Recents in Beach

header ads

Irrfan Khan Birthday: जन्मदिन विशेष: इरफान खान

इरफान खान जिसके आगे मुश्किलें भी घुटने टेक देती हैं, जन्मदिन विशेष, बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड तक अपने अभिनय की छाप छोड़ने वाले अभिनेता इरफान खान ने हर वर्ग के दर्शकों को प्रभावित किया है। इरफान खान का जन्म 7 जनवरी 1967 को जयपुर के एक मुस्लिम पठान परिवार में हुआ था। उनका पूरा नाम साहबजादे इरफान अली खान है। उनके पिता टायर का व्यापार करते थे।



इरफान खान ने अपने करियर में कई यादगार फिल्मों में काम किया है। बॉलीवुड के साथ-साथ इरफान हॉलीवुड में भी सक्रिय रहे हैं। उन्होंने ‘स्पाइडर मैन’, ‘जुरासिक वर्ल्ड’ और ‘इन्फर्नो’ जैसी फिल्मों में काम किया। हाल ही में हॉलीवुड अभिनेता टॉम हैंक्स ने उनकी सराहना करते हुए कहा था कि इरफान की आंखें भी अभिनय करती हैं।

उनके करियर की शुरूआत टेलीविजन सीरियल्‍स से हुई थीा अपने शुरूआती दिनों में वे चाणक्‍य, भारत एक खोज, चंद्रकांता जैसे धारावाहिकों में दिखाई दिएा उनके फिल्‍मी करियर की शुरूआत फिल्‍म 'सलाम बाम्‍बे' से एक छोटे से रोल के साथ हुईा इसके बाद उन्‍होंने कई फिल्‍मों में छोटे बड़े रोल किए लेकिन असली पहचान उन्‍हें 'मकबूल', 'रोग', 'लाइफ इन अ मेट्रो', 'स्‍लमडॉग मिलेनियर', 'पान सिंह तोमर', 'द लंचबाक्‍स' जैसी फिल्‍मों से मिली।

इरफान ने पहली बार 2005 में आई फिल्म ‘रोग’ में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। फिल्म ‘हासिल’ के लिए इरफान खान को उस साल का ‘बेस्ट विलेन’ का फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला।

उन्होने द वारियर, मकबूल, हासिल, द नेमसेक, रोग जैसी फिल्मों मे अपने अभिनय का लोहा मनवाया। "हासिल" फिल्म के लिये उन्हे वर्ष 2004 का फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ खलनायक पुरस्कार भी प्राप्त हुआ। वह बालीवुड की 40 से ज्यादा फिल्मों मे अभिनय कर चुके हैं। इरफान हॉलीवुड मे भी एक जाना पहचाना नाम हैं। वह ए माइटी हार्ट, स्लमडॉग मिलियनेयर और द अमेजिंग स्पाइडर मैन फिल्मों मे भी काम कर चुके हैं।

उसके अलावा इरफान खान ‘लंचबॉक्स’, ‘गुंडे’, ‘हैदर’, ‘पीकू’ और ‘हिंदी मीडियम’ जैसी बेहतरीन फिल्मों में काम किया। इरफान खान को फिल्म ‘पान सिंह तोमर‘ के लिए नेशनल अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था। साल 2011 में भारत सरकार की तरफ से उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया गया।

आपको जानकर हैरानी होगी कि पठान परिवार के होने के बावजूद इरफान बचपन से ही शाकाहारी हैं। उनके पिता उन्हें हमेशा यह कहकर चिढ़ाते थे कि पठान परिवार में ब्राह्मण पैदा हो गया। इरफान खान का शुरुआती दौर संघर्षों से भरा था। जब उनका एनएसडी में प्रवेश हुआ, उन्हीं दिनों उनके पिता की मृत्यु हो गई। जिसके बाद इरफान को घर से पैसे मिलने बंद हो गए। एनएसडी से मिलने वाली फेलोशिप के जरिए उन्होंने अपना कोर्स खत्म किया।

आपको ध्यान होगा कि इरफान खान को न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर नाम की रहस्यमयी बीमारी हो गई थी। इसके बाद इरफान खान अपना इलाज कराने के लिए लंदन चले गए थे।एंडोक्राइन ट्यूमर शरीर की उन कोशिकाओं में होता है जो एंडोक्राइन हार्मोन रिलीज करती है। एंडोक्राइन ट्यूमर कैंसर का रूप भी ले सकता है। यदि ये कही से भी हो सकता है और कैंसर का रूप लेता है। इसके कई ग्रेड होते हैं।

ग्रेड एक और दो नॉर्मल है। वहीं, ग्रेड तीन सबसे खराब है। इस ग्रेड में ये कैंसर का रूप ले लेता है। यदि ग्रेड तीन का ट्यूमर है तो इसके लिए कीमोथेरेपी का इस्तेमाल किया जाता है। ये ट्यूमर केवल दिमाग में ही नहीं बल्कि फेफड़े, पेट,पेनक्रियाज और आंतों तक में हो सकता है। न्यूरो एंडोक्राइन के लक्षण इस बात पर निर्भर करते हैं कि ये किस शरीर के किस भाग में हो रहा है और कहां तक फैला है। इसके अलावा ट्यूमर फंक्शनल है या नॉन फंक्शनल है इस पर निर्भर होता है।

जब इरफान खान अपने एक्टिंग केरियर के लिए संघर्ष कर रहे थे तभी ने अपनी क्लासमेट सुतपा सिकंदर से 23 फरवरी 1995 को शादी की। इरफान के संघर्ष के दिनों में सुतपा हमेशा उनके साथ खड़ी रहीं। इरफान ने जब सुतपा सिकंदर से शादी का फैसला किया तो वो उनके लिए धर्म बदलने के लिए भी तैयार हो गए थे लेकिन सुतपा के घरवाले दोनों की शादी के लिए तैयार हो गए, जिसके बाद इरफान को धर्म बदलने की जरूरत नहीं पड़ी। इरफ़ान के दोनों बेटों के नाम बबील-अयान  हैं।।सुतपा इरफान की फिल्म "करीब-करीब सिंगल" की प्रोड्यूसर भी थीं।

इरफान कहते हैं कि कोर्स खत्म होने तक दोनों को प्यार हो गया। 
इरफान के मुताबिक सुतपा से उनकी पहली मुलाकात नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के एक्टिंग सेशन के दौरान हुई थीं। दोनों फिर अच्छे दोस्त बन गए। उस वक्त इरफान और सुतपा लिव इन रिलेशन में रहने लगे। इस दौरान जब सुतपा प्रेग्नेंट हो गई। ऐसे में उन्होंने अपने एक कमरे के घर को छोड़कर दो कमरों का घर लेने की सोची।

2011 में भारत सरकार द्वारा पद्मश्री से सम्मानित किया। भारत के 60वे राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार 2012 में इरफ़ान खान को फिल्म पान सिंह तोमर में अभिनय के लिए श्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार दिया गया।

Post a Comment

0 Comments