Recents in Beach

header ads

नशे की बढ़ती प्रवृति समाज के लिए घातक, खुशियों को निगल रही है नशे की लत


सतनाली / साक्षी वालिया:

वर्तमान में युवा पीढ़ी नशे की गर्त में फंसती जा रही है। समाज के लिए आज नशा सबसे भयानक अभिशाप बन चुका है। हमारी युवा पीढी धीरे-धीरे इसकी चपेट में आ रही है। नशा असंय खुशहाल घरों को उजाड़ चुका है। राजस्थान की सीमा से सटे सतनाली कस्बे व आसपास के क्षेत्र में लंबे अरसे से नशा अपने पांव पसारता जा रहा है। नशे की जकड में फंसी कई अमूल्य जिंदगी असमय काल का ग्रास बन चुकी है लेकिन नशा इंसान के खून से मिलकर युवाओं के लिए मजबूरी बन जाती है। फिर नशे के बंदोबस्त के लिए नशेडी किसी भी हद को पार करने में पीछे नहीं हटते। अपनी इन जरूरतों को पूरा करने के लिए कई नशेडी चोरी, डकैती, लूट व हत्या जैसी संगीन वारदातों को भी अंजाम देने से पीछे नहीं हटते। नशे के कारण पूरे समाज में ग्रहण लग गया है और यही कारण है कि चोरी, मारपीट, लूट, अपहरण व हत्या जैसी अपराधों में पकडे जाने वाले लगभग 75 प्रतिशत अपराधी नशे के शिकार पाए जाते है। कई युवा तो यह नशा शौक के तौर पर करते हैं लेकिन जब वे लगातार इसकी चपेट में आ जाते हैं तो उनका यही शौक मजबूरी बन जाता है तथा वे नशा करने लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं।

नशे का बढ़ता कारोबार:-
कस्बा व आसपास के क्षेत्रों में बनी कई दुकानों, शौचालयों व अन्य जगहों पर नशेडियों को छिपकर नशा लेते देखा जा सकता है। कई तरह के नशे देखने को मिलते हैं जिसको जो आसानी से मिल रहा है वह उसी से काम चला रहा है। इन नशेडियों ने नशे करने के कई तरीके ढूंढ़ लिए हैं। कोई रूमाल पर कैमिकल छिडककर सूंघ कर नशा कर रहा है, वहीं कुछेक तो खाद्य पदार्थों के साथ कुछ कैमिकल वाली दवाईयों को नशे के रूप में अपना रहे है। इन नशेडिय़ों को नशे की ये दवाईया और इंजेक्शन आसानी से कैमिस्ट की दुकान पर मिल जाती हैं।

विभाग समय-समय पर करता है छापेमारी:-
स्वास्थ्य विभाग द्वारा समय-समय पर नशीले पदार्थो की बिक्री पर रोक लगाने के उदेश्य से कैमिस्टो की दुकानों पर छापामारी की जाती है लेकिन आज तक सतनाली क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग की किसी टीम ने कोई छापामारी अभियान नहीं चलाया जिस कारण यहां धड़ल्ले से नशीले पदार्थ व दवा खुलेआम बिक रही है। नियमों के अनुसार कैमिस्टों की दुकानों में छापामारी के दौरान नशीले पदार्थ व दवाए अवैध रूप से पाए जाने पर उनका लाईसेंस तक रद्द करने का प्रावधान है लेकिन विभागीय कार्रवाई के अभाव में कैमिस्ट लालच के वशीभूत होकर यह कारोबार कर रहे है।  
नशे के खिलाफ अभियान चलाने की जरूरत:-
क्षेत्र के गणमान्य लोगों का कहना है कि युवाओं में नशे की बढ़ती प्रवृति के प्रभाव को रोकने के लिए प्रशासन को सचेत रहना होगा तथा इसके लिए स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से स्कूलों, कालेजो व सार्वजनिक स्थानों पर जागरूकता शिविर लगाए जाने चाहिए ताकि आने वाली पीढ़ी को पहले ही इन नशों के नुकसान से अवगत कराया जा सके।


Post a Comment

0 Comments