Recents in Beach

header ads

कोई भी उम्मीदावार जाति धर्म के नाम पर वोट मांगता है तो यह आर्दश आचार संहिता की उल्लंघन है:पंकज

नूंह 19 मार्च:
जिला निर्वाचन अधिकारी श्री पंकज की अध्यक्षता में लघु सचिवालय के सभागार में लोकसभा चुनाव 2019 के लिए गठित उडनदस्ते (फैलाईग स्कूयरड), (स्थिर निगरानी)स्टैटिक सर्विलियंस टीम (वीडियों सर्विलिंयस)वीडियों निगरानी व (वीडियों वीवींग) वीडियों देखने वाली टीम के प्रशिक्षण कार्य का आयोजन किया गया। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि सभी टीमें अपने-अपने क्षेत्रों के गांवों की पहचान कर लें ताकि चुनाव कार्य में कोई दिक्कत ना आए। उन्होंने कहा कि आदर्श आचार संहिता की पालना सुनिश्चत की जानी है कोई भी उम्मीदावार जाति धर्म के नाम पर वोट मांगता है तो यह आर्दश आचार संहिता की उल्लंघन है। उन्होंने कहा कि सभी टीमें अपनी-अपनी रिपोर्ट निर्धारित प्रफोर्मा में भर प्रतिदिन संबंधित एआरओ व जिला निर्वाचन कार्यालय भेजना सुनिश्चत करें। किसी भी महिला की चैकिंग का कार्य महिला अधिकारी / कर्मचारी द्वारा ही किया जाएगा। 

उन्होंने चुनाव ड्यूटी के दो मुख्य भाग बताए, जिनमें आदर्श आचार संहिता की जानकारी और उसकी पालना तथा चुनाव खर्चे की मॉनिटरिंग करना है। चुनाव आयोग की ओर से आदर्श आचार संहिता चुनाव घोषणा से ही शुरू हो जाती है और यह सब पर लागू होती है, ताकि कोई भी व्यक्ति अथवा उम्मीदवार अपनी पावर का गलत इस्तेमाल ना करे और उसके द्वारा कोई अनैतिक कार्य ना हो। एक उम्मीदवार द्वारा चुनाव में जितने भी खर्चे किए जाते हैं, वह सब के सब चुनाव खर्चे में आते हैं। गठित कमेटियां उनकी मॉनिटरिंग करती हैं और किए गए खर्चो को उम्मीदवार के खर्चे में जोड़ते हैं। चुनाव आयोग की ओर से प्रत्येक उम्मीदवार के लिए चुनाव खर्च की सीमा 70 लाख रूपये निर्धारित की गई है। चुनाव के बाद उम्मीदवारों को 30 दिन के अंदर-अंदर आर.ओ. को अपना खर्च का हिसाब देना अनिवार्य है, यदि वह ऐसा नही करता तो वह अगले 3 साल तक चुनाव लडऩे के अयोग्य हो सकता है।
उन्होंने बताया कि जनप्रतिनिधित्व कानून 1951 की धारा-127 (ए) में प्रावधान है कि किसी भी पोस्टर, पम्पलेट, हैंडबिल या लीफलेट पर प्रिंटिंग पै्रस के मालिक का नाम, पता व प्रिंट की गई प्रतियों की संख्या लिखना जरूरी है। यह उम्मीदवार के खर्च में जुड़ेगा और प्रिंटिंग मैटिरियल प्रिंट करने से पहले सम्बंधित रिटर्निंग अधिकारी से लिखित में अनुमति लेनी होगी।
उन्होंने बताया कि भारत चुनाव आयोग द्वारा नागरिको की सुविधा के लिए पहली बार लोकसभा चुनाव के लिए सी-विजिल नाम से एक नया एप भी जारी किया है। इसके माध्यम से कोई भी नागरिक चुनाव में शराब बांटने, पैसे या अन्य कोई प्रलोबन या प्रैशर डालने अथवा आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत कर सकता है। निर्धारित 100 मिनट के अंदर-अंदर मॉनिटरिंग कमेटी द्वारा समाधान निश्चित किया गया है।
उन्होंने बताया कि चुनाव खर्च के लिए भारत चुनाव आयोग की ओर से दो तरह के पर्यवेक्षक, जनरल ऑब्जर्वर और एक्सपेंडीचर ऑब्जर्वर लगाए जाते हैं। इसी तरह एमसीएमसी कमेटी, पेड न्यूज पर अपनी नजर रखेगी और उसका खर्चा उम्मीदवार के खर्च में जुड़ेगा। इलैक्ट्रोनिक मिडिया पर प्रचार से पहले सम्बंधित उम्मीदवार को रिटर्निंग अधिकारी से लिखित में अनुमति लेनी होगी। विडियो निगरानी टीम, जनसभा की विडियोग्राफी करेगी और उसकी एक सी.डी. तैयार करवाएगी। इसी प्रकार उडऩदस्ते भी बनाए गए है। एक चुनाव क्षेत्र में कम से कम तीन उडऩदस्ते। स्टैटिक सर्विलियंस टीम का कार्य नाके लगाना रहेगा। उन्होंने बताया कि कोई भी उम्मीदावर चुनाव प्रचार के दौरान अपने साथ 50 हजार से ज्यादा कैश नही ले जा सकता, स्टार प्रचारक के लिए इसकी सीमा एक लाख रूपये तक है। कम्पलेंट मॉनिटरिंग सेल पर शिकायतें दर्ज होंगी। उम्मीदवार या स्टार प्रचारक के काफिले में एक समय में 10 से अधिक प्रचार वाहन नही होने चाहिए। अगर कोई उम्मीदवार विडियो वैन से प्रचार करना चाहता है तो उसकी अनुमति राज्य निर्वाचन अधिकारी से लेनी पड़ेेगी। नामांकन से एक दिन पहले सभी उम्मीदवारो को अपना-अपना नया बैंक अकाउंट खुलवाना होगा, इसकी सूचना रिटर्निंग अधिकारी को देनी होगी। बैंक से लेन-देन का सारा रिकॉर्ड एक रजिस्टर में रखना होगा। उम्मीदवार जनसभा करने से पहले उसकी अनुमति भी आर.ओ से लेगा। इसके लिए आर.ओ. राजनीतिक दलो के प्रतिनिधियों को जनसभा में प्रयुक्त लाउड स्पीकर, कुर्सियां, टैंट इत्यादि के रेट देंगे। 

चुनाव के प्रशिक्षण अधिकारी एवं एसडीएम फिरोजपुर-झिरका रिंगन कुमार ने इस प्रशिक्षण के दौरान सभी कमेटियों को उनकी क्या-क्या ड्यूटी रहेगी, इस बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान की तथा उनके द्वारा पूछे गए सवालो का भी समाधान किया। इस मौके पर नगराधीश सतीश यादव ने भी इस बारे में आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। 
Like

Post a Comment

0 Comments