Recents in Beach

header ads

संत कबीर ने हिन्दु-मुस्लिम के साथ-साथ सभी धर्मों के लोगों को एकता के सूत्र में बांधने का काम किया

महेंद्रगढ़ : प्रमोद बेवल

संत कबीर का जन्म 1440 ईस्वी में लहरतारा स्थान पर हुुआ था तथा उनकी पत्नी का नाम लोई था। संत कबीर ने हिन्दु-मुस्लिम के 
साथ-साथ सभी धर्मों के लोगों को एकता के सूत्र में बांधने का काम किया। वे ताउम्र मनुष्य के उत्थान के लिए कार्यरत रहे ।

उक्त उद्गार शिक्षामंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा ने आज महेंद्रगढ़ स्थित कबीर आश्रम बास मौहल्ला में संत कबीर की 621वीं जयंती के 
अवसर पर धानक एकता मंच की ओर से आयोजित समारोह में बतौर मुख्यातिथि उपस्थित जनसमूह को संबोधित करते हुए व्यक्त किए।

प्रो. शर्मा ने संत कबीर के चित्र पर पुष्प अर्पित कर नमन करने के बाद कहा कि संत कबीर की जयंती के अवसर पर जन्मस्थली तक हर 
साल 10 हजार तीर्थ यात्रियों के लिए आवागमन के लिए स्पेशल रेल चलेगी । उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने धानक, खटीक, रेगर तथा 
वाल्मीकि को "ए" कटेगरी में शामिल कर आरक्षण मे 50 प्रतिशत आरक्षण देने का कार्य किया है आरक्षण में यह जातियां पहले पिछड़ जाती थी । 
अब आरक्षण देने से इनका उत्थान हो सकेगा।
























समाज के लोगों द्वारा शिक्षा मंत्री का पगड़ी, फूलमालाओं एवं स्मृति चिन्ह एवं स्वागत गीत के साथ जोरदार तरीके से स्वागत किया गया । 
मंच पर कृष्ण-सुदामा की झांकी के साथ कलाकारों ने समारोह को चार-चांद लगाए ।

प्रो. शर्मा ने कहा कि संत कबीर भक्तिकाल के प्रखर साहित्यकार एवं समाज सुधारक थे। साखी, शबद, रमैनी के अतिरिक्त बीजक में संत 
कबीर की रचनाएं संग्रहित हैं। समाज के लोगों को आह्वान करते हुए कहा कि वे अपने बच्चों को सुसंस्कारित शिक्षा ग्रहण करवाएं ताकि 
वे योग्य बन कर समाज एवं राष्ट्र के उत्थान में योगदान दे सकें।

इस अवसर पर शिक्षामंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा ने कहा कि पिछले पांच वर्षों के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारतवर्ष ने 
विश्वस्तर पर अनुठी पहचान कायम करते हुए हिन्दुस्तानियों के मान-सम्मान मेें अभूतपूर्व बढ़ोतरी की है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल के 
नेतृत्व में मौजूदा बीजेपी प्रदेश सरकार ने भी प्रधानमंत्री मोदी की विकासात्मक योजनाओं एवं नीतियों को लागू करके हर वर्ग के लोगों 
को खुशहाल बनाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी हुई है। शिक्षा मंत्री ने समाज के मेधावी छात्र-छात्राओं को भी सम्मानित किया।

इस मौके पर शिक्षामंत्री रामबिलास शर्मा ने 21 लाख रूपये सहित भवन के ऊपर से 11 हजार वोल्ट की बिजली लाईन हटाने की 
अधिकारियों से बात करने के बाद स्वीकृति प्रदान की वहीं सांसद चौ. धर्मबीर सिंह से बात करने के बाद सांसद की ओर से 11 लाख 
रूपये देने की घोषणा की। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे पूर्व जिला प्रमुख सुरेन्द्र कौशिक ने अपनी ओर से 21 हजार रूपये की 
घोषणा करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार व शिक्षामंत्री लोगों के कल्याण के लिए दिन-रात लगे हुए हैं और पिछली सरकार द्वारा 
इस समाज के लिए कोई ध्यान नहीं दिया गया जिसके कारण यह समाज निंरतर पिछड़ता चला गया । परन्तु रामबिलास शर्मा ने 
इस समाज के लोगों के उत्थान में अभूतपूर्व योगदान देकर समाज को आगे बढ़ाने का काम साक्षात करके दिखाया है। 
उन्होंने कहा कि इस भवन का निर्माण शिक्षामंत्री के योगदान से बना है।
Attachments area

Post a Comment

0 Comments