पेड़-पौधे धरा का श्रृंगार: डा. रणबीर

धनेश विद्यार्थी, रेवाड़ी - पलवल। 

चै. चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय, हिसार से संबंद्ध कृषि विज्ञान केन्द्र, मंडकौला में सोमवार को वन महोत्सव के तहत 87 जागरुक महिला एवं पुरुषों, केंद्र के कर्मचारियों एवं वैज्ञानिकों ने पौधरोपण किया। इस मौके पर उक्त केन्द्र के मुख्य विस्तार विशेषज्ञ (बागवानी) एवं कार्यक्रम संयोजक डा. रणबीर सिंह सैनी ने कहा कि पौधरोपण को पर्यावरण संतुलन बनाए रखने के लिए जरूरी बताते हुए कहा कि वास्तव में पेड़-पौधे इस धरती का असली श्रृंगार हैं और इनके बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। 

उन्होंने ग्रामीण महिलाओं को पौधों के फायदे भी बताए। उन्होंने कहा कि वायुमंडल में प्रदुषण को नियंत्रित करने लिए नीम, पीपल परिवार के वृक्ष, बेलपत्थर केविल्स ट्री अमलतास, शीशम, आम, मौलश्री, इमली, जामुन (गर्मी कम करने धूल सांेखने), सिरस, गुलमोहर, अर्जुन, बबूल, कदंब (कूड़ा-करकट कंकरीली भूमि को उपयोगी बनाने), अशोक, कचनार, सिमल, पपील, बरगद (ध्वनि प्रदुषण रोकने) विभिन्न गैसों को सोंखने के लिए बेल, बोगेनविलिया, इमली, महुआ, शीशम सिरस अधिक मात्रा में लगाए जाए और ऐसा करने से समस्त मानव जाति को लाभ होगा। इस मौके पर डा. सुमित्रा, डा. सरिता यादव समेत अन्य ने अपनी बात रखी।

Post a Comment

0 Comments