अप्रैल - मई, 2019 अमिताभ बच्चन के लिए शारीरिक पीड़ा का संकेतक: पं गोपाल कृष्ण कौशिक

वृद्धावस्था का प्रतीक ग्रह शनि है। यह यथार्थ का प्रकाशक और पीड़ाकारक भी होता है। जिनका जन्मकालीन शनि स्थैतिज ऊर्जा संयुक्त या वक्र गति का होता है, 76, 77, 78 वर्ष की उम्र में जब शनि की एक खास स्थिति बनती है तो अक्सरहा ऐसे जातक भावाधिपत्य से संबंधित कठिन पीड़ा झेल रहे होते हैं।

जिनका जन्म सन् 1942 मध्य से 1944 के मध्य विशेषकर सितंबर 1942 से फरवरी 1943 के बीच तथा सितम्बर 1943 से फरवरी 1944 के बीच हुआ है, उन्हें 2019 अप्रैल मध्य से मई मध्य के बीच किसी भी पीड़ा को झेलने के लिए मानसिक रूप तैयार रहना चाहिए। दुर्योग से इस प्रकार का योग फिल्म जगत के सर्वाधिक लोकप्रिय अभिनेता के लिए भी उपस्थित हो रहा है। ईश्वर से प्रार्थना है कि वे सर्वदा स्वस्थ बने रहें हालांकि ब्रह्मांडीय व्यवस्था को समझने और उद्घाटित करने का मूल उद्देश्य यह है कि किसी भी संभावित घटना से निपट पाने की तैयारी समय रहते की जा सके। विद्वान पाठक कदापि यह नहीं समझे कि वृद्धावस्था और पीड़ा के बीच गहरा सम्बन्ध होता है। गत्यात्मक ज्योतिष की हर भविष्यवाणी समय सापेक्ष होती है अतः खास समय सीमा की चर्चा की जा रही है।

समृद्धि वैदिक सेवा संस्थान्
आओ चले संस्कार की ओर
  पं गोपाल कृष्ण कौशिक  
      आध्यात्मिक चिंतक-
        97118 24759


Post a Comment

0 Comments