Recents in Beach

header ads

किसान समूह बनाकर बागवानी करें और 90 प्रतिशत तक अनुदान पाएं : डॉ. रितु

जनसंपर्क विभाग के रात्रि ठहराव व विशेष प्रचार अभियान के दौरान ग्रामीणों को किया जागरूक
हिसार, 16 नवंबर। 
किसान सहकारिता के सिद्धांत का अनुसरण करते हुए किसान उत्पादक समूह का गठन करें और प्रदेश सरकार की नीति के तहत विभिन्न योजनाओं पर 90 प्रतिशत तक सब्सिडी का लाभ उठाएं। किसानों के समूह का बागवानी विभाग के माध्यम से निशुल्क पंजीकरण करवाया जाता है।
यह जानकारी बागवानी विभाग की जिला परियोजना अधिकारी डॉ. रितु ने गत सायं गांव मोठसरा में जिला सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के रात्रि ठहराव एवं विशेष प्रचार अभियान के दौरान ग्रामीणों को संबोधित करते हुए दी। कार्यक्रम के दौरान जनसंपर्क विभाग के कलाकारों ने जहां नाटक, भजनों, गीतों व मनोरंजक किस्सों के माध्यम से ग्रामीणों को सामाजिक बदलाव के संदेश दिए वहीं विभाग के उप निदेशक डॉ. साहिब राम गोदारा ने प्रदेश सरकार के चार वर्ष की उपलब्धियों व महत्वपूर्ण योजनाओं की जानकारी देते हुए ग्रामीणों से इनका लाभ उठाने का आह्वान किया।
डीपीओ डॉ. रितु ने बताया कि अकेला किसान जब खेत के लिए जरूरी बीज-खाद व अन्य उत्पाद खरीदता है तो ये वस्तुएं उसे महंगी मिलती हैं जबकि अन्य किसानों के साथ समूह बनाकर जब वह ये वस्तुएं खरीदता है तो उसे ये सस्ती भी मिलती है और सरकार की ओर से अनुदान का लाभ भी मिलता है। इसी प्रकार अकेले किसान के लिए अपने कृषि उत्पाद अधिक भाव वाली मंडी तक लेकर जाना आसान नहीं होता जबकि समूह के साथ काम करते हुए वह अपने उत्पादों के अधिक भाव ले सकता है। इनके अलावा प्रदेश सरकार पंजीकृत समूह में शामिल किसानों को विभिन्न कार्यों पर 70 से 90 प्रतिशत तक सब्सिडी प्रदान करती है। उन्होंने आह्वान किया कि किसानों को आपस में मिलकर समूह का गठन करना चाहिए और बागवानी विभाग के माध्यम से निशुल्क पंजीकरण करवाकर इस योजना का लाभ उठाना चाहिए।
उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है लेकिन यदि किसान परंपरागत खेती के साथ-साथ बागवानी को भी अपनाएं तो वे 2022 से पहले ही अपनी आमदनी को दोगुना कर सकते हैं। प्रदेश सरकार ने किसानों के लिए बागवानी विभाग के माध्यम से अनेक महत्वपूर्ण योजनाएं चला रखी हैं। खेत में पानी का पक्का टैंक बनवाने के लिए विभाग जहां 100 प्रतिशत तक सब्सिडी दे रहा है वहीं टपका-फव्वारा व अन्य तकनीकों के लिए भी 50 से 80 प्रतिशत तक की सब्सिडी दी जा रही है। उन्होंने बागवानी विभाग की सभी महत्वपूर्ण योजनाओं की जानकारी देते हुए किसानों से इनका लाभ उठाने का आह्वान किया।
जनसंपर्क विभाग के उपनिदेशक डॉ. साहिब राम गोदारा ने बताया कि वर्तमान प्रदेश सरकार ने अपने चार वर्ष के कार्यकाल में जिस तेज बदलाव के साथ विकास करवाया है उसका गवाह प्रदेश का हर नागरिक है। वर्तमान सरकार की दृढ़ इच्छाशक्ति के चलते भ्रष्टाचार पर लगाम लगी है और सरकारी सेवाओं की आमजन तक सहज पहुंच सुनिश्चित हुई है। सरकार ने पिछले चार साल में जो भी निर्णय लिए हैं, वे किसी न किसी रूप में प्रदेशवासियों को लाभांवित करने वाले साबित हुए हैं। सरकार द्वारा किए गए सुधार के चर्चे आमजन ही नहीं, विपक्षी पार्टियों के नेता भी कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि धान निकालने के बाद खेतों में बची पराली को आग लगाने से पर्यावरण दूषित होता है और दिल्ली में प्रदूषण बढऩे के पीछे हरियाणा के किसानों को जिम्मेदार ठहरा दिया जाता है लेकिन सच्चाई तो यह है कि हमारे किसान पर्यावरण संरक्षण के प्रति पहले से काफी अधिक जागरूक हो चुके हैं और पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष पराली जलाने के मामलों में 50 प्रतिशत तक की कमी दर्ज की गई है जिसके लिए प्रदेश सरकार ने भी हरियाणा के किसानों की सराहना की है। उन्होंने कहा कि हमें सरकार द्वारा चलाए जा रहे स्वच्छता अभियान, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ जैसे सभी सामाजिक अभियानों में बढ़-चढक़र भाग लेना चाहिए ताकि आदर्श समाज का निर्माण किया जा सके।

जिला सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के कलाकारों ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ पर आधारित एक मार्मिक नाटक प्रस्तुत किया जिसके माध्यम से ग्रामीणों को संदेश दिया गया कि यदि हम बेटियों को सशक्त नहीं बनाएंगे तो समाज में अनेक समस्याएं पैदा हो जाएंगी। कलाकारों ने पराली मत ना फूंक किसान, इसका ढूंढ लिया समाधान नामक गीत सुनाकर किसानों को पराली के उचित प्रबंधन के प्रति जागरूक किया। एआईपीआरओ छोटूराम ने भी किसानों को आयुष्मान भारत योजना, भावांतर भरपाई योजना, स्वास्थ्य व शिक्षा सहित अनेक विषयों पर जानकारी देते हुए ग्रामीणों को सजग होकर आगे बढऩे के लिए प्रेरित किया।
इस अवसर पर जिला बागवानी अधिकारी डॉ. सुरेंद्र सिहाग, एआईपीआरओ सत्यपाल सिंह, आदमपुर के बागवानी विकास अधिकारी डॉ. मनमोहन, डीआई विरेंद्र शर्मा, सरपंच प्रतिनिधि सुंदर सिंह, डॉ. मनबीर गोदारा, फूलसिंह, डॉ. सुरेंद्र, पूर्व सरपंच प्रताप, हरदयाल मेहरा व मेवा सिंह सहित अन्य अधिकारी-कर्मचारी व बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे।

Post a Comment

0 Comments