सेक्टर ऑफिसर्स अपना दायित्व गंभीरता से निर्वहन करें: DC जाटव


इंदौर 18 मार्च 2019
जिला प्रशासन द्वारा लोकसभा निर्वाचन-2019 की तैयारियाँ युद्ध स्तर पर चल रही हैं। इस सिलसिले में आज जिले की सभी विधानसभा क्षेत्रों में नियुक्त सेक्टर ऑफिसर्स को चुनाव संबंधी प्रशिक्षण कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में दिया गया। इस अवसर पर कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री लोकेश कुमार जाटव ने सेक्टर ऑफिसर्स से कहा कि वे अपना दायित्व गंभीरता से निर्वहन करें। चुनाव पर जिम्मेदारियां उनके कंधे पर हैं। सेक्टर ऑफिसर्स की जिम्मेदारी मतदान के दिन सुपरवाइजर जैसी है। उन्होने कहा कि सेक्टर ऑफिसर्स मतदान से पहले यह सुनिश्चित करें कि सभी मतदान केन्द्रों में पेयजल, छाया, विद्युत कनेक्शन, महिला और पुरूषों के लिए अलग-अलग शौचालय, दिव्यांगों के लिए रैम्प आदि की सुविधा होनी चाहिए। चुनाव आयोग के भी निर्देश है कि चुनाव केन्द्र पर मतदाताओं के लिए मूलभूल सुविधा होना जरूरी है। 

श्री जाटव ने कहा कि सभी सेक्टर ऑफिसर्स वाट्सएप ग्रुप में आपस में और रिर्टरिंग ऑफिसर्स के साथ जुड़े। सेक्टर ऑफिसर्स यह सुनिश्चित करें कि मतदान दलों को मतदान केन्द्र में ठहरने और मतदान कराने में कोई दिक्कत न हो। सेक्टर ऑफिसर्स एक ईवीएम मशीन अपनी गाड़ी में मतदान से एक दिन पहले रखें, मगर उसे घर न ले जाये। वे अपने मतदान केन्द्रों का नक्शा और शार्टकट रूट बना लें, जिससे आने-जाने में सुविधा हो। वे वल्नेरेवल और क्रिटिकल मतदान केन्द्रों की पहचान कर लें। वल्नरेबल मतदान केन्द्रों से तात्पर्य यह है कि ऐसे मतदान केन्द्रों से है, जहां पर धन बल और बाहुबल के दुरूपयोग की संभावना है। 

इस अवसर पर अपर कलेक्टर श्री कैलाश वानखेड़े ने कहा कि सभी सेक्टर ऑफिसर्स अपना नाम मतदाता सूची में अवश्य शामिल करायें। सेक्टर ऑफिसर्स को मजिस्ट्रियल पावर दिये जायेगें। मतदान के दिन सबसे पहले माक पोल होगा और उसके बाद असली मतदान शुरू होगा। सेक्टर ऑफिसर्स क्रिटिकल मतदान केन्द्रों पर कड़ी नजर रखें। एक सेक्टर ऑफिसर के पास 10 -15 मतदान केन्द्र रहेगें। सेक्टर ऑफिसर्स ईवीएम मशीन चलाना, जोड़ना, बैटरी लगाना सीख लें। बैलेट यूनिट को कंट्रोल यूनिट से जोड़ना है और कंट्रोल यूनिट केा वीवीपैट मशीन से जोड़ना है। आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में इंदौर जिले के सभी सेक्टर ऑफिसर्स को प्रशिक्षण दिया गया। इस कार्यक्रम को अपर कलेक्टर श्री अजय देव शर्मा और चुनाव प्रशिक्षक डॉ. आर.के. पाण्डे ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर सहायक रिटर्निंग ऑफिसर (एसडीएम) बड़ी संख्या में सेक्टर ऑफिसर्स मौजूद थे।

Post a Comment

0 Comments