Recents in Beach

header ads

भारतीय पवित्र संविधान में सभी वर्गा के हित सुरक्षित है- जज हिमांशु सिंह


महेंद्रगढ़

संविधान दिवस के मौके पर न्यायिक परिसर महेंद्रगढ में अतिरिक्त सिविल जज सीनियर डिविजन हिमांशु सिंह, निमित कुमार सिविल जज जूनियर डिविजन व करूणा शर्मा सिविल जज जूनियर डिविजन के मार्गदर्शन में न्यायिक परिसर में आज का दिन सविधान दिवस के रूप में मनाया। अतिरिक्त सिविल जज सीनियर डिविजन हिमांशु सिंह ने इस मौके पर पूरे कोर्ट स्टाफ को सविधान के महत्व के बारे में बताते हुए कहा कि 26 नवंबर 1949 के दिन सविधान को अंगीकार किया गया था और सविधान के निर्माताओं द्वारा सविधान को मंजूरी मिली थी और इसके बाद ही पूरे देश में संविधान लागू हुआ था।

उन्होंने बताया कि संविधान दिवस यानि कोंस्टिटूशन डे हर वर्ष 26 नवंबर को मनाया जाता है। और यह दिवस सविधान सभा के निर्माता डा. भीमराव अम्बेडकर को एक तरह की श्रद्वाजंलि है। उन्होंने ने बताया कि भारत का संविधान दुनिया सबसें लम्बा लिखित सविंधान है और इसकी सबसे बडी खूबसूरती यह है कि इसको तैयार करते समय सांस्क्तिक, धार्मिक और भौगोलिक विविधता का ध्यान रखा गया है।

उन्होंने हमारे मूल-अधिकारों व मूल-कतव्यो के बारे में विस्तार से बताया। निमित कुमार सिविल जज ने संविधान की प्रस्तावना के बारे में विस्तार से बताया कि यह हमारे संविधान की एक कूंजी है। करूणा शर्मा सिविल जज जूनियर डिविजन  ने बताया कि आज ही के दिन 26 नवंबर 1949 को भारत का सविधान बनकर तैयार हुआ था और डा.भीमराव अम्बेडकर ने सविधान को 2 वर्ष 11 महिने 18 दिनो मे तैयार कर राष्ट को समर्पित किया था। भारत का संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया। उन्होंने बताया कि डा. भीमराव अम्बेडकर के योगदान को याद करने व संविधान के महत्व का प्रसार करने के लिए आज का दिन सविधान दिवस के रूप में मनाया जाता है।इस मौके पर सभी कोर्ट स्टाफ मौजूद था जिनको सविधान के महत्व के बारे में बताया गया


फोटो- न्यायिक परिसर में मनायें गये सविधान दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में लोगों को सम्बोधित करते हुए सीनियर डिविजनल जज हिमाशुं सिंह



Follow ajeybharat on



Post a Comment

0 Comments