Recents in Beach

header ads

भक्तों ने दिखाई ऐसी भक्ति कि बाबा कालभैरव को 66 लाख रुपए की शराब चढ़ा दी

आस्था का महापर्व सिंहस्थ के दौरान कई श्रद्धालुओं का आना हुआ. सभी भक्तों ने अपनी सुख-शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की. वहीं प्रशासन ने कार्यक्रम को पवित्र बनाने के लिए उज्जैन में शराब व मांस के बेचने पर प्रतिबंध लगा दिया है. लेकिन सबसे हैरान कर देने वाली बात ये है कि बीते 22 दिनों में भक्तों ने बाबा कालभैरव को 66 लाख रुपए की शराब चढ़ाई है. कुंभ के दौरान कालभैरव मंदिर में लाखों की संख्या में श्रद्धालु पहुंच कर अपनी श्रद्धा दिखा रहे हैं. सेवा और भक्ति सच्ची निष्ठा से की जाए तो भगवान भी उनकी सुनते हैं. अब इस ख़बर पर ही ग़ौर कर लीजिए.

शराब क्यों चढ़ाते हैं भक्त?

धार्मिक मान्यता है कि बाबा कालभैरव राजाधिराज महाकाल के सेनापति हैं. अनादिकाल से बाबा को मदिरा का भोग लगाया जाता है. बाद में रात को महाकाल की शयन आरती के बाद कालभैरव की आरती की जाती है.

Source: India Today

शहर में सिर्फ एक काउंटर खुला है

सिंहस्थ के दौरान प्रशासन ने उज्जैन को पवित्र नगरी घोषित कर रखा है. लेकिन भक्त भावना को देखते हुए सिर्फ कालभैरव मदिरा काउंटर खुला हुआ है.

Source: Sunday Gaurdian

प्रशासन की कड़ी नज़र है

शाम होते ही मंदिर के आसपास भक्तों और शराबियों का जमावड़ा लग जाता है. भगवान के बहाने शराबी भी शराब की ख़रीददारी कर रहे हैं. हालांकि आबकारी विभाग इस पर नजर रखे हुए है.

Source: Catch News
सुबह और शाम के वक्त कालभैरव झोन में श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ रहा है. एक रिकॉर्ड के अनुसार, सिंहस्थ मेले में करीब 43 लाख रुपए की विदेशी तथा 23 लाख 60 हजार रुपए की देशी मदिरा का विक्रय हुआ है. हिन्दुस्तान में भक्ति के साथ कोई समझौता नहीं किया जाता है. भले ही इसकी आड़ में गलत काम क्यों न हो?
News Source: Catch News

Post a Comment

0 Comments