Recents in Beach

header ads

मिसब्रांडेड दवा बेचने पर विक्रेता व निर्माता कंपनी पर 15-15 हजार रुपये का जुर्माना लगाया


हिसार, 22 दिसंबर।
थायामैथोक्सिम-30 नामक मिसब्रांडेड दवाई बनाने व बेचने पर इसकी निर्माता कंपनी मॉनसून एग्री कैमिकल्स प्रा. तथा विक्रेता फर्म हांसी के पुराना बस स्टैंड स्थित मै. शुभम इंटरप्राइजेज पर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी ने 15-15 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है।

उल्लेखनीय है कि कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के सहायक पौधा संरक्षण अधिकारी डॉ. अरुण यादव ने सितंबर 2017 में हांसी के पुराना बस स्टैंड स्थित मै. शुभम इंटरप्राइजेज का निरीक्षण करते हुए इसके द्वारा बेची जा रही थायामैथोक्सिम-30 नामक दवाई का नमूना लिया था। मॉनसून एग्री कैमिकल्स प्रा. द्वारा तैयार की गई इस दवा के सैंपल को जांच हेतु सिरसा स्थित राज्य कीटनाशक जांच प्रयोगशाला में भेजा गया था। विश£ेषण उपरांत वरिष्ठ विश£ेषक अधिकारी ने इस सैंपल को मिस ब्रांडेड घोषित किया था।

दवा की रिपोर्ट के आधार पर सहायक पौधा संरक्षण अधिकारी डॉ. अरुण यादव ने हिसार स्थित मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में निर्माता व विक्रेता फर्म के खिलाफ केस दायर किया। मामले की सुनवाई करने उपरांत माननीय न्यायधीश ने थायामैथोक्सिम-30 नामक मिसब्रांडेड दवाई बनाने व बेचने पर निर्माता कंपनी मॉनसून एग्री कैमिकल्स प्रा. तथा विक्रेता फर्म मै. शुभम इंटरप्राइजेज पर 15-15 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है।

Post a Comment

0 Comments