Recents in Beach

header ads

देशभर में ग्रामीण क्षेत्र के लिए शुरू हुई स्वच्छ सुंदर शौचालय प्रतियोगिता


रंग-रोगन से शौचालयों को आकर्षक रूप देने वाले ग्रामीणों, ग्राम पंचायतों व जिलों को राष्ट्रीय स्तर के समारोह में किया जाएगा सम्मानित
एक जनवरी से शुरू हुई प्रतियोगिता 31 जनवरी तक चलेगी


हिसार, 12 जनवरी।पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय द्वारा देशभर के ग्रामीण क्षेत्रों के लिए स्वच्छ सुंदर शौचालय प्रतियोगिता शुरू की गई है। 31 जनवरी तक चलने वाली इस प्रतियोगिता के तहत सुंदर शौचालयों वाले ग्रामीणों, ग्राम पंचायतों व जिलों को राष्ट्रीय स्तर के समारोह में सम्मानित किया जाएगा।

अतिरिक्त उपायुक्त अमरजीत सिंह मान ने बताया कि जनता को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने तथा उन्हें स्वच्छता अभियान में सहभागी बनाने के लिए पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय ने 1 जनवरी से 1 माह तक चलने वाली स्वच्छ सुंदर शौचालय प्रतियोगिता शुरू की है। इसके तहत देश की 2.5 लाख ग्राम पंचायतों में विविध गतिविधियां आयोजित की जाएंगी।
उन्होंने बताया कि स्वच्छ सुंदर शौचालय प्रतियोगिता में 31 जनवरी तक ग्रामीण क्षेत्रों में बने शौचालयों को रंग-रोगन के माध्यम से आकर्षक स्वरूप देने वाले गांवों को शामिल किया जाएगा। सबसे सुंदर शौचालयों वाले ग्रामीणों को भी व्यक्तिगत श्रेणी में पुरस्कृत किया जाएगा। अपने शौचालयों को श्रेष्ठ रूप देने वाले विजेता ग्रामीणों, पंचायतों व जिलों को राष्ट्रीय स्तर के समारोह में सम्मानित किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि प्रतियोगिता में भागीदारी करने वाले ग्रामीणों को अपने घर में बने शौचालय पर पेंट के माध्यम से स्थानीय कला के डिजाइन उकेरते हुए उन्हें सुंदर बनाना है। शौचालयों पर स्वच्छ भारत के संदेश, लोगो व स्लोगन भी लिखे जा सकते हैं। प्रतियोगिता के माध्यम से ग्रामीणों को स्वच्छता के प्रति शिक्षित व सूचित करते हुए आपसी संवाद कायम किया जाएगा।
एडीसी मान ने बताया कि प्रतियोगिता अवधि के दौरान यानी 31 जनवरी तक पेंट व रंग-रोगन के माध्यम से सुंदर बनाए गए शौचालयों की संख्या के आधार पर प्रत्येक राज्य श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले तीन जिलों का चयन करेंगे। प्रत्येक जिला भी अपने यहां पांच श्रेष्ठ सुंदर शौचालयों का चयन करेगा और इनकी फोटो राज्य को भेजी जाएंगी। राज्य भी अपने श्रेष्ठ जिलों के श्रेष्ठ गांवों की फोटो अभियान की पूरी रिपोर्ट सहित 10 फरवरी तक मंत्रालय को भेजेंगे। इसके पश्चात मंत्रालय द्वारा गठित कमेटी द्वारा आवेदनों का मूल्यांकन किया जाएगा जिसके आधार पर सर्वश्रेष्ठ शौचालयों के लिए ग्रामीण, ग्राम पंचायत, खंड व जिलों का चयन किया जाएगा और उन्हें सम्मानित किया जाएगा।

अतिरिक्त उपायुक्त ने स्वच्छ भारत मिशन, ग्रामीण के अधिकारियों व कर्मचारियों को निर्देश दिए हैं कि वे जिला के प्रत्येक गांव में ग्राम पंचायतों से समन्वय स्थापित करके स्वच्छ सुंदर शौचालय प्रतियोगिता का अभियान शुरू करवाएं। उन्होंने कहा कि इस प्रतियोगिता में जिला को अपना विशेष स्थान दर्ज करवाना है।

Post a Comment

0 Comments