Recents in Beach

header ads

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की कमी देश को हमेशा खलेगी, उनकी पूर्ति असंभव: मलिक

गुरुग्राम:

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन पर भाजपा प्रदेश प्रवक्ता रमन मलिक ने उनके निवास पर पहुंचकर उन्हें श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा इसकी पूर्ति कभी नहीं हो सकती। स्वराज के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा कि सुषमा स्वराज की कमी ना केवल भाजपा को बल्कि पूरे हिंदुस्तान को खलेगी। स्वर्गीय स्वराज महिलाओं के लिए प्रेरणा स्रोत थी। भारत की पहली ऐसी नेता थी, जो राजनीति में पूरी तरह परिपक्व थी और मानवतावादी थी।

सभी 36 बिरादरीयों में और पक्ष हो या विपक्ष, सभी लोगों में उनकी एक अलग पहचान थी। विदेश मंत्री बनने तक के सफर में उन्होंने अपने जीवन में बड़े उतार-चढ़ाव देखे। लेकिन कभी भी वे समस्याओं से दूर नहीं भागी। इस अवसर पर मंच के कार्यकर्ताओं ने सुषमा स्वराज के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए उनको श्रद्धांजलि अर्पित की और देश भर की महिलाओं को संदेश दिया कि वह सुषमा स्वराज के जीवन परिचय की जानकारी लेकर अपने आप को परिपक्व बनाएं, जिससे कि आने वाले समय में भारत को सुषमा स्वराज जैसे महिला नेता मिल सके।

मलिक ने कहा कि सुषमा स्वराज का राजनीतिक और निजी जीवन बेदाग रहा। वह केवल भारतीयों के लिए ही नहीं, बल्कि पाकिस्तानी और बहुत से विदेशियों के लिए भी मसीहा रहीं। पाकिस्तानी महिला नीलिमा गफ्पार का भारत में इलाज करने के लिए उन्होंने तत्काल वीजा जारी कराया था। नीलिमा के पति ने सुषमा स्वराज से इसके लिए अनुरोध किया था। पाकिस्तानी मूक बधिर युवती गीता की 10 वर्ष बाद सुषमा स्वराज की वजह से ही भारत वापसी संभव हो सकी। जब वह वापस लौटी तो सुषमा ने उसे भारत की बेटी कहा था। इतना ही नहीं उन्होंने गीता के माता पिता की तलाश के लिए एक लाख रुपए का ईनाम भी घोषित किया था।

2019 का लोकसभा चुनाव न लडऩे का फैसला लेने के बाद सुषमा स्वराज ने एक माह की निर्धारित अवधि खत्म होने से पहले ही सरकारी आवास खाली कर दिया और जंतर मंतर स्थित अपने निजी फ्लैट में शिफ्ट हो गईं थीं। सुषमा स्वराज देश की लोकप्रिय व प्रखर नेताओं में से एक थी। उन्होंने राजनीति के क्षेत्र में आकर देश की जो सेवा की है, वह कभी नहीं भुलाई जा सकती। भारत की पहली ऐसी नेता थी जो राजनीति में पूरी तरह परिपक्व थी और मानवतावादी थी। विदेश मंत्री बनने तक के सफर में उन्होंने अपने जीवन में बड़े उतार-चढ़ाव देखे। 

Post a Comment

0 Comments