Recents in Beach

header ads

फसल भंडारण के लिए जागरूकता कार्यक्रम आयोजित


धनेश, पलवल, रेवाड़ी चैधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के मंडकौला स्थित कृषि विज्ञान केंद्र में चैधरी चरण सिंह राष्ट्रीय कृषि विपणन संस्थान, जयपुर (नियामद्ध) , भंडारण विकास और विनियामक प्राधिकरण उक्त कृषि विज्ञान केन्द्र के संयुक्त तत्वाधान में कृषकों एवं आदान विक्रेताओं के लिए भंडारण जागरुकता एंव प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें जिला पलवल गुरूग्राम के प्रगतिशील किसानों ने भाग लिया। कार्यक्रम का शुभारम्भ करते हुए कृषि विज्ञान केन्द्र की वरिष्ठ संयोजक डा. सुमित्रा यादव ने किसानों का स्वागत किया और तत्पश्चात् घरेलू स्तर पर अनाजों के सुरक्षित भण्डारण पर प्रकाश डाला। केन्द्र के वरिष्ठ बागवानी विशेषज्ञ डा. रणबीर सिंह सैनी ने किसानों को फल, फूल, सब्जियों खुम्ब आदि के अल्प एंव दीर्घावधि भण्डारण की आधुनिक तकनीकों की जानकारी देते हुए आह्वान किया कि कृषि उत्पादों के भण्डारण सुविधा और सम्भलाव संबंधी समुचित तकनीकी जानकारी के अभाव में 15-25 प्रतिशत खाद्यान्न 35 से 40 प्रतिशत बागवानी उत्पाद प्रति वर्ष नष्ट हो जाते है। 

कार्यक्रम के नैशनल फेसिलिटेट्र डा. परमिन्दर सिंह ने किसानों को -नाम और वेयर हाऊसिंग की विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी। डा0 परमिन्द्र सिंह ने किसानों का बताया कि अगर आगे भाव बढ़ने के आसार हो तो वेयर हाऊस में सुरक्षित भण्डारण करना चाहिए। इसके लिए किसान वेयर हाऊस में अपना उत्पाद रखकर, उसकी रसीद से उत्पाद के कुल मूल्य के 80 प्रतिशत तक बैंक से ऋण भी ले सकते है। उन्होंने बताया कि अगर कोई भी किसान या समूह वेयर हाऊस स्थापित करना चाहता है तो सामान्य जाति के लिए 25 प्रतिशत अनुसूचित जाति के लिए इस पर 33 प्रतिशत अनुदान की सुविधा सरकार द्वारा प्रदान की जाती है। इस अवसर पर श्री राम स्वरुप सैनी, प्रशिक्षण संयोजक ने भारत सरकार की इस योजना के तहत भंडारण के फायदे एवं कृषि उत्पादन संघ के माध्यम से भंडारण करके अधिकाधिक लाभ कमाने के लिए प्रेरित किया। इस मौके पर पिंटू डागर, मोहर पाल, चंद्रपाल, राकेश प्रशांत ने विशेष सहयोग दिया। 

Post a Comment

0 Comments