Recents in Beach

header ads

स्कूल-कॉलेजों में बनवाए जाएं अनुसूचित जाति व पिछड़े वर्ग के सभी बच्चों के जाति प्रमाण पत्र : उमाशंकर


अंबाला मंडल आयुक्त एवं प्रधान सचिव दीप्ति उमाशंकर ने उकलाना खंड में चल रही परिवर्तन योजना की समीक्षा की
उकलाना में सार्वजनिक शौचालयों की संख्या को 5 से बढ़ाकर 10 करने के निर्देश


हिसारअंबाला मंडल आयुक्त एवं सैनिक-अर्धसैनिक कल्याण विभाग की प्रधान सचिव दीप्ति उमाशंकर ने कहा कि उकलाना में सभी सरकारी व निजी स्कूलों व कॉलेजों के स्कूल मुखिया व प्राचार्य ही अपने यहां पढऩे वाले अनुसूचित जाति व पिछड़ा वर्ग के सभी बच्चों के जाति व रिहायश प्रमाण पत्र बनाएं। आयुक्त उमाशंकर आज लघु सचिवालय स्थित जिला सभागार में विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ खंड उकलाना में चलाई जा रही परिवर्तन योजना की प्रगति की समीक्षा कर रही थीं।
आयुक्त दीप्ति उमाशंकर ने पिछली बैठक के दौरान अधिकारियों को दिए गए लक्ष्यों की समीक्षा करते हुए अब तक करवाए गए कार्यों की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि परिवर्तन योजना प्रदेश सरकार की बहुत महत्वपूर्ण योजना है जिसके तहत प्रदेश के पिछड़े खंडों को चिह्निïत किया गया है और इन खंडों में विभिन्न विभागों की सभी महत्वपूर्ण योजनाओं को प्रभावी ढंग से क्रियान्वित किया जाना है।


उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति व पिछड़ा वर्ग के विद्यार्थियों को जाति प्रमाण पत्र बनवाने के लिए तहसील कार्यालयों में चक्कर न लगाने पड़ें, इसके लिए सरकार ने उनके जाति प्रमाण पत्र संबंधित शिक्षण संस्थान के माध्यम से ही बनवाने के आदेश दिए हैं। उन्होंने शिक्षा अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने को कहा कि स्कूल व कॉलेज में शिक्षण संस्थान के मुखिया उन सभी बच्चों को जाति प्रमाण पत्र जारी करें जिनके पास अभी तक प्रमाण पत्र नहीं हैं।

आयुक्त उमाशंकर ने पिछली बैठक के दौरान उकलाना में पार्क व शौचालय निर्माण के संबंध में दिए निर्देशों पर की गई कार्रवाई की जानकारी मांगी तो नगर परिषद सचिव ने बताया कि सार्वजनिक पार्क, इसमें ओपन जिम, गिजेबो व बच्चों के लिए झूले आदि लगवाने के कार्या का टेंडर कर दिया गया है। जल्द ही इस पर कार्य शुरू हो जाएगा। उन्होंने बताया कि उकलाना में पांच सार्वजनिक शौचालय हैं। इस पर आयुक्त उमाशंकर ने कहा कि शौचालयों की संख्या को 5 से बढ़ाकर 10 किया जाए और इन सभी की जियो टैगिंग की जाए। उपायुक्त ने कहा कि उकलाना के ठोस कचरा के प्रबंधक की भी प्रभावी कार्ययोजना तैयार करवाई जाए।


उन्होंने उकलाना में संकरे बाजार को चौड़ा करने, अतिक्रमण हटवाने, 300 एलईडी स्ट्रीट लाइटें लगवाने तथा रेड लाइट लगवाने के लिए स्थान चिह्निïत करने के कार्य की भी समीक्षा की। उन्होंने उकलाना खंड के पांच गांवों में नई व्यायामशालाएं खुलवाने तथा सभी खेल स्टेडियमों को बायो-मीट्रिक उपस्थिति प्रणाली से जोडऩे के भी निर्देश दिए। उन्होंने उकलाना में बेसहारा पशुओं की समस्या के समाधान की जानकारी मांगी तो डीडीपीओ ने बताया कि बेसहारा गायों को खंड की गौशालाओं में तथा बेसहारा नंदियों को बिठमड़ा व पाबड़ा की नंदीशालाओं में भिजवाया जाएगा।


बैंकों के माध्यम से मिलने वाली विभिन्न वित्तीय योजनाओं की समीक्षा के दौरान आयुक्त उमाशंकर ने बैंक अधिकारियों को कहा कि वे उकलाना खंड की सभी 15 बैंक शाखाओं के माध्यम से डीआरआई ऋण, मुद्रा ऋण, स्टार्ट-अप इंडिया, स्टैंड-अप इंडिया व अन्य योजनाओं के लिए दिए गए लक्ष्यों को प्राप्त करें। उन्होंने किसानों की आय दोगुनी करने के लिए कृषि, बागवानी व मत्स्य विभागों के अधिकारियों द्वारा लक्ष्य प्राप्ति के लिए किए गए प्रयासों की जानकारी मांगी। उन्होंने कहा कि बागवानी व कृषि विभाग एक-एक हजार एकड़ क्षेत्रफल में माइक्रो इरिगेशन प्रणाली की स्थापना करवाएं। इसके साथ ही किसानों को मशरूम, मधुमक्खी पालन व मछली पालन के लिए भी प्रोत्साहित किया जाए। उन्होंने कहा कि अगली बार वे किसी मत्स्य पालन प्लांट का दौरा भी करेंगी।


श्रीमती उमाशंकर ने स्वास्थ्य विभाग द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के उकलाना में क्रियान्वयन की भी जानकारी ली। उन्होंने सभी स्वास्थ्य केंद्रों में बायो-मिट्रिक प्रणाली की स्थापना, सार्वभौमिक टीकाकरण, फस्र्ट रेफरल यूनिट में सुधार, प्रत्येक डिलिवरी के लिए 4 आधारभूत सेवाओं की उपलब्धता की भी समीक्षा की। उन्होंने विभिन्न गतिविधियों में युवाओं की भागीदारी, यूथ क्लब, उनके लिए रोजगार की उपलब्धता, खेल गतिविधियों, पर्यावरण प्रदूषण में कमी, फसल अवशेष जलाने पर रोक, वायु गुणवत्ता की निगरानी, कूड़े व पत्तियों के जलाने पर रोक, अपराधियों की धरपकड़, नशा करके वाहन चलाने वालों के चालान, सडक़ दुर्घटनाओं में कमी लाने, छेड़छाड़ की घटनाओं पर रोक सहित विभिन्न विभागों से संबंधित कार्यों की समीक्षा की और इनके बेहतर क्रियान्वयन के संबंध में जरूरी दिशा-निर्देश दिए। 


इस अवसर पर अतिरिक्त उपायुक्त अमरजीत सिंह मान, सीटीएम शालिनी चेतल, डीडीपीओ अश्वीर सिंह, सिविल सर्जन डॉ. दयानंद, पशुपालन विभाग के उपनिदेशक डॉ. डीएस सिंधू, कृषि उपनिदेशक डॉ. विनोद फोगाट, जिला बागवानी अधिकारी डॉ. सुरेंद्र सिहाग व डीईईओ देवेंद्र सिंह सहित अन्य विभागों के अधिकारी भी मौजूद थे।

Post a Comment

0 Comments