Recents in Beach

header ads

रेवाड़ी बस अडडा परिसर में बस अडडा प्रभारी से हाथापाई


निजी बस संचालक के खिलाफ जीएम ने पुलिस को लिखा पत्र
इस घटना में रोडवेज कर्मी का चश्मा और मोबाइल टूटा


धनेश विद्यार्थी, रेवाड़ी।
रेवाड़ी के मुख्य अडडा परिसर के भीतर निजी बस संचालकों की मनमानी के चलते बीते बुधवार को एक वारदात हुई, जिसके बाद रेवाड़ी रोडवेज डिपो में तैनात
चालक-परिचालकों में रोष पनप रहा है और इस मामले की लिखित शिकायत पीड़ित ने जीएम रेवाड़ी को भेज दी है। जानकारी के मुताबिक बुधवार को रेवाड़ी से दिल्ली जाने वाली निजी बस संख्या
आरजे 32 पीए-1751, जिसकी बाद दोपहर 1 बजकर 7 मिनट पर रवानगी थी मगर इसके मालिक और चालक-परिचालक ने इस बस को गुडगांव वाले काउंटर से नहीं हटाया।
उन्होंने रोडवेज कर्मचारियों को धमकाते हुए कहा कि यह गाड़ी तो ऐसे ही चलेगी। बाद में करीब 1 बजकर 20 मिनट तक निजी बस नहीं हटाए जाने पर रोडवेज
के परिचालक प्रवीन और उप निरीक्षक मक्खनलाल के साथ उक्त निजी बस के स्टाफ ने कहासुनी की और इन लोगों ने रोडवेज के रेवाड़ी स्टैंड इंचार्ज रामनिवास
उप निरीक्षक को धक्का मारकर नीचे जमीन पर गिरा दिया। इस दौरान स्टैंड इंचार्ज रामनिवास का मोबाइल और चश्मा टूट गए। बाद में परिचालक नंबर 212
प्रवीन ने रामनिवास को उठाया। इस घटना के बाद निजी बस संचालक इस बस को लेकर गुडगांव काउंटर को छोड़कर चले गए।

इस मामले में खास बात यह है कि निजी बस संचालकों ने अपनी बस संचालन तथा परिवहन विभाग की ओर से निर्धारित निर्धारित काउंटर पर बस लगाने का अडडा
शुल्क, जोकि 59 रूपए एक बार का निर्धारित है, वह भी जमा नहीं कराया। रोडवेज के नियमानुसार निजी बस बिना अडडा शुल्क दिए काउंटर पर नहीं लगाई
जा सकती। फिलहाल इस मामले में इस घटना की लिखित शिकायत जीएम रोडवेज राजीव नागपाल को सौंपी गई है।

उधर शुक्रवार को इस मामले में रोडवेज एससी एम्पालाइज संघर्ष समिति का एक शिष्टमंडल निरीक्षक भगत सिंह सांभरिया के नेतृत्व में सुरेश कुमार
निरीक्षक डिपो प्रधान, कर्ण सिंह नाहरवाल, गजराज सिंह के संग जीएम रोडवेज राजीव नागपाल से मिला और उप निरीक्षक रामनिवास को इंसाफ दिलाने की गुहार
लगाई। उधर शुक्रवार को इस मामले में जीएम रोडवेज ने रेवाड़ी बस अडडा पुलिस पोस्ट इंचार्ज को एक पत्र लिखकर उक्त निजी बस के मालिक एवं चालक-परिचालक
के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई किए जाने का आग्रह किया है।

Post a Comment

0 Comments