Recents in Beach

header ads

लव ट्रैंगल स्टोरी का अंजाम जानकर आप विश्वास नहीं करोगे की उसने पत्नी को ....

गुड़गांव 
वैली व्यू सोसायटी में करवाचौथ की रात बालकनी से धक्का देकर निजी बैंक की असिस्टेंट डायरेक्टर दीपिका चौहान की हत्या के मामले में पुलिस ने पति विक्रम चौहान की गर्लफ्रेंड शेफाली भसीन तिवारी को गिरफ्तार किया। इस केस में विक्रम पहले से ही गिरफ्तार है। उसने पुलिस पूछताछ में कई हैरान करने वाले खुलासे किए हैं। वह शेफाली के साथ मिलकर वॉट्सऐप और मेल पर चैट कर दीपिका को मारने की प्लानिंग करते थे।

वारदात से एक सप्ताह पहले विक्रम पत्नी को मारने के लिए नैनीताल लेकर गया। वहां ऐसा न करने पर दोनों गुड़गांव आ गए। आरोप है कि गर्लफ्रेंड के लगातार दबाव पर उसने करवाचौथ की रात 8वीं मंजिल स्थित फ्लैट की बालकनी से धक्का देकर दीपिका की हत्या कर दी। पुलिस ने दोनों की चैट हिस्ट्री व मेल में मिले सबूतों के आधार पर शेफाली को गिरफ्तार किया। गर्भवती होने की वजह से उसे न्यायिक हिरासत में सिविल हॉस्पिटल में रखा गया है।

नैनीताल में नहीं फेंक सका पहाड़ से 
जांच में सामने आया कि 20 अक्टूबर के आसपास विक्रम दीपिका के साथ नैनीताल गया। योजना थी कि दीपिका को पहाड़ से फेंका जाएगा, लेकिन खतरे को भांप कर वह ऊपर नहीं गईं। 4 दिन बाद दोनों लौट आए। शेफाली लगातार दबाव बना रही थी। 27 अक्टूबर की शाम करीब 7 बजे विक्रम के माता-पिता फ्लैट पर आए गए। करीब दो घंटे बाद दोनों के जाने के बाद वारदात को अंजाम दिया गया।

पार्क में हुई दोस्ती चढ़ी परवान 
अप्रैल 2015 में शेफाली विक्रम चौहान के संपर्क में आई थी। विक्रम ने शैफाली के पति से सोसायटी में फ्लैट खरीदा था। दोनों अपने बच्चों को लेकर पार्क में आते थे। वहीं पर दोस्ती हुई। नवंबर 2017 के बाद दोनों में नजदीकी बढ़ी। इसके बाद दोनों ने शादी करने की ठानी। इसके लिए चैट पर प्लानिंग करने लगे। शुरू में शेफाली के पति और दीपिका ने विक्रम को तलाक देने से इनकार कर दिया। सितंबर 2018 में शेफाली का पति तलाक देने को तैयार हुआ, लेकिन दीपिका अड़ी रहीं। शेफाली ने विक्रम पर दबाव बनाना शुरू किया। मार्च 2018 में विक्रम और शेफाली 5 दिन के लिए लेह-लद्दाख भी गए थे। पता चला कि महिला ने पत्रकारिता करने के बाद एक टीवी चैनल में कुछ नौकरी भी की थी।

चैट हिस्ट्री व ईमेल से अहम खुलासे 
जांच के दौरान पुलिस ने विक्रम का मोबाइल व लैपटॉप जब्त किया। जांच में सामने आया कि विक्रम अपनी सोसायटी की ही महिला शेफाली के संपर्क में था। दोनों वॉट्सऐप समेत कई सोशल मीडिया ऐप के जरिए चैट करते थे। मेल चेक करने पर गूगल ड्राइव में दोनों के बीच निजी फोटो व विडियो भी मिले। चैट में खुलासा हुआ कि दोनों तलाक लेकर शादी करना चाहते थे। पूछताछ में पता चला कि दीपिका तलाक के लिए तैयार नहीं थीं। इस वजह से उन्हें रास्ते से हटाने का प्लान बना।

वैली व्यू सोसायटी के टावर नंबर 3 की 8वीं मंजिल से गिरकर 27 अक्टूबर की रात दीपिका चौहान की मौत हो गई थी। दीपिका एक नामी बैंक में असिस्टेंट डायरेक्टर थीं। जांच में सामने आया कि घटना से पहले पति-पत्नी के बीच झगड़ा हुआ। पुलिस ने महिला के पिता की शिकायत पर पति विक्रम चौहान के खिलाफ हत्या के आरोप में केस दर्ज किया। विक्रम एक नामी कंपनी में डायरेक्टर है। दंपती को 4 साल की बेटी और 5 महीने का बेटा है। हत्या के अगले दिन पुलिस ने विक्रम को गिरफ्तार किया था। पता चला कि बालकनी से धक्का देते समय दीपिका ने रेलिंग पकड़ी, लेकिन उनका हाथ छुड़ा दिया गया। उनकी जूती छठी मंजिल से मिली। 

Post a Comment

0 Comments