Recents in Beach

header ads

हरियाणा वह प्रदेश है जिसने सबसे कम समय में सबसे अधिक प्रगति की-जोशी

11 दिवसीय हरियाणवी नृत्य कार्यशाला का समापन।


रेवाड़ी 15 जनवरी।
हरियाणा कला परिषद गुरुग्राम मंडल के तत्वाधान में राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय रेवाडी में चली 11 दिवसीय हरियाणवी नृत्य कार्यशाला का आज समापन हो गया। इस कार्यशाला में बच्चो को हरियाणवी संस्कृति, कलां, नृत्य व संगीत के बारे में बच्चों को प्रशिक्षण दिया गया जिसमें जिला के 105 बच्चों ने भाग लिया।
समापन समारोह को सम्बोधित करते हुए हरियाणा कला परिषद गुरुग्राम मंडल के क्षेत्रीय निदेशक महेश जोशी ने कहा कि कला परिषद का उद्देश्य है कि कार्यशाला आयोजित करवाकर बच्चों में छुपी हुई प्रतिभा को निखारना है तथा उन्हें एक प्लेटफार्म देकर उनकी रूचि के अनुसार प्रशिक्षण देने का कार्य किया जाता है। उन्होंने कहा कि हरियाणवी संस्कृति की पहचान बरकरार रखने के लिए इस प्रकार की कार्यशाला का आयोजन किया जाता है।
जोशी ने कहा कि हरियाणा वह प्रदेश है जिसने सबसे कम समय में सबसे अधिक प्रगति की है लेकिन यहाँ के लोगों का रहन-सहन बहुत ही सादा रहा है। यहाँ के लोग सरल, विनम्र और ज़मीन से जुड़े हैं। उन्होंने अभी तक पुरानी परम्पराओ का पालन बड़ी सहजता के साथ किया है।
उन्होंने बताया कि कार्यशाला के निर्देशक विवेक यादव के निर्देशन में इस 11 दिवसीय हरियाणवी नृत्य कार्यशाला में जो प्रशिक्षण छात्राओं को दिया गया उसकी बेहतरीन प्रस्तुति दी गई जिसमें हरियाणवी घूमर, खोडिया नृत्य मुख्य रूप से रहे। वही कार्यशाला में संगीत निर्देशक प्रशांत मेहंदीरता के निर्देशन में ढोलक पर गौरव व नगाड़ी पर नरेंद्र द्वारा मनमोहक संगीत की प्रस्तुति दी गई। कार्यशाला के समापन अवसर पर समीक्षक के रूप में हरियाणा कला परिषद गुरुग्राम मण्डल के समन्वयक मदन डागर भी उपस्थित रहे।
कार्यशाला में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर आधारित नृत्य हिंदुस्तान देखना चाहू सू व फागुन माह के आने पर होने वाले नृत्य फागुन आयो री आयो री की भी तैयारी करवाई गई। उन्होंने बच्चों के उज्जवल भविष्य की कामना की तथा सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र भी दिए।
इस अवसर पर संगीत अध्यापिका शशिकला, सहायक कोरियोग्राफर सागर सैनी, रंगकर्मी भगवान सिंह, झम्मन सिंह सैनी, यश चौधरी, आद्वित्य डाटा अभिषेक सैनी, विनू आदि उपस्थित रहे।

Post a Comment

0 Comments