Recents in Beach

header ads

श्रमिकों व उनके अश्रितों के कल्याण के लिए शुरू की 22 स्कीम, लाभ लेने के लिए पंजीकरण करवाना जरूरी,

सरकार ने श्रमिकों के लिए न केवल रोटी का प्रबन्ध किया, बल्कि स्वाभिमान से जीने की भी की व्यवस्था - चेयरमैन रमेश बल्हारा बोर्ड द्वारा श्रमिकों व उनके अश्रितों के कल्याण के लिए शुरू की 22 स्कीम, लाभ लेने के लिए पंजीकरण करवाना जरूरी, पेस्टीसाइड एसोसिएशन हरियाणा के अध्यक्ष सुभाष खुराना ने की सरकार की योजनाओं की सराहना।


करनाल 14 नवम्बर, 

हरियाणा श्रम कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष रमेश बल्हारा ने कहा कि वर्तमान सरकार ने श्रमिकों के लिए न केवल रोटी का प्रबन्ध किया है, बल्कि स्वाभिमान से जीने की व्यवस्था की है। बोर्ड द्वारा श्रमिकों व उनके अश्रितों के कल्याण के लिए 22 स्कीमें शुरू की है, जिनका श्रमिकों को सीधा अर्थिक लाभ मिल रहा है। असंगठित श्रमिकों के लिए बोर्ड का गठन करने वाला हरियाणा देश का पहला राज्य है।


बोर्ड के अध्यक्ष रमेश बल्हारा बुधवार को कल्पना चावला राजकीय मेडिकल कॉलेज के सभागार में हरियाणा श्रम कल्याण बोर्ड क ी ओर से आयोजित श्रमिक जागरूकता कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि देश की तरक्की और खुशहाली के लिए उद्योगों का राष्ट्रीयकरण होना जरूरी है, तभी राष्ट्र विकसित देशों की श्रेणी में शामिल होगा। उन्होंने कहा कि जब से देश में राष्ट्रवादी विचारधाराओं की सरकार बनी है, तभी से श्रमिकों के उत्थान के लिए नई योजनाएं बननी शुरू हुई हंै। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पहली बार देश की संसद में असंगठित श्रमिकों के लिए सामाजिक सुरक्षा कानून बनाया, जिसके तहत करीब 54 करोड़ श्रमिकों को लाभ मिला है। उन्होंने कहा कि श्रमिकों के सहयोग के बिना औद्योगिक परिवर्तन नहीं आ सकता, इसलिए उद्योंगों को बढ़ावा देना जरूरी है। उन्होंने उद्योगपतियों का आहवान्् किया कि श्रमिकों की भलाई के लिए जितना सोचेंगे, उतना ही उत्पादन बढ़ेगा। श्रमिक को जितना मालिक देंगे, श्रमिक भी अपनी कड़ी मेहनत से मालिकों को कई गुणा लौटाता है। उन्होंने यह भी कहा कि उद्योगपति व श्रमिक के लिए श्रमिक कल्याण बोर्ड में पंजीकरण होना अनिवार्य है, यह दोनों के हित में। 

कार्यक्रम के अध्यक्ष एवं बोर्ड के सदस्य सतीश गुप्ता ने कहा कि श्रमिक जागरूकता कार्यक्रम का मुख्य उद्ेश्य श्रमिक कल्याण बोर्ड द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के बारे में श्रमिकों एवं उद्योगपतियों को जागरूक करना है, ताकि सभी योजनाएं प्रभावशाली तरीके से लागू हों और अधिक से अधिक श्रमिक लाभान्वित हो सके । उन्होंने कहा कि इन योजनाओं का लाभ श्रमिकों को तभी मिल पाएगा, जब वे बोर्ड में पंजीकृत होंगे। बोर्ड के अधिकारी, कर्मचारी उद्योगपतियों एवं श्रमिकों के सहायक होते हैं। 


बोर्ड के उपाध्यक्ष हरि प्रकाश शर्मा ने कहा कि उद्योगपति और श्रमिकों का चोली- दामन का साथ होता है। श्रमिक खुशहाल होगा तो उद्योग विकसित होंगे। उन्होंने कहा कि श्रमिकों का किसी भी प्रकार से शोषण न हो, बल्कि उन्हें समय-समय पर उद्योगपतियों द्वारा प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। कार्यक्रम में बोर्ड के सदस्य भूषण चुग ने कहा कि वर्तमान सरकार ने आम आदमी का कल्याण करने का संकल्प लिया है और पंक्ति में खड़े अंतिम व्यक्ति तक सरकार की योजनाओं का लाभ पहुंचाया है। समाज से अमीर-गरीब के बीच की खाई को कम करने का प्रयास किया है। 

हरियाणा पेस्टीसाइड एसोसिएशन के प्रधान डा. सुभाष खुराना ने कहा कि सरकार का यह सराहनीय प्रयास है कि श्रमिकों और उद्योगपतियों की जागरूकता के लिए इस प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। इससे दोनों पक्षों को लाभ मिलेगा। संजय गुप्ता ने आए हुए अतिथियों को धन्यवाद किया। इस अवसर पर लेबर वेलफ ेयर ऑफिसर सुरेन्द्र कौर व विकास हुडा को बोर्ड के चेयरमैन ने स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। बोर्ड की ओर से सभी अतिथियों को स्मृति चिन्ह दिए गए। 



Post a Comment

0 Comments