Recents in Beach

header ads

शोषण की घटना होने पर ले कानूनी की सहायता: शिफा



भिवानी, 20 फरवरी। जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण के चेयरमैन एवं जिला एवं सत्र न्यायधीश रमेश चंद्र डिमरी के निर्देशानुसार बुधवार को स्थानीय आदर्श महिला कॉलेज में एक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में प्राधिकरण की सचिव एवं मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी शिफा ने छात्राओं को तेजाब पीडि़तों को दी जाने वाली कानूनी सहायता के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

प्राधिकरण की सचिव शिफा ने कहा कि छात्राओं को उत्पीडऩ व शोषण से बचाव के लिए प्राधिकरण द्वारा कानूनी सहायता प्रदान की जाती है। उन्होंने कहा कि छात्राओं का निर्भीक होना जरूरी है। शिफा ने कहा कि उत्पीडऩ या शोषण होने की स्थिति में छात्राओं को बिना किसी देरी व संकोच के पुलिस व कानून की सहायता लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सामाजिक दबाव या अन्य किसी भी प्रकार के भय के चलते शोषण की घटनाओं को दबाने की बात बाद में सामने आती है। 

पैनल अधिवक्ता शीला तंवर ने अपने संबोधन में छात्राओं को जानकारी देते हुए कहा कि तेजाब पीडि़तों को प्रदेश सरकार द्वारा आठ हजार रूपए मासिक पेंशन दी जाती है। इसके अलावा तीन लाख रूपए की आर्थिक सहायता का भी प्रावधान है। उन्होंने बताया कि किसी भी सरकारी अस्पताल व सरकारी सहायता प्राप्त अस्पताल में तेजाब पीडि़तों का ईलाज मुफ्त किया जाता है। उन्होंने बताया कि तेजाब फेंकने की घटनाओं को अंजाम देने वालों को दस साल या उम्र कैद की सजा का प्रावधान है।
इस मौके पर आदर्श कॉलेज प्रबंधक कार्यकारिणी सदस्यअशोक बुवानीवाला, प्राचार्या माया यादव सहित अनेक स्टाफ सदस्य व छात्राएं मौजूद थी।

Post a Comment

0 Comments