Recents in Beach

header ads

कोसलगढ के संस्थापक राजा कौशल सिंह की जयंती मनाई जायेगी : डाॅ0 टी सी राव कोसलिया



कोसली गाॅव की स्थापना एक चन्द्रवंशी यादव गाॅव के रुप में 1193 एडी में राजा कौशल सिंह ने की थी । यह जानकारी क्षेत्र के प्रमुख समाजसेवी डाॅ0 टी सी राव कोसलिया ने दी । डाॅ0 राव ने बताया की कहते हैं राजा कौशल सिंह दिल्ली से चलकर गुडियानी के रास्ते आज की कोसली स्थान पहुंचे थे और बस स्टैंड के पास बने तिकोना पार्क के स्थान पर अपनी गाड़ी खड़ी कर कुछ समय रुके थे और बाबा मुक्तेश्वरपुरी महाराज से मिले थे । बाबा मुक्तेश्वरपुरी महाराज ने राजा कौशल सिंह को कोसली गाॅव बसाने के लिए प्रेरित किया था । उनकी याद में कोसली में बहुत ही पवित्र स्थान है जिसे बाबा मुक्तेश्वरपुरी मठ के नाम से जानते हैं जो कोसली क्षेत्र में बसे 40 गाॅवों की आस्था का केन्द्र है । 

अकेले कोसली क्षेत्र में 62 हजार से ज्यादा कोसलिया गोत्र के लोग बसते हैं । राजा कौशल सिंह भी कोसलिया गोत्र के थे । ऐसे महान व्यक्ति को हम काफी समय से भुलाये बैठे हैं । मेरा मानना है कि राजा कौशल सिंह को सच्ची श्रद्धांजली देने और लोगों के बीच जनजागृती फैलाने एवं मान-सम्मान दिलाने के लिए उनकी जयन्ती मनाई जाए एवं कोसली रेलवे स्टेशन से कोसली गाॅव होते हुए गुड़ियानी जाने वाले मार्ग, जिसे लोग राजा कौशल सिंह मार्ग के नाम से पहले से ही जानते है का नामकरण करने और बस स्टैंड के पास बने तिकोना पार्क को राजा कौशल देव सिंह चैक घोषित करने और वहाॅ उनकी भव्य प्रतिमा लगाने का प्रस्ताव रखा जाए । हलांकी इन सबकी अधिकारीक घोषणा करने के लिए डाॅ0 टी सी राव, संयोजक, ग्रामीण उत्थान - भारत निर्माण ने पहले ही माननीय मुख्यमंत्री जी से पत्र लिखकर निवेदन किया जा चुका है । 

बाबा मुक्तेश्वरपुरी मठ समिति के अध्यक्ष कप्तान जय लाल ने कोसली गाॅव के संस्थापक राजा कौशल सिंह की जयंन्ती कोसली बस स्टैंड के पास बने तिकोना पार्क में 10 फरवरी को धुमधाम से मनाने का निर्णय किया। समिति के अध्यक्ष ने बताया की राजा कौशल देव सिंह की जयन्ती धुमधाम से मनाई जायेगी जिसमें सभी क्षेत्रवासी बढचढ कर हिस्सा लेंगें । इसमंे पुवर्जों का सम्मान भी होगा जिसका काफी समय से लोगों को इन्तजार था । भविष्य में भी राजा कौशल देव सिंह की जयन्ती हर वर्ष 10 फरवरी को ही मनाई जायेगी ।

Post a Comment

0 Comments