Recents in Beach

header ads

मैं अकेला ही चला था जानिबे मंजिल मगर लोग जुड़ते गए और कारवां बढ़ता गया

करन निम्बार्क, मुम्बई:

मैं अकेला ही चला था जानिबे मंजिल मगर लोग जुड़ते गए और कारवां बढ़ता गया । यह बात सोलह आने सच सिद्ध होती है खबरें गौरव के संस्थापक और प्रधान सम्पादक श्री दिनेश्वर माली के लिए । आज से कई वर्षों पूर्व राजस्थान की रोहिडा की भूमि से मुंबई आया एक नौजवान, आँखों में सपने, मन में बुलंद हौसले लेकिन अनुभव के नाम पर कुछ नहीं । कोई गुरु नहीं कोई, रहबर नहीं, कोई साथी तक नहीं । बस कुछ कर दिखाने की जीजीविषा, वह जिद और अपनों का आशीष । ठोकरें खाते, संभलते, सिखते-सिखते आज वही युवा इस मुकाम पर है कि जो किसी पहचान का मोहताज नहीं ।


कोई भी राजस्थानी कार्यक्रम हो और खबरें गौरव का मंच ना हो यह संभव ही नहीं है । खबरें गौरव नियमित प्रकाशन के साथ ही समाज सेवा से जुड़े कार्य, काव्य गोष्ठी, उभरती प्रतिभाओं का प्रोत्साहन और सम्मान करता आया है । पिछले रविवार 2 दिसंबर २०१९ को मुंबई में दीपावली के पर्व पर खबरें गौरव परिवार का वार्षिक सम्मलेन संपन्न हुआ । इस अवसर पर खबरें गौरव परिवार से जुड़े रहें सदस्यों का उनके योगदान के लिए विशेष सम्मान किया गया । 

इसके अलावा अन्य प्रतिभाओं को भी सम्मानित किया गया । समारोह की सबसे विशेष बात, विशेष आकर्षण था, इसमें उपस्थित हुए भारत के दिग्गज गीतकार अभिलाष जी जिन्हें दादा साहब फाल्के पुरस्कार के अलावा कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है । अभिलाष जी जिन्होंने दशकों पूर्व अजर अमर रचना “इतनी शक्ति हमें देना दाता” लिखी थी और जो कई विद्यालयों की प्रार्थना बन चुकी है । 

शीघ्र ही जिसका कई अंतरराष्ट्रीय भाषाओं में अनुवाद होने वाला है । इनके अलावा जिन मुख्य अतिथियों ने परिवार का हौसला बढ़ाया है वे हैं, मंगल मीडिया से फिल्म निर्माता कैलाश चौधरी, अनीता फिल्म से छगन पुरोहित, फिल्म निर्देशक मनीषदेव पालीवाल, टीवी व फिल्म अभिनेता सौरभ बंसल जो स्टार प्लस के धारावाहिक “तू मेरा हीरो” में थे और कई अन्य धारावाहिकों में काम कर चुके हैं, समाजसेवी पारस माली और हरीश कुमावत जिन्होंने मिलाकर दीप प्रज्ज्वलित किया और कार्यक्रम का शुभारम्भ किया ।

काव्य गोष्ठी में जिन कवियों ने समां बाँध दिया वे हैं, स्वयं गीतकार अभिलाष जी, रवि यादव, स्पर्श देसाई, देवेन्द्रसिंह राजपुरोहित, सौरभ बंसल, रणजीत माली, शांतिलाल देवड़ा, और करन निम्बार्क । आगामी वर्ष २०१९ में दिनेश्वर माली जी लाने जा रहे हैं सर्वप्रथम प्रादेशिक कलाकारों की संपर्क पुस्तिका, विशेषकर देश-विशेष में बसे राजस्थानी कलाकारों के लिए राजस्थानी कला प्रेमियों के लिए । लगभग दो-तीन वर्षों के कड़े संघर्ष के बाद यह संपर्क पुस्तिका बन पाई है और सैकड़ों राजस्थानी कलाकारों को समाविष्ट कर पाई है । कार्यक्रम के अंत में दिनेश्वर माली जी ने सभी अतिथियों का आभार प्रकट किया और जलपान व मिष्ठान और मीठी मनुहार के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ । 

Post a Comment

0 Comments