अल्हड़ बीकानेरी ने अपने दम पर बनाई अलग पहचान: शशि बाला



गुरू का समाज में महत्वपूर्ण स्थान: हलचल हरियाणवी
धनेश विद्यार्थी, रेवाड़ी। 













हिन्दी सेवा समिति, रेवाड़ी के तत्वाधान में
मूर्धन्य कवि एवं बहुमुखी प्रतिभा के धनी लेखक, कलमकार और साहित्यकर्मी
अल्हड़ बीकानेरी के 83 वें जन्मदिन पर शहर में देर शाम वृंदा रेजीडेंसी
में एक काव्य संध्या का आयोजन किया गया, जिसमें जिला पार्षद शशि बाला ने
मुख्य अतिथि के तौर पर अल्हड़ बीकानेरी की समाज एवं साहित्य के प्रति दी
गई सेवाओं को अद्वितीय बताया। उन्होंने कहा कि अल्हड़ जी ने अपने दम पर
दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाई। इस मौके पर मां शारदे और अल्हड़ बीकानेरी
के चित्र के सामने दीप प्रज्जवलित किया और माल्यार्पण किया। इस मौके पर
सभी कवियों एवं गणमान्य लोगों का माला पहनाकर स्वागत किया गया। काव्य
गोष्ठ की अध्यक्षता डाॅ. एसएन सक्सेना ने भी अल्हड़ जी की लेखनी और
कृतित्व पर अपनी बात रखी। कार्यक्रम में मंच संचालन हरियाणवी साहित्य के
हस्ताक्षर सत्यवीर नाहड़िया ने किया। काव्य संध्या में बृजेश, मनोज कौशिक,
समक्ष कौशिक, राजेश भुल्लकड़ की चुटीली रचनाओं के अलावा कवि त्रिलोक जी,
हलचल हरियाणवी, बीडी यादव, कैप्टन जवाहर लाल यादव, डाॅ. जयसिंह आर्य,
यशदीप यश फरीदाबाद, अमना भारद्वाज समेत दर्जन भर कवियों ने अपनी रचनाएं
पेश की। काव्य संध्या में भाजपा नेत्री दीपा भारद्वाज, रोहताश प्रधान,
दिनेश कपूर, एवरेस्ट विजेता सुनीता चैकन के पिता, एमपी गोयल, बीडी यादव
समेत अन्य गणमान्य लोग शामिल है। अंत में मंच संचालक सत्यवीर नाहड़िया ने
सभी का आभार जताया।




Post a Comment

0 Comments