Recents in Beach

header ads

क्या भाजपा के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष बनेंगें जेपी नड्डा??


भाजपा का नया अध्यक्ष कौन बनेगा?

इस समय भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष पद की दौड़ में जगन प्रकाश नड्डा का नाम सबसे आगे चल रहा है। जगत प्रकाश नड्डा भारत के वरिष्ठ सदन राज्यसभा के सदस्य हैं व भारतीय जनता पार्टी के भावी राष्ट्रीय अध्यक्ष । 

हिमाचल के बिलासपुर जिले के रहने वाले 59 वर्षीय जेपी नड्डा का जन्म बिहार के पटना में 2 दिसंबर 1960 (सोमवार) को दोपहर लगभग 12 बजे हुआ था। उनकी शुरुआती पढ़ाई पटना के सेंट जेवियर्स स्कूल से हुई. इसके बाद नड्डा ने पटना विश्वविद्यालय से बीए की शिक्षा ली।
जगत प्रकाश नड्डा के पिता और माता का नाम डॉ नारायण लाल नड्डा और कृष्णा नड्डा है. नड्डा के पिता नारायण लाल नड्डा पटना विश्वविद्यालय के कुलपति (वाइस चांसलर) थे. वहीं सन् 1991 में जगत प्रकाश नड्डा ने डॉक्टर मल्लिका नड्डा से विवाह किया था, जो कि हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में बतौर प्रोफेसर कार्य करती हैं. वहीं मल्लिका नड्डा के पिता जबलपुर से लोकसभा सांसद रह चुके हैं. जगत प्रकाश नड्डा और मल्लिका नड्डा के दो बच्चे हैं.

गूगल पर उपलब्ध जानकारी अनुसार जगत प्रकाश नड्डा का जन्म लग्न कुम्भ बनता हैं जहां केतु स्थित शतभिषा नक्षत्र के तृतीय चरण में हैं। चौथे अर्थात सुख भाव में वृषभ का चंद्रमा,कृतिका नक्षत्र में स्थित हैं।
पंचम भाव में मिथुन का मंगल, पुनर्वसु नक्षत्र में स्थित हैं।
अंगारक योग बना हुआ हैं।
सप्तम भाव मे सिंह राशि का राहु,पूर्व फाल्गुनी नक्षत्र में स्थित हैं।
पंडित दयानन्द शास्त्री जी के अनुसार भाग्य स्थान में वृषभ राशि में बुध स्थित हैं।
दशम भाव में वृश्चिक राशि के सूर्य,ज्येष्ठा नक्षत्र में स्थित हैं। 11 वें भाव में धनु राशि मे शनि देव, देवगुरु वृहस्पति (स्वयम की राशि में पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में) के साथ साथ शुक्र (उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में) भी स्थिति हैं। राहु ,गुरु का दृष्टि सम्बन्ध चाण्डाल दोष बना रहा हैं।

ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री जी ने बताया कि इनका नवमांश कुम्भ लग्न का बनता हैं जहां चन्द्रमा स्थित हैं।चौथे भाव मे वृषभ का मंगल हैं।पंचम भाव मे बुध अपनी राशि, मिथुन मे ही स्थित हैं। सप्तम भाव में सिंह राशि का वृहस्पति स्थित हैं।नवमांश कुंडली में राहु, अष्टम में ओर तुला का शनि भाग्य स्थान में स्थित हैं। 11 वें भाव में धनु का सूर्य और शुक्र स्थित हैं।

वर्तमान में इनकी जन्म कुंडली में शनि की महादशा (12 जुलाई 2013 से 11 जुलाई 2032 तक) चल रही हैं। जिसमे अंतरदशा केतु की 24 मार्च 2019 से 2 मई 2020 तक रहेगी। इसमे शुक्र का प्रत्यन्तर 17 अप्रेल 2019 से 23 जून 2019 तक रहेगा।
नड्डा ने कई देशों का दौरा भी किया है, जिनमें अमेरिकी, कोस्टा रिका, कतर, कनाडा, ग्रीस और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों के नाम शामिल है. इन देशों में जाकर जेपी नड्डा ने यहां पर किए जानेवाले चुनाव प्रक्रिया, स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली और इत्यादि चीजों का अध्ययन किया।

नड्डा ने अपनी पढ़ाई के दिनों में दिल्ली में आयोजित अखिल भारतीय जूनियर स्विमिंग चैम्पियनशिप में बिहार राज्य की ओर से प्रतिनिधित्व किया था। इतना ही नहीं वो हिमाचल प्रदेश के ओलंपिक संघ के राष्ट्रपति भी थे. हाल ही में जेपी नड्डा को विश्व तंबाकू नियंत्रण के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन से विशेष मान्यता पुरस्कार प्राप्त हुआ था।

नड्डा 16 साल की उम्र में छात्र राजनीति में उतर गए थे और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) से जुड़े. उस वक्त बिहार में स्टूडेंट मूवमेंट चरम पर था. 1977 में पटना विश्वविद्यालय में छात्र संघ चुनाव में सचिव चुने गए।

 जेपी नड्डा को 1982 में विद्यार्थी परिषद का प्रचारक बनाकर हिमाचल प्रदेश भेजा गया. नड्डा 1983-1984 में हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी में विद्यार्थी परिषद के पहले प्रेसीडेंट बने और साल 1986 से 1989 तक विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय महासचिव रहे. 1989 के लोकसभा चुनाव में नड्डा को बीजेपी युवा मोर्चा का चुनाव प्रभारी बनाया गया. राजनाथ सिंह के बाद 1990 में नड्डा युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए गए.

इसके बाद 1993 में जेपी नड्डा पहली बार हिमाचल विधानसभा पहुंचे. नड्डा ने 1994 से 1998 तक विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में काम किया. साल 2008 से 2010 तक हिमाचल सरकार में मंत्री रहे. 2012 में नड्डा को हिमाचल प्रदेश से राज्यसभा भेजा गया. नड्डा नितिन गडकरी की टीम में राष्ट्रीय महासचिव और प्रवक्ता रहे. 2014 में नड्डा को मोदी सरकार में मंत्री बनाया गया।

जेपी नड्डा हिमाचल प्रदेश के ब्राह्मण समुदाय से आते हैं, उन पर बीजेपी शीर्ष नेतृत्व को काफी विश्वास है और शाह के करीबी भी हैं. उनका जुड़ाव राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से भी रहा है और उनकी छवि साफ-सुथरी मानी जाती है. वह मोदी की अगुवाई वाली पहली NDA सरकार में स्वास्थ्य मंत्री थे. सूत्रों ने बताया कि नड्डा बीजेपी संसदीय बोर्ड के भी सदस्य है जो बीजेपी की शीर्ष निर्णय करने वाली संस्था है. इस लिहाज से भी नड्डा सर्वश्रेष्ठ विकल्प माने जा रहे हैं.

पटना में 1960 में जन्में जगत प्रकाश नड्डा ने बीए और एलएलबी की परीक्षा पटना से पास की थी और शुरु से ही वे एवीबीपी से जुड़े हुये थे. वे पहली बार 1993 में हिमाचल प्रदेश से विधायक चुने गये थे. उसके बाद वे राज्य और केंद्र में मंत्री भी रहे हैं. वे 1994 से 1998 तक विधानसभा में पार्टी के नेता भी रहे.

इसके बाद वे दुबारा 1998 में फिर विधायक चुने गये. इस बार उन्हें स्वास्थ्य और संसदीय मामलों का मंत्री बनाया गया. 2007 में उन्हें फिर से चुनाव जीतने का अवसर मिला और प्रेम कुमार धूमल की सरकार में उन्हें वन-पर्यावरण, विज्ञान व टेक्नालॉजी विभाग का मंत्री बनाया गया.

2012 में जेपी नड्डा को राज्यसभा का सांसद चुना गया. उन्हें मोदी सरकार में स्वास्थ्य मंत्रालय की कमान सौंपी गई.

 मोदी सरकार बनने के बाद जेपी नड्डा का कद पार्टी और सरकार दोनों में काफी बड़ा हुआ. नड्डा को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह का दाहिना हाथ माना जाता है. यही कारण है कि अमित शाह ने इस बार जेपी नड्डा को यूपी फतह की जिम्मेदारी दी. नड्डा ने इस जिम्मेदारी को बखूबी निभाया और अपनी कुशल रणनीति से यूपी की 64 (दो अपना दल की) सीटों पर पार्टी को शानदार जीत दिलाई.

नड्डा को मोदी सरकार में शामिल नहीं किया गया. ऐसे में माना जा रहा है कि ‘एक व्यक्ति, एक पद’ सिद्धांत वाली बीजेपी को जेपी नड्डा के रूप में नया अध्यक्ष मिल सकता है. जेपी नड्डा के पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह से पुराने संबंध हैं. मोदी जब हिमाचल के प्रभारी थे, तब से दोनों की जान-पहचान है. दोनों अशोक रोड स्थित बीजेपी मुख्यालय में बने आउट हाउस में रहते थे. इसके बाद जब नड्डा बीजेपी युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे, उस समय अमित शाह युवा मोर्चा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष बनाए गए थे।
हिमाचल प्रदेश से आने वाले जेपी नड्डा 2014 के लोकसभा चुनाव में मिली बीजेपी की जीत के बाद भी पार्टी अध्यक्ष पद की दौड़ में थे. तब पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह को कैबिनेट मंत्री बनाया गया था और अध्यक्ष पद की कुर्सी खाली होने वाली थी. मगर तब यूपी में शानदार प्रदर्शन करने वाले अमित शाह ने बाजी मार ली. तब उन्हें स्वास्‍थ्य मंत्री बनाया गया. तब से वे पार्टी के शीर्ष नेताओं में बने हुए है.

राष्ट्रीय अध्यक्ष पद को लेकर बीजेपी में मंत्रणा भी शुरू हो गई है.सितंबर 2018 में बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में अमित शाह का कार्यकाल 6 महीने के लिए बढ़ाया गया था. बीजेपी के नए अध्यक्ष के रूप में जेपी नड्डा के नाम पर मुहर लगाने की प्रबल संभावना है. जेपी नड्डा रेस में इसलिए आगे हैं, क्योंकि उनके चुनाव प्रभारी रहते हुए बीजेपी ने यूपी में एक बार फिर बड़ी जीत हासिल की है और फिर भी उन्हें मोदी सरकार में मंत्री नहीं बनाया गया है.  भूपेंद्र यादव भी संभावित है, श्री यादव गुजरात में भी अहम दायित्व संभाल चुके हैं. इन्हें राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे के नजदीकी के तौर पर देखा जाता है।

2019 में 30 मई से भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में कार्यकाल माना जा सकता हैा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पिछली सरकार में स्वास्‍थ्य मंत्री रहे जेपी नड्डा समेत कुल 37 मंत्रियों के नाम मोदी की दूसरी कैबिनेट से इस बार नदारद रहे. इसके साथ ही ये चर्चाएं भी तेज हो गईं हैं कि नड्डा के लिए पार्टी कुछ बड़ा सोच रही है. खबर है कि एक समय बीजेपी के युवा मोर्चे के अध्यक्ष रहे नड्डा को अब पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया जा सकता है. अभी तक ये जिम्मेदारी अमित शाह संभाल रहे थे. आमतौर पर लो- प्रोफाइल रहने वाले नड्डा को बीजेपी का संकटमोचक भी कहा जाता है.

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए यूपी में पार्टी के प्रदर्शन को और ऊंचाई पर ले जाने के लिए अमित शाह ने जेपी नड्डा को अहम जम्मेदारी सौंपी थी. नड्डा ने इसके लिए गुजरात में बीजेपी के मंत्री रहे गोर्धन जडाफिया के साथ मिलकर यूपी में एनडीए को 50 प्रतिशत से ज्यादा वोट और 64 सीटें मिलना सुनिश्चित किया.

गठन में अपनी कुशलता प्रदर्शित करने वाले अमित शाह के मोदी सरकार में आने के खास मायने हैं। एक तरफ जहां यह माना जा रहा है कि अहम पड़ाव पर वह वित्त जैसे संवेदनशील मंत्रालय की कमान थामेंगे। वहीं यह भी मानकर चला जा रहा है कि सरकार में वह सामंजस्य का भी जिम्मा देखेंगे। वैसे उनके सरकार में शामिल होने के साथ ही भाजपा के नए अध्यक्ष को लेकर भी अटकलें तेज हो गई हैं और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा का नाम सबसे आगे है।

यूं तो गुजरात में वह गृह मंत्री की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं लेकिन गुरुवार को उन्होंने जिस तरह राजनाथ सिंह के बाद तीसरे नंबर पर शपथ लिया उसका यह अर्थ निकाला गया कि यहां वह गृह मंत्रालय की बजाय वित्त मंत्री पद संभालेंगे। वैसे भी वित्त को लेकर उनकी समझ जांची परखी है। फिलहाल देश को वित्त के मोर्चे पर कई साहसिक कदम उठाने हैं और शाह साहसिक फैसलों के लिए जाने जाते हैं।

संगठन में रहते हुए भी उन्होंने कठोर और साहसिक फैसलों की शुरुआत की थी। माना जा रहा है कि मोदी सरकार में वह सामंजस्य की भी जिम्मेदारी संभालेंगे। यानी उन पर जिम्मेदारी होगी कि वह दूसरे मंत्रालयों के कामकाज पर भी नजर रखें और जरूरी सहयोग करें या निर्देश दें। दरअसल वित्त मंत्रालय वैसे भी सभी मंत्रालयों से जुड़ा होता है।

Post a Comment

0 Comments