Recents in Beach

header ads

नामी कलाकारों ने मचाई धूम, देसी मॉडलों ने रैंप पर बिखेरी हरियाणवीं संस्कृति की खुशबू

खरक पूनियां में चला हरियाणवीं संस्कृति का जादू
हरियाणवीं फैशन शो देखने उमड़ा जन-सैलाब
देशभर से नामचीन हस्तियों का लगा रहा जमावड़ा 



बरवाला। एक बार फिर हरियाणवीं का मंच सज्जा। मौका था राह ग्रुप फाउंडेशन की ओर से ऐतिहासिक गांव खरक पूनियां स्थित ए.एम.इंटरनेशनल स्पोर्ट्स स्कूल में आयोजित हरियाणवीं फैशन शो का। राह ग्रुप के बैनर तले प्रदेश के 21वें हरियाणवीं फैशन शो में खेतों में सोना ऊपजाने के लिए हल चलाते किसान, पदकों के लिए मैदान में पसीना बहाते खिलाडिय़ों से लेकर धोती-कुर्ता व रंग बिरंगी चुनरी, घाघरा, दामण पहने देसी मॉडलों ने न केवल सुनहरी संस्कृति के दर्शन करवाएं, बल्कि इसके साथ ही वे जनमानस के दिल में उतर गए। राह ग्रुप फाउंडेशन व ए.एम. इंटरनेशनल स्पोर्ट्स स्कूल एजुकेशन सोसायटी की ओर से हरियाणवीं संस्कृति को सहेजने की कड़ी में जब 21वीं बार खरक पूनियां गांव में प्रदेश की संस्कृति को रैंप पर उतरा गया तो लोग वाह-वाह कर उठे। इस फैशन शो के हरियाणवीं परिधानों ने ऐसा जलवा बिखेरा कि दर्शकों ने प्रत्येक प्रतिभागी का तालियों की गंूज से स्वागत किया। इस हरियाणवीं फैशन शो की अध्यक्षता हरियाणा ओलम्पिक संघ के महासचिव बिजेन्द्र लोहान व राह ग्रुप इंण्डिया के चेयरमैन नरेश सेलपाड़ ने संंयुक्त रुप से की, जबकि मुख्यअतिथि के तौर पर भाजपा नेता जोगीराम सिहाग व साध्वी शक्तिपुरी मौजूद रहे।



यह जानकारी देते हुए राह ग्रुप की राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार सुदेश चहल पूनियां व ईवेंट कॉडिनेटर श्रवण कुमार वर्मा ने बताया कि संस्कृति के बोल और रीति रिवाजों के झोल के बीच एक से एक रंग-बिरंगी चुनरी, घाघरा, दामण और चोली से सजी देसी मॉडल अप्सराओं को भी मात दे रही थी। सिर पर टोकनी व हाथ में पुराने बिजणे लेकर जब मॉडल राह के रैंप पर उतरी तो पंडाल तालियों से गूंज उठा। यही हाल पुरुष प्रतिभागियों को लेकर भी रहा। जब मॉडल रैंप पर पहलवानी करते व पुरानी विरासत के साथ नजर आये तो दर्शकों के मुंह से अनायास ही निकल गया! वाह लाजवाब, हरियाणा। हरियाणवी संस्कृति का इतना शानदार गौरव।



नामी कलाकारों ने दी यादगार प्रस्तुति:-राह ग्रुप फाउंडेशन के इस 21वें हरियाणवीं फैशन शो में साध्वी शक्तिपुरी, कलाकार एनी. बी., नवीन नारु, बिन्द्र दनौदा, नफेसिंह रोहिल्ला, अमित ढुल, मिस हरियाणा रितू कटारिया, मुकेश कंसल, साहित नरवाना, सुरेन नामदेव, मिस दिल्ली सहित प्रदेश के 16 जिलों से पहुंचे कलाकारों ने एक से बढक़र एक प्रस्तुतियों से दर्शकों को हरियाणवीं गीतों झूमने पर मजबूर कर दिया। राह गु्रप के इस ऐतिहासिक हरियाणवीं फैशन शो में हिसार, फतेहाबाद, जींद, भिवानी, रोहतक, गुरुग्राम, सिरसा, कैथल, सिरसा, गुरुग्राम सहित कुल 16 जिलोंं के प्रतिभागियों ने रैंप शो पर कैैटवॉक किया। राह गु्रप फाउंडेशन के इस हरियाणवीं फैशन में रैंप शो, लोकगीत गायन, रागनी गायन सहित विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेताओं को भी सम्मानित किया गया।



हस्तियों का रहा जमावड़ा:-
गांव खरक पूनियां स्थित ए.एम.इंटरनेशनल स्पोर्ट्स स्कूल में आयोजित इस हरियाणवीं फैशन शो के दौरान गिनिज बुक अवार्डी राममेहर पूनियां, अन्तराष्ट्रीय खिलाड़ी विकास राणा, तीरंदाजी के नामी खिलाड़ी सोमबीर, पर्वतारोही मनीषा पायल, हरियाणा प्राईवेट स्कूल संघ के प्रदेशाध्यक्ष सत्यवान कुण्डू, उपाध्यक्ष अनिल रापडिय़ा, समाजसेवी विजय कालीरामणा, डा. राजेश रेडृ, प्रदीप कादियान, राजदीप नैन, रिमन नैन, बिजेन्द्र सांगवान, विदेश रोजगार ब्यूरो के पूर्व निदेशक डी.सी. भाट्टी, खण्ड शिक्षा अधिकारी आर. के. लोहान, पर्वतारोही मनीषा पायल, अन्तराष्ट्रीय खिलाड़ी विकास राणा, राह ग्रुप की राष्ट्रीय सलाहकार सुदेश चहल पूनियां, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रामनिवास वर्मा, राह क्लब हिसार के उपाध्यक्ष कमल हांडा, डा. बबली चाहर, रिया जागड़ा, मजंूला खत्री, बरवाला के अध्यक्ष रमेश ऐलावादी राह क्लब हांसी के अध्यक्ष प्रवीन अग्रवाल, सचिव नरेश सैनी, बरवाला के अध्यक्ष सुनिता सरोया, ओपीजेएस विश्वविद्यालय के वाईस चासंलर प्रो. दलेल सिंह, समाजसेवी ओमप्रकाश रहेजा, सुनिता तंवर, निर्मला सैनी सहित व राह ग्रुप की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के पदाधिकारीगण व भारीं संख्या में खेल, शिक्षा व सहित विभिन्न क्षेत्रों से जुड़ी हस्तियां मौजूद रही। 



देसी अंदाज में हुआ स्वागत :-कार्यक्रम में पहुंचे लोगों का स्वागत भी विशेष अंदाज में ही किया गया। पहले जहां ठेठ देसी अंदाज में तिलक लगा कर गुड़ खिला कर मुंह मिठा करवाया गया, वहीं कार्यक्रम के दौरान स्वाहली व गुलगले के स्वाद से संस्कृति का रंग ओर गहरा व मिठा दिखाई दिया। इस दौरान मेहमानों को देसी घी से बने मालपुड़ों का जायका भी चखने को मिला। 



विरासत व आधुनिकता का संगम:- राह ग्रुप के इस फैशन शो में न केवल पनघट पर पानी भरने वाली पनिहार से लेकर अखाड़ों में जोरआजमाईश करते पहलवानों को ही रैंप पर उतरा गया। बल्कि पुरानी विरासत के साथ-साथ प्रदेश की खेल, शिक्षा, समाजसेवा व दूसरे क्षेत्र की उपलब्धियों को भी रैंप के माध्यम से दर्शाया गया। 



धरोहर पर रही सबकी नजर :-इस दौरान हरियाणवीं संस्कृति व खेत खलिहान से जुड़ी पुरानी धरोहरों व साजो सामान की एक प्रदर्शनी आयोजित की गई। इसमें जिसमें मुख्य रुप से रई, बिलौनी, हस्त चलित चक्की, खेती के काम आने वाले पुराने औजार, आभूषण, वस्त्र, पुराने सिक्के, पनघट, रहट, पुरानी झकड़ा गाड़ी, बैल दौड़ गाड़ी, बैल गाड़ी तथा हरियाणा के परिवहन के साधनों में लोगों ने खूब रुचि दिखाई।













Post a Comment

0 Comments