उकलाना में तैयार करवाएं ओपन जिम से युक्त आधुनिक पार्क: आयुक्त दीप्ति उमाशंकर

आयुक्त दीप्ति उमाशंकर ने परिवर्तन योजना के तहत उकलाना के विकास के लिए ली अधिकारियों की बैठक
प्रभुवाला व चमारखेड़ा के स्टेडियमों में शुरू होंगे 5-5 खेल, खिलाडि़यों के लिए उपलब्ध करवाई जाएंगी सुविधाएं
सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने व सुरक्षा उपाय सुनिश्चित करने के लिए भी दी जरूरी हिदायतें


हिसार, 25 जनवरी।


अंबाला मंडल की आयुक्त तथा सैनिक व अर्धसैनिक कल्याण विभाग की प्रधान सचिव आईएएस दीप्ति उमाशंकर ने कहा कि उकलाना में ओपन जिम से युक्त एक अत्याधुनिक पार्क तैयार करवाया जाए जिसमें शौचालयों सहित झूलों आदि की सुविधाएं हों। आयुक्त उमाशंकर उकलाना खंड में परिवर्तन योजना के तहत करवाए जाने वाले कार्यों के संबंध में उपायुक्त कार्यालय में अधिकारियों की बैठक को संबोधित कर रही थीं। इस अवसर पर उपायुक्त अशोक कुमार मीणा, अतिरिक्त उपायुक्त अमरजीत सिंह मान, बरवाला एसडीएम पृथ्वी सिंह, नगर निगम आयुक्त अशोक कुमार बंसल व सीटीएम शालिनी चेतल भी मौजूद थीं।


आयुक्त दीप्ति उमाशंकर ने कहा कि प्रदेश सरकार ने राज्य के पिछड़े खंडों का तेज गति से विकास करवाने तथा इनमें विभिन्न विभागों की योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन के लिए परिवर्तन नामक योजना शुरू की है। इसके तहत 10 मानकों के अंतर्गत विभिन्न कार्य करवाए जाने हैं। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारियों को आपसी समन्वय व तेज गति से कार्य करते हुए सच्चे अर्थों में उकलाना खंड में परिवर्तन का स्वप्न साकार करना है।


उन्होंने स्वच्छ भारत के तहत करवाए जाने वाले हरित उद्यान कार्य की समीक्षा करते हुए अधिकारियों को उकलाना शहर में एक पार्क विकसित करवाने को कहा जिसमें ओपन जिम की सुविधा हो। इस पार्क में 2 शौचालय बनवाने, झूले व फव्वारे लगवाने तथा 2 गजीबो बनवाने को कहा। उन्होंने कहा कि उकलाना शहर में सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट के लिए जगह चिह्नित की जाए ताकि कचरे की समस्या का स्थाई समाधान हो सके। उन्होंने कहा कि शहर में कम से कम 10 शौचालय भी बनवाए जाएं। नगर पालिका सचिव ने बताया कि इस समय शहर में 5 शौचालय हैं जबकि 2 शौचालयों के टेंडर आमंत्रित किए जा चुके हैं। उपायुक्त ने कहा कि उकलाना में सफाई व्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए जागरूकता मुहिम चलाई जाएगी और बाजार में पॉलिथिन के स्थान पर कपड़े के थैलों का प्रचलन बढ़ाया जाएगा।


युवाओं के लिए चलाए जा रहे कार्यक्रमों की समीक्षा के दौरान अधिकारियों ने बताया कि खंड के दो गांवों, प्रभुवाला व चमारखेड़ा में खेल स्टेडियम हैं जहां युवाओं के लिए खेल सुविधाएं उपलब्ध करवाई जा रही हैं। आयुक्त दीप्ति उमाशंकर ने दोनों स्टेडियम में कम से कम 5-5 खेलों की सुविधाएं शुरू करवाने के निर्देश देते हुए इन खेलों के लिए जरूरी सामान व सुविधाएं भी खिलाडि़यों को उपलब्ध करवाने को कहा।


दीप्ति उमाशंकर ने उकलाना खंड में सड़क सुरक्षा उपायों को पुख्ता करने तथा दुर्घटनाओं में कमी लाने की दिशा में अब तक उठाए गए कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि सड़कों पर वाहनों को नियंत्रित करने के लिए उकलाना में रेड लाइट व सीसीटीवी कैमरे लगवाए जाएं। शराबी वाहन चालकों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए उन्होंने 2 एल्को मीटर खरीदने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ओवर स्पीड व अन्य वाहनों के चालान की पूरी प्रक्रिया की वीडियो रिकॉर्डिंग भी करवाई जाए ताकि पुलिस के पास नियम तोड़ने वाले चालकों के खिलाफ पर्याप्त सबूत रहें और उन्हें सजा दिलाई जा सके।


श्रीमती उमाशंकर ने किसानों की आय दोगुनी करने के एजेंडा के तहत सूक्ष्म सिंचाई क्षेत्र में 400 एकड़ की वृद्धि के लक्ष्य के मद्देनजर कृषि व बागवानी विभागों के अधिकारियों को अगले दो महीने तक कम से कम 200-200 एकड़ भूमि तक सूक्ष्म सिंचाई की उपलब्धता सुनिश्चित करने को कहा। उन्होंने दोनों विभागों को 10-10 किसान उत्पादन संस्थाओं का निर्माण करवाने को भी कहा। उन्होंने ढेंचा की खेती में वृद्धि, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, मछली पालन, मधुमक्खी पालन, मशरूम की खेती व अन्य संबंधित गतिविधियों के संचालन के संबंध में भी अधिकारियों को जरूरी दिशा-निर्देश दिए।


विभिन्न प्रकार की वित्तीय सुविधाओं के तहत डीआरआई, मुद्रा लोन, स्टार्ट अप इंडिया और स्टैंड अप इंडिया के तहत दिए गए लोन की समीक्षा के दौरान एलडीएम बीके धींगड़ा ने बताया कि स्टैंड अप इंडिया के तहत उकलाना खंड में बैंकों द्वारा 14 महिलाओं व 6 अनुसूचित जाति के उद्यमियों को ऋण दिए गए हैं। इसी प्रकार मुद्रा योजना की शिशु श्रेणी में 858, किशोर श्रेणी में 145 व तरूण श्रेणी में 15 ऋण उपलब्ध करवाए गए हैं। आयुक्त दीप्ति उमाशंकर ने बैंकों के माध्यम से अधिक से अधिक व्यक्तियों तक वित्तीय योजनाओं का लाभ पहुंचाने के निर्देश देते हुए बैंकों को अपना लक्ष्य तय समयावधि में पूरा करने को कहा।

आयुक्त दीप्ति उमाशंकर ने वायु प्रदूषण के स्तर में कमी लाने के लिए अवशेष जलाने की रोकथाम, वायु की गुणवत्ता की निगरानी, पत्तों और ठोस कचरे को जलाने पर रोक लगाने संबंधी हिदायतें दीं। उन्होंने स्कूलों द्वारा विद्यार्थियों को जाति व रिहायश प्रमाण पत्र जारी करने के कार्य की भी समीक्षा की और शिक्षा अधिकारियों को 20 फरवरी से पहले 90 प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त करने को कहा। उन्होंने कहा कि एक माह बाद वे फिर हिसार आकर परिवर्तन योजना के तहत किए गए कार्यों की प्रगति की समीक्षा करेंगी।


बैठक में सिविल सर्जन डॉ. दयानंद, एलडीएम बीके धींगड़ा, जनसंपर्क विभाग के उपनिदेशक डॉ. साहिब राम गोदारा, पशुपालन विभाग के उपनिदेशक डॉ. डीएस सिंधू, कृषि उपनिदेशक डॉ. विनोद फोगाट, डीईईओ देवेंद्र सिंह, जिला परियोजना अधिकारी डॉ. राजकुमार नरवाल, जिला बागवानी अधिकारी डॉ. सुरेंद्र सिहाग व बीडीपीओ संदीप भारद्वाज सहित अन्य विभागों के अधिकारी भी मौजूद थे।

Post a Comment

0 Comments