Recents in Beach

header ads

आप परेशान हैं कि लक्ष्मी टिकती नहीं है? यदि आप चाहते हैं कि लक्ष्मी टिके तो आपको...

लक्ष्मी नहीं टिकती है तो










आप परेशान हैं कि लक्ष्मी टिकती नहीं है। यदि आप चाहते हैं कि लक्ष्मी टिके तो आप को अपने जीवन में कुछ करना होगा और कुछ नियमों पर चलना होगा या यूं कह लें कि जीवन में ध्यान रखना होगा कुछ आवश्यक बातों का।


घर में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें। यह जान लें कि घर में अस्त-व्यस्त रखीं वस्तएं भी नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करती हैं। वस्तुओं का बिखराव वह भी पूर्व, उत्तर या पूर्व-उत्तर दिशा में हो तो समझ लें कि धन नहीं टिकेगा। धन की जगहों में बिखराव से भी लक्ष्मी नहीं टिकती है या यूं कह लें कि धन का आवागमन कम हो जाता है।

यह जान लें कि धनकारक दिशाएं पूर्व, उत्तर या पूर्व-उत्तर है। बैंक की पास बुक, चैक बुक या धन रखने का कैश बॉक्स भी इन्हीं दिशाओं में रखना चाहिए। यदि आप ऐसा करेंगे तो निश्चित रूप से आप धन का आवागमन अधिक कर सकेंगे और लक्ष्मी टिकेगी भी।

धन को उचित स्थान पर धनकारक दिशाओं में रखना चाहिए। धन को करीने से रखना चाहिए नाकि मसलकर, मोड़ तोड़ कर यूं ही नहीं फेंक देना चाहिए। ऐसा करने से भी लक्ष्मी पास में नहीं रुकती है। उसकी गति मन्द पड़ जाती है।

कबाड़ घर में एकत्रा न करें क्योंकि उससे भी धन का आवागमन रुक जाता है। बहुत बार तो धन का आना ही रुक जाता है और सारा धन बाहर ही रहता है या धन आने से पहले जाने का मार्ग बना लेता है।

दिशाएं दस हैं यह भली भांति जान लें क्योकि इन दिशाओं के अनुरूप ही भवन में निर्माण या सामान रखने से ही घर में लक्ष्मी का वास बहुतायत में होता है। घर में सुख समृद्धि का वास भी होता है। ये दिशाएं इस प्रकार हैं-
पूर्व, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण,
पूर्व-उत्तर, उत्तर-पश्चिम, दक्षिण-पश्चिम, दक्षिण-पूर्व।
आकाश व पाताल।
अब ध्यान रखने की बात यह है कि पूर्व, उत्तर, पूर्व-उत्तर दिशा नीची, खुली व हल्की होनी चाहिएं। इसकी अतिरिक्त अन्य दिशाओं की अपेक्षा ये दिशाएं आकाश मार्ग से भी खुली होनी चाहिएं।

इसके विपरीत दक्षिण, पश्चिम, दक्षिण-पश्चिम, उत्तर-पश्चिम दिशाएं उंची, भारी व आकाश मार्ग से बन्द होनी चाहिएं।
दक्षिण, दक्षिण-पूर्व अग्नि का स्थान है। इसमें अग्नि की स्थापना होनी चाहिए।
पूर्व, उत्तर दिशा जल का स्थान होने के कारण इस दिशा में जल की स्थापना होनी चाहिए।
देवता के लिए पूर्व-उत्तर दिशा सर्वोत्तम है, उत्तर एवं पूर्व भी शुभ होती है। ईशान में भवन का देवता वास करता है, इसलिए इस स्थान पर पूजा या देवस्थल अवश्य बनाना चाहिए। इसे खुला और हल्का बनाना चाहिए।

इसमें स्टोर या वजन रखने का स्थान कदापि नहीं बनाना चाहिए। इस स्थान को साफ रखना चाहिए। इस स्थान को प्रतिदिन साफ रखने से जीवन उन्नतिशील एवं सुख-समृद्धि से परिपूर्ण होता है।

पीने योग्य जल का भंडारण भी ईशान कोण में होना चाहिए। यह ध्यान रखें कि कभी भी आग्नेय कोण में जल का भंडारण न करें। गैस के स्लैब पर पानी का भंडारण तो कदापि न करें, वरना गृहक्लेश अधिक होगा। पारिवारिक सदस्यों में वैचारिक मतभेद होने लगेंगे। गृहक्लेश अधिक होता है तो किचन में चैक करें अवश्य जल और अग्नि एक साथ होंगे अथवा ईशान कोण में वजन अधिक होगा या वह अधिक गंदा रहता होगा। ऐसे में लक्ष्मी का वास होता ही नहीं है। किचन में झूठे बरतन हों तो भी ऐसा ही होता है। रात्रि में किचन में झूठे बर्तन नहीं होने चाहिएं। यदि शेष रहते हैं तो एक टोकरे में भरकर किचन से बाहर आग्नेय कोण में रखने चाहिएं।

किचन दक्षिण या दक्षिण पूर्व में बनानी चाहिए। किचन में सिंक या हाथ  धोने का स्थान ईशान कोण में होना चाहिए।
जीना एवं टॉयलेट तो कदापि पूर्व या उत्तर या पूर्व-उत्तर में न बनाएं।

जब आप उक्त नियमों को अपनाएंगे और इनके अनुरूप करेंगे तो निश्चित रूप से धन-सम्पन्न बनेंगे। लक्ष्मी का आगमन भरपूर होगा। तब आप जान चुके होंगे कि लक्ष्मी को कैसे रोकना है। तब आप यह कदापि नहीं कहेंगे कि लक्ष्मी रुकती ही नहीं है। लक्ष्मी का सुवास साज व सफाई में ही होता है।

बिना तोड़-फोड के वैदिक व वैज्ञानिक विधी से वास्तु परामर्श,  शंका- समाधान, औरा चेकअप जन्मपत्रिका, वर-वधु गुण मिलान,सर्टिफाइड रत्न, विवाह, संतान, नौकरी, व्यवसाय में सफलता ना मिल रहीं हो, संतान का ना होना, विद्यार्थी को पढ़ाई में आ रहीं समस्या ,विदेश यात्रा के लिये, जमीन-जायदाद  सभी प्रकार की व्यक्तिगत समस्या के समाधान,आदि के रत्न परामर्श, कुंडली विश्लेषण आदि के लिए संपर्क करे।



नोट..- हमारी सभी सेवाय सशुल्क दी जाती है।

Post a Comment

0 Comments