों को हूबहू हम अपनी कलाकृति में उतारें. उनका Appearance, Size, Feature असली कीड़े जैसा ही हो हम यही कोशिश करते हैं.'

आप भी देखिये इस आर्टिस्ट की अद्भुत कलाकृतियां

1. आंखें फटी की फटी रह गई ना?





 

2. बंदे की जितनी तारीफ़ की जाए कम है.

ADVERTISEMENT





3. दिमाग़ और हाथों का कमाल है.


ADVERTISEMENT




4. कीड़ों को भी इन आकृतियों से Complex हो सकता है.




ADVERTISEMENT



5. जापानी सरकार को इन्हें सम्मानित करना चाहिए.






इस अजब-ग़ज़ब आर्टिस्ट को गज़ब सलाम!

 

Source- Bored Panda

Posted in INDIAComments (0)

गया था FIR कराने, पुलिस ने दे डाली बर्थडे पार्टी. ट्विटर पर लोग ‘Aaww’ कहते नहीं थक रहे

अगर आपको लगता है कि पुलिस वाले सीरियस और बोरिंग टाइप के लोग होते हैं, तो ये ख़बर आपकी सोच बदल देगी. मुम्बई पुलिस इन दिनों सोशल मीडिया पर तो एक्टिव हुई ही है, उन्होंने अपने काम करने के तरीकों में भी अच्छा बदलाव लाया है.

View image on TwitterView image on Twitter

 Follow

Mumbai Police @MumbaiPolice

When personal details in the FIR revealed it's complainant Anish's birthday, a Cake followed the FIR Copy at Sakinaka Pstn 😊

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Twitter Ads info and privacy

 

अनीश नाम का एक व्यक्ति FIR लिखवाने साकीनाका पुलिस स्टेशन गया था. जब पुलिस वालों को पता चला कि उसी दिन उसका जन्मदिन है, तो उन्होंने एक सरप्राइज़ बर्थडे केक मंगवा दिया. कम्प्लेन रेजिस्टर होते ही उन्होंने अनीश से केक कटवाया.

ऐसा करने के बाद उन्होंने अनीश की केक खाते हुए तस्वीर भी ट्वीट की. इसे देख कर कई लोगों ने मुंबई पुलिस की सराहना की. देखिये ट्विटर पर कैसे किया लोगों ने रिएक्ट:

Mumbai Police  @MumbaiPolice

When personal details in the FIR revealed it's complainant Anish's birthday, a Cake followed the FIR Copy at Sakinaka Pstn 😊pic.twitter.com/tEBnNYdJ3y

 Follow

Vikas Grover @GroverVik

What a gesture and way to come close to people hats off

Twitter Ads info and privacy

Mumbai Police  @MumbaiPolice

When personal details in the FIR revealed it's complainant Anish's birthday, a Cake followed the FIR Copy at Sakinaka Pstn 😊pic.twitter.com/tEBnNYdJ3y

 Follow

Mayur M Shah @mms_1969

Wow..hats off to the great humans at Mumbai police..proud to be protected by such a kind & sensitive force..👍👍👍👍👍

Twitter Ads info and privacy

Mumbai Police  @MumbaiPolice

When personal details in the FIR revealed it's complainant Anish's birthday, a Cake followed the FIR Copy at Sakinaka Pstn 😊pic.twitter.com/tEBnNYdJ3y

 Follow

Akshay Iyer @daredevilakshay

Aww 💙

Twitter Ads info and privacy

Mumbai Police  @MumbaiPolice

When personal details in the FIR revealed it's complainant Anish's birthday, a Cake followed the FIR Copy at Sakinaka Pstn 😊pic.twitter.com/tEBnNYdJ3y

 Follow

Jitu deshmukh @jitud009

Tough guys @MumbaiPolice with heart of gold 🤜🏽🤜🏽👍

Twitter Ads info and privacy

Posted in INDIAComments (0)

Successful कपल्स के बेडरूम की 8 ऐसी अच्छी आदतें, जिन्होंने उनके रिश्ते को और भी ख़ूबसूरत बना दिया

किसी रिलेशनशिप की ख़ूबसूरती बनाए रखने के लिए 'प्रयास' या Try करना बहुत ज़रूरी है. ख़ास कर आज के समय में, जब ऑफ़िस के काम, बाकी दुनिया की टेंशन के कारण लोग अपने रिश्ते की बलि चढ़ा देते हैं. मैं एक ऐसे कपल को जानती हूं, जिनकी शादी को काफ़ी समय हो चुका है, लेकिन जिस Spark को सभी ढूंढने में लगे हैं, उनके रिश्ते में वो Spark अभी भी है. इस Couple की एक आदत जो शायद उनके रिलेशनशिप की जान है, वो है बेडरूम में बाहर की कोई टेंशन और बातें न ले जाना. अपने बेडरूम को वो सिर्फ़ ख़ुद के लिए और प्यार के चंद पलों के लिए रखते हैं.

अगर आप भी अपने रिलेशनशिप में उस खोये हुए Spark को वापस लेकर आना चाहते हैं, तो ज़रा नज़र डालिये इन Successful Couples की कुछ अच्छी Bedroom Habits पर:

1. प्यार के लिए वक़्त निकालना

Source: Esbe.in

भारतीय मर्दों के बीच एक Phrase बड़ा प्रचलित है कि शादी के बाद Sex दुर्लभ चीज़ों में होता है. इसके पीछे सबसे बड़ा कारण है इसके लिए टाइम न निकालना. भले ही ये सुनने में अजीब लगे, लेकिन जब आपके पास ढेरों काम हों, तो प्यार के चंद ख़ास पलों के लिए टाइम निकालना पड़ता है. आप कितने ही बिज़ी क्यों न हों, इसके लिए टाइम निकालें. Sex के लिए टाइम निकालना का कोई ग़लत मतलब नहीं होता, ये किसी भी शादीशुदा कपल की Priority होनी चाहिए.

2. प्यार को लेकर सहज होना

Source: AK6

प्यार भरी बातें करनी ज़रूरी हैं. उन Naughty बातों, शरारतों में सारी टेंशन और परेशानी भगाने की ताकत होती है. एक प्यारा सा Message या जब वो साथ में न हो, तब उन्हें एक Sexy सा Text भेजने में न तो आपके शर्माना चाहिए, न उन्हें. ये एक Healthy रिलेशन की निशानी होती है. कई कपल सालों साथ रहने के बाद भी एक-दूसरे से Sex के बारे में मज़ाक करने में कतराते हैं. अपने रिश्ते की निजता को ध्यान में रखते हुए ऐसे हल्के-फुल्के पल ज़रूरी हैं. आप दुनिया के सामने जितने अच्छे से अपने रिश्ते को दर्शाते हैं, उतना ही Fun अकेले में कर सकते हैं. ज़रूरी नहीं आपकी बाहरी और निजी ज़िन्दगी एक-जैसी हो.

3. एक समय में एक ही काम

Source: Typeset Beta 

आज के ज़्यादातर रिश्ते बिगड़ने की वजह सेलफ़ोन को माना जाता है पर उससे ज़्यादा ज़िम्मेदार है वो व्यक्ति, जो एक हसीं शाम को फ़ोन, सोशल मीडिया और टीवी पर बर्बाद कर सकता. जो समय आप एक-दूसरे के साथ बिता सकते थे, वो समय आपने दूसरी जगह बर्बाद कर दिया. इस बात को कहने में सभी हिचकिचते हैं, लेकिन ये सच है कि आपकी सेक्स लाइफ़ जितनी अच्छी होगी, आपके रिश्ते में उतनी ही स्वछंदता और खुलापन होगा.

4. एक दूसरे के लिए Dress-Up होना

Source: Cupid Pulse 

ये ग़लती बहुत से कपल करते हैं कि शादी के कुछ समय बाद कैसे भी कपड़े पहन कर चले जाते हैं या बिन बने-संवरे बाहर निकल पड़ते हैं. हां इसका मतलब ये कतई नहीं कि आप हर समय सजे-धजे रहें, लेकिन साथ में कभी Date पर जाएं, तो अच्छे से कपड़े पहने. कभी-कभी रूटीन ब्रेक करने के लिए डिनर पर जायें, लेकिन अकेले. एक रिश्ते को संवारने के लिए ये प्रयास ज़रूरी हैं.

5. दूसरे की ज़रूरत, ख़ुशी का ध्यान रखना

Source: Pinimg

यहां पर जिस ख़ुशी की बात हो रही है, वो आपकी Sex Life है. एक Healthy Life के लिए ये जाना ज़रूरी है कि उन अन्तरंग पलों के दौरान आपके पार्टनर को क्या पसंद आता है. Sex अगर सिर्फ़ अपने हिसाब से हो, तो उसमें प्यार कहीं से नहीं पनपेगा. ये सबसे सही पल है उसे ये बताने का कि आपको उसकी ख़ुशी, नापसंदगी का ख्याल है.

6. हंसना ज़रूरी है, Bedroom के बाहर भी और Bedroom में भी

Source: Daily Mail 

हंसी किसी भी रिलेशनशिप की जान होती है. ये कहना ग़लत न होगा, Couple Which Laughs Together, Stays Together. Bedroom में कुछ Funny होने पर असहज होने से अच्छी एक हंसी ही है, जो आपको और करीब लेकर आती है.

7 . कोई परफ़ेक्ट नहीं होता

Source: Aolcdn

बहुत से लोगों के दिमाग़ में Sex को लेकर एक बंधी-बंधाई धारणा है कि ये फ़िल्मों और किताबों की तरह Perfect होगा. जबकि ये सोच ही गलत है. Imperfection ही सेक्स लाइफ़ ज़रूरी पार्ट है. जब आपको एक-दूसरे से प्यार फ़िल्मी स्टाइल में नहीं हुआ, तो प्यार की चरम सीमा पर ऐसी उम्मीद क्यों? रिश्ते की ख़ूबसूरती गलतियों से ही होती है, इसलिए इसे बनाये रखें.

8. बेडरूम सिर्फ़ दो चीज़ों के लिए – प्यार और नींद

Source: Dovemed

उस कपल की बात को याद करते हुए ये कहना ग़लत नहीं होगा कि अपनी लव लाइफ़ को यूं ही बनाये रखने के लिए बेडरूम में प्यार और सुकून भरी नींद के अलावा कुछ न ले जाएं. उस झगड़े का मैदान भी आप ही बना सकते हैं और प्यार का गुलिस्तान भी. फ़ैसला कर लीजिये! 

 

Source: Huffington Post 

 

 

Feature Image Source: The Youth Express 

Posted in INDIAComments (0)

हर Situation और मुसीबत से निपटने के लिए ज़रूरी हैं जानने ये Helpline Numbers

समाज को सुचारू रूप से चलाने के लिए कानून-व्यवस्था बनाई गई थी. अलग-अलग देशों में कानून भी अलग हैं और कानूनी प्रक्रिया भी. समाज में अब भी कानून व्यवस्था और पुलिस को लेकर लोगों के मन में संशय बना रहता है. पर कानून व्यवस्था को सुदृढ़ और पारदर्शी बनाने के लिए और लोगों की परेशानियों को आसानी से सुलझाने के लिए सरका कई तरीके अपनाती है. बदलते दौर के साथ ही देश के नागरिकों की परेशानियों को मिनटों में सुलझाने के लिए कई हेल्पलाइन नंबर और ऑनलाइन पोर्टल खोले गए हैं. अब तो ट्वीट करके भी अपने समस्या को मिनटों में सुलझाया जा सकता है.

आज हम आपको बताएंगे ऐसे ही कुछ हेल्पलाइन नंबर्स के बारे में, जिन पर फ़ोन कर के आप तत्काल रूप से मदद प्राप्त कर सकते हैं.

1.


भारत के किसी भी हिस्से में अगर आप मुसीबत में हों तो 100 डायल करके पुलिस बुला सकते हैं.

2.


 


3.देश के किसी भी राज्य में कोई भी महिला अगर किसी मुसीबत में हो, तो इस पर फ़ोन कर के अपनी समस्या बता सकती हैं. कुछ राज्यों ने अपनी अलग महिला हेल्पलाइन भी शुरू की है. मध्य प्रदेश में 1090 पर कॉल कर के कोई भी महिला शिकायत दर्ज करवा सकती हैं.


समय बीतने के साथ भारतीय रेल भी अपने यात्रियों के लिए नई-नई सुविधाएं लॉन्च कर रही है. भारतीय रेल में सफ़र के दौरान आप अलग-अलग हेल्पलाइन पर कॉल करके सहायता प्राप्त कर सकते हैं.

Toll Security Helpline Number- 1800111322, 182(Thefts, Harassment, Pick Pocketing, Criminal Incidents)

Customer Helpline number- 138

PNR Enquiry- 139

Catering Services- 1800111139/1800111321

4.


अगर कहीं आग लग जाए, तो इस पर कॉल करके Fire Fighters को बुलाया जा सकता है. हर शहर के Fire Station का भी अलग नंबर होता है पर इससे भी सहायता मिल जाएगी.

5. 


किसी ज़रूरतमंद की मदद के लिए इस नंबर पर कॉल कर सकते हैं. सिर्फ़ एक फ़ोन घुमाने से ही किसी की ज़िन्दगी बच सकती 
आपदा की स्थिति में इस नंबर पर फ़ोन कर के मदद बुलवाई जा सकती है.


7. 


ट्रैफ़िक से जुड़ी समस्यायों के लिए दिल्ली के नागरिक इन नंबर्स(011-25844444/1095) पर फ़ोन कर सकते हैं. दिल्ली ट्रैफ़िक पुलिस ने Whats App नंबर भी जारी किया है. 8750871493 पर अपनी समस्या बताई जा सकती है.

8. 


Vandrevala Foundation द्वारा जारी किए गए इन नंबर्स(1860-266-2345/ 1800-233-3330) पर फ़ोन कर के सहायता प्राप्त की जा सकती है.

इस समस्या के लिए देशभर में एक नंबर जारी किया जाना चाहिए.

9.


911 की तर्ज पर ही सरकार ने एक नेशनल हेल्पलाइन नंबर जारी किया था. ट्रायल पीरियड के दौरान ही इस पर कई ब्लैंक कॉल्स आते थे. अभी ये नंबर कार्यरत नहीं है.

10.


Senior Citizens Helpline Number- 1096(Gujarat Police), 1253(Helpage India, Chennai), 1291/1091(Delhi), 1298/1090(Mumbai)

वरिष्ठ नागरिकों की समस्याओं को सुलझाने के लिए इन नंबर पर फ़ोन किया जा सकता है. दिल्ली के कुछ इलाकों में तो पुलिस पेट्रोलिंग भी चलती है.

11.



देशभर में शायद ही कोई ऐसी महिला होगी जिसका कभी पीछा न किया गया हो. अगर आप दिल्ली में हैं और आपको लगता है कि आप किसी मुसीबत में हैं, तो तत्कालिक रूप से इस नंबर पर कॉल करें. National Commission For Women के वेबसाइट पर जाकर भी आप अपनी शिकायत दर्ज कर सकती हैं.

12.


Domestic Violence Helpline Number- 1091(Bengaluru), 1298(Mumbai)


घरेलू हिंसा के खिलाफ़ अगर आप शिकायत दर्ज करवाने के लिए, अलग-अलग शहरों में अलग-अलग हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं.

इसके अलावा National Commission For Women के हेल्पलाइन नंबर 0111-23219750 पर भी कॉल कर के या फिर उनकी वेबसाइट पर कंप्लेन दर्ज कर सकते हैं.

13.


Human Trafficking –  9582909025

मानव तस्करी एक संगीन अपराध ह. घर पर काम करवाने के लिए अकसर गरीब मासूमों को बंधुआ मज़दूर बनाकर काम करवाया जाता है. अगर आप कहीं भी ऐसा होते देखें, तो इन नंबर्स पर कॉल कर के किसी की ज़िन्दगी बचा सकते हैं.

14.


ये हेल्पलाइन बच्चों के अधिकारों की सुरक्षा के लिए काम करती है.

15.


Depression के कारण हर साल कई लोग अपनी जान ले लेते हैं. अगर आपको कभी भी ऐसा लगे कि कि आप अवसाद ग्रसित हैं या ज़िन्दगी से पूरी तरह त्रस्त हो गए हैं, तो इस पर फ़ोन कर के मदद ले सकते हैं.

इस तरह के हेल्पलाइन नंबर्स का हमारे समाज में होना ज़रूरी है. पर दुख की बात है कि मानसिक रोगों से निपटने के मामले में अभी हम काफ़ी पीछे हैं.

16.


AIDS जैसी बीमारी के लिए अगर काउंसिलिंग और मदद की ज़रूरत हो, तो इस नंबर पर कॉल करके जानकारी ली जा सकती है. Kripa Foundation द्वारा ये नंबर जारी किया गया है.

17. 


UGC द्वारा लॉन्च की गई ये हेल्पलाइन नंबर ऐसे छात्रों के लिए सहायक है जो विश्वविद्यालय में रैगिंग का शिकार होते हैं. इसकी वेबसाइट पर जाकर भी कंप्लेन दर्ज की जा सकती है.


इनमें से कुछ हेल्पलाइन नंबर पर हमने कॉल करके देखा. कुछ नंबरों पर तो फ़ोन लग गया. पर कुछ नंबर व्यस्त जा रहे थे, तो कुछ लग ही नहीं रहे थे. हम अपील करते हैं कि अगर हेल्पलाइन नंबर जारी किए गए हैं तो उनको सुचारू रूप से चलाया भी जाना चाहिए.


 

Designed by- Sanil Modi

Posted in INDIAComments (0)

परिवार के लोगों के साथ शारीरिक संबंध न बनाने की वजह छुपी है 34,000 साल पुरानी प्रथा में

कई धर्म और सुमदाय ऐसे हैं, जहां दो रिश्तेदार आपस में शादी नहीं कर सकते, वहीं कई धर्मों और समुदायों में ये बात लागू नहीं होती. क्या आपको भी ऐसा लगता है कि ये रीति-रिवाज़ मॉर्डन सोसायटी द्वारा बनाए हुए, तो ऐसा बिल्कुल नहीं है, बल्कि ये सभ्यता 34,000 हज़ार पुरानी है.

दरअसल, Cambridge University और The University of Copenhagen के वैज्ञानिकों के इस शोध से पता चला है कि आज से 34,000 साल पहले Prehistoric Humans ने अपने कुनबे के लोगों के साथ कभी Inbreeding (अन्त: प्रजनन) नहीं की. Prehistoric Humansका मानना था कि इसके घातक परिणाम भी सामने आ सकते हैं, लेकिन Neanderthals के साथ ऐसा नहीं था, 50 हज़ार पहले उन्होंने कभी भी Inbreeding से परहेज़ नहीं किया.


रिसर्च में भी बताया गया है कि Inbreeding, Neanderthals के जल्दी विलुप्त होने का एक कारण भी हो सकती है. वैज्ञानिकों ने Russia की Upper Palaeolithic Site, Sunghir के चार Anatomically-Modern Humans पर रिसर्च भी किया. वैज्ञानिकों ने पाया कि आस-पास दफ़नाए गए इन लोगों का DNA मैच नहीं हो रहा, यानि ये लोग Inbreeding से ख़तरे से वाकिफ़ थे. इसके साथ ही क्रब में दो बच्चों की भी लाशें मिली, उनके भी DNA अलग थे.


इतना ही नहीं, इन लोगों के पास से ख़ास तरीके के गहने भी प्राप्त हुए, यानि एक-दूसरे से मीटिंग का सिलसिला उस दौर से ही चला आ रहा है. St John’s College के एक प्रोफ़ेसर Eske Willerslev का कहना है, 'इसका मतलब साफ़ है कि Upper Palaeolithic के लोग, जो कि छोटे-छोटे समूह में रह कर ज़िंदगी व्यतीत करते थे, उन्हें Inbreeding के लाभ और हानि के बारे में अच्छे से जानकारी थी और वो इसके महत्व को भी समझते थे.'


उन्होंने ये भी बताया कि हमें जो डेटा प्राप्त हुआ उससे एक चीज़ तो साफ़ है कि इन लोगों का उद्देश्य एक प्रणाली को आगे बढ़ाना था. Sunghir में एक पुरुष और दो युवाओं के भी अधूरे अवशेष और कुछ सामान मिला है. शोधकर्ताओं का मानना है कि Sunghir लोग 25 लोगों के छोटे से ग्रुप में रहते थे, साथ ही ये 200 लोगों के एक समुदाय का भी हिस्सा था.


University of Copenhagen के प्रोफ़ेसर Martin Sikora का कहना कि फ़िलहाल इस रिसर्च पर काफ़ी सावधानी के साथ काम करना चाहिए, साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि हमें नहीं पता कि Neanderthal ग्रुप Inbred क्यों था. इसका एक कारण उनका Isolated होना भी हो सकता है, या फिर सुमदाय में महिलाओं के अभाव के चलते Inbreeding उनकी मजबूरी हो.

यूनिवर्सिटी की इस शोध को Journal Science Suggests में पब्लिश भी किया गया है, हलांकि वैज्ञानिकों ने ये साफ़ कर दिया कि है, ये बातें रिसर्च का सिर्फ़ एक हिस्सा हैं, पुख़्ता प्रमाण के लिए अभी और रिसर्च बाकी है.

 

Source : metro

 

Posted in INDIAComments (0)

यदि वह पुलिसकर्मी होता तब भी क्या उसे यात्रियों को मारने का अधिकार मिल जाता है…

करन निम्बार्क:मुंबई

मुंबई, 29 सितम्बर 2017,मुंबई की जीवन रेखा है लोकल ट्रेन सेवा। मुंबई का अस्तित्व इसके बिना अधुरा है। प्रतिदिन लाखों यात्री घर से कार्यालय और कार्यालय से घर लौटते हैं। इस सेवा को सुचारू रूप से चलाने का दायित्व है कई कन्धों पर और इसकी रक्षा का दायित्व है रेल्वे पुलिस बल पर। हालाँकि रेल यात्रियों का भी कुछ दायित्व है सार्वजनिक संपत्ति के प्रति और अन्य यात्रियों के प्रति। शुक्रवार की सुबह एलफिस्टन रोड पर घटित हुई घटना दुखद भी है और निंदनीय भी। इसमें कहीं ना कहीं बिना सोचे विचारे भगदड़ मचाने वाले यात्रियों की भी भूल है।

प्रतिदिन यात्रा के समय कुछ ना कुछ विवाद घटित होते रहता है। प्रतिदिन एक ही ट्रेन के एक ही डिब्बे में वर्षों से यात्रा करनेवाले सहयात्री एक परिवार की तरह हो जाते हैं। यात्रा के दौरान लगभग सभी यात्री एकदूजे का सहयोग करते हैं। एक ऐसी घटना जो शायद लोगों तक ना पहुँच सकी इसका उल्लेख हम करना चाहते हैं। शुक्रवार की सुबह जब विरार से चर्चगेट के लिए ८:४० की लोकल ट्रेन चलने लगी तभी एक सावला रंग, सशक्त शरीर लंबा कद, साधारण कपड़ों में एक युवक चढ़ा और अचानक गेट (द्वार) पर पहले से खड़े यात्रियों से अशिष्ट होकर गेट पर खड़े रहने के लिए कहने लगा। जब उन्होंने समझाया कि यहाँ पर्याप्त जगह नहीं है तब भी वह धक्का देकर आगे बढ़ा और जब एक यात्री ने उसे रोका तो उसे माँ-बहन की गाली देते हुए उस पर हाथ उठा दिया। जैसा हमने पहले उल्लेख किया कि प्रतिदिन एकसाथ यात्रा करने वाले एक परिवार की तरह होते हैं इसलिए सहयात्रियों ने उसका विरोध किया और उन्हें छुडाने लगें।

जब इस युवक पर ये लोग भारी पड़ने लगें तब वह चिल्लाया कि मैं रेल्वे पुलिस से हूँ और जब यात्रियों ने उसका पहचान पात्र माँगा तब उसने केवल एक पल के लिए कोई पहचान पत्र निकाला जिसपर उल्लेखित था कि वह अभी प्रशिक्षण ले रहा थायदि वह पुलिसकर्मी भी होता तब भी क्या उसे यात्रियों से अशिष्ट व्यवहार करने, उन्हें मारने का अधिकार मिल जाता है? शायद उसने सोचा होगा कि पुलिस में हूँ तो कोई विरोध नहीं होगा लेकिन जागरूक यात्रियों ने न केवल अपने सहयात्री का जीवन बचाया अपितु उसका विरोध भी किया। जैसा कि स्पष्ट है कोई भी कामकाजी व्यक्ति पुलिस के पचेडों में पड़ना पसंद नहीं करता लेकिन क्या यह रेलमंत्री और रेल्वे पुलिस दल के लिए एक बड़ा सवाल नहीं है कि पुलिस आम आदमी की रक्षक है या भक्षक?

जो व्यक्ति दिन दहाड़े ऐसा कृत्य कर सकता है क्या वह रात के सन्नाटे में पुलिस बनने के बाद कोई घिनौना अपराध नहीं कर सकता? जब रक्षक ही भक्षक बन जाए, न्याय करनेवाले ही अन्याय करने लगें तो आम आदमी कहाँ और किसके पास जाए? कल तो ये लोग आम आदमी को भी किसी झूठे मामले में फँसा सकते हैं। उम्मीद है कि सरकार और रेल्वे पुलिस अपने कर्मचारियों को जनता के प्रति उनके दायित्व और कर्तव्य से अवगत करायेगी और उन्हें सिखाएगी कि जनता तभी उन्हें सम्मान देगी तभी उनका सहयोग करेगी जब वे जनता का, आम आदमी का सम्मान करेंगे, उनकी रक्षा करेंगे।

Posted in CRIME, INDIAComments (0)

15 दिनों तक टॉपलेस होकर पंडित संग रहती हैं लड़कियां. देवी पूजन की ये कैसी प्रथा?

देशभर में आश्विन के महीने में देवी की पूजा की जाती है. देश के अलग-अलग क्षेत्रों में देवी के पूजा के विधि-विधान भी अलग होते हैं.

कहीं पर पूरे निरामिष (शाकाहारी) तरीके से पूजी जाती हैं आदिशक्ति, तो कहीं पर आमिष (मांसाहारी) तरीके से. श्रद्धा के तौर-तरीके अलग-अलग. कोई नौ दिनों तक कठिन व्रत करता है, तो कोई नृत्य करके देवी को प्रसन्न करता है.

पर इन्हीं रीति-रिवाज़ों में से कुछ ऐसी भी रीतियां हैं, जो सभ्य समाज के अनुकूल नहीं है. तमिलनाडु के मदुरई में एक मंदिर में देवी की पूजा की रीति, सभ्यता की हद से परे मालूम होती है. Times Now के अनुसार, इस मंदिर में 7 ऐसी लड़कियों को 15 दिनों तक मंदिर में ही रखा जाता है, जिनका मासिक शुरू ना हुआ हो. 

Source: Asianage

इस दौरान इन लड़कियों को देवी की तरह ही सजाया जाता है, लेकिन इनके शरीर के ऊपरी भाग पर कोई वस्त्र नहीं होता, सिर्फ़ ज़ेवर होते हैं. इस दौरान इन कन्याओं के साथ एक पुरुष पंडित रहता है.

जब इस अजीब के रिवाज़ की ख़बरें बाहर आने लगीं, तो स्थानीय अधिकारियों ने हस्तक्षेप किया और लड़कियों को ऊपरी हिस्सा ढकने का आदेश दिया.

मदुरई के कलेक्टर ने इस बात का आश्वासन दिया कि लड़कियों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाएगी, पर देवी पूजन के इस अजीब से रिवाज़ को बंद करने के कोई संकेत नहीं दिए. कलेक्टर साहब का कहना है कि वर्षों पुरानी इस प्रथा पर रोक लगाना अनुचित होगा. पूजा के इस प्रथा में लगभग 60 गांवों के लोग सम्मिलित होते हैं.

Source: Janta Ka Reporter

वहीं Daily Mail की रिपोर्ट्स में इस घटना का एक अलग ही पहलू सामने आया. इस रिपोर्ट के मुताबिक, National Human Rights Commission ने सोमवार को इस घटना से जुड़ी रिपोर्ट जमा की. उस रिपोर्ट की मानें, तो इस प्रथा में लड़कियों को नववधू की तरह सजाया जाता है और बाद में उनके कपड़े उतार दिये जाते हैं. इसके बाद उन्हें जबरन सेक्स वर्क में धकेल दिया जाता है. ये एक तरह की देवदासी प्रथा है, जिसे 1988 में बैन कर दिया गया था.

कमिशन की रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि इन कन्याओं को अपने परिवारों से अलग कर दिया जाता है. वहां के लोग इन्हें मथाम्मा कहते हैं. इन्हें किसी तरह की शिक्षा-दीक्षा भी नहीं दी जाती.

मदुरई ज़िले ने इस रिपोर्ट में छपी सभी बातों को सिरे से नकार दिया है.

Source: HT

बाल अधिकारों के कैंपनेर्स ने इस पूरी प्रथा के कई दिल दहला देने वाले पहलुओं को सामने रखा. उनके अनुसार, इन लड़कियों को किसी-किसी क्षेत्र में शराब के घड़े सिर पर उठाने पड़ते हैं. रीति के नाम पर लड़कियों का शोषण किया जाता है.

अगर देवी पूजन के नाम पर देवदासी बनाने की प्रथा चल रही है, तो सरकार को इसकी उच्चस्तरीय जांच करवानी चाहिए. National Human Rights Commission ने तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश की सरकारों से 4 हफ़्तों में इस मामले की जांच कर रिपोर्ट जमा करने के निर्देश दिए हैं.

Posted in DHARM, INDIAComments (0)

थाईलैंड एकमात्र ऐसा देश है जो रोहिंग्या मुस्लिमों को निकालने में सफल रहा, अब भारत भी उसके रास्ते पर चलते हुए करने वाला है ऐसा काम कि…

भारत सरकार अवैध रूप से भारत में रह रहे रोहिंग्या मुस्लिमों को भारत की सुरक्षा के लिए खतरा बता रही है. सरकार द्वारा इनको वापस म्यांमार भेजने की बात की जा रही है, लेकिन सवाल यह उठता है कि आखिर भारत सरकार इन रोहिंग्या मुस्लिमों को भारत से बाहर भेजेगी कैसे ? इस समय रोहिंग्या मुस्लिमों की समस्या भारत सरकार के लिए एक बड़ा सरदर्द बन गयी है.

source

गौरतलब है कि भारत में 40 हज़ार से अधिक रोहिंग्या मुस्लिम, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, जम्मू, राजस्थान समेत दिल्ली और एनसीआर में अवैध तरीके से रह रहे हैं. इन लोगों पर आरोप लगता रहा है कि इनका कनेक्शन ISIS जैसे बड़े आतंकी संगठनों से है. इसी वजह से भारत के अलावा कई देश इन लोगों को अपने यहाँ रखने के खिलाफ है.

source

जानकारी के लिए बता दें कि म्यांमार में हिंसा होने के बाद से रोहिंग्या भारत, पाकिस्तान , नेपाल समेत कई देशों में बस गए लेकिन थाईलैंड के अलावा कोई भी दूसरा देश इन्हें बाहर भेजने में सफल नहीं हो पाया. अब इस बात पर बहस गर्म हो गई है कि क्या भारत भी थाईलैंड की तरह इन रोहिंग्या मुस्लिमों को वापस भेज पाएगा.

source

थाईलैंड की सरकार ने वर्ष 2014 में रोहिंग्या मुस्लिमों को वापस भजने का फरमान जारी किया था. जिसके बाद वहां से 1300 से ज्यादा रोहिंग्या मुस्लिमों को वापस भेजा जा चुका है. थाईलैंड के पुलिस अधिकारी फार्मू केड्रालफोन ने बताया कि, “इन लोगों को स्वेच्छा से भेजा गया है. इनका कहना था कि थाईलैंड में इन्हें अपना कोई भविष्य दिखाई नहीं दे रहा है, इसलिए हमें बर्मा भेज दिया जाए.” थाईलैंड की ऑथोरिटीज ने रोहिंग्याओं को स्वेच्छा से वापस भेजने का निर्णय लिया था. थाईलैंड सरकार ने रोहिंग्या मुस्लिमों को छूट दी थी कि वो कैसे जाएं ये वो खुद निर्णय लें. जिसके बाद 100-200 के ग्रुप बनाकर उन्हें वापस भेज दिया गया था.

Posted in INDIAComments (0)

advert