पॉलिथीन पृथ्वी को बदसूरत कर रही है, नरेला के विद्यार्थियों ने उठाईआवाज

 Praveen Kushwaha:Bhopal:


शासकीय महाविद्यालय नरेला, भोपाल की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वारा हरियाली महोत्सव के अंतर्गत एक अभियान 'धरती के श्रृंगार' के अंतर्गत विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। धरती की  हरितिमा में वृद्धि कर उसके सौंदर्य सौष्ठव को बढ़ाने के लिए तथा धरती की शीतलता से जनमानस को नख-शिख तक आलहादित करने के लिए आज युवाओं के मनस को पर्यावरण के प्रति सचेत करने की आवश्यकता पड़ गई है। 
कार्यक्रम का संचालन कर रहे अभिराज शर्मा ने शासकीय योजनाओं के साथ साथ प्रत्येक व्यक्ति को हृदय से पर्यावरण संरक्षण करने की पहल की बात की। छात्र धीरेंद्र उपाध्याय  ने गरम पानी में मर जाने वाले मेंढक जैसी मौत मरने के लिए आज से ही सचेत हो जाने की बात कही। आशुतोष गौर,दीक्षा जैन,अभिनंदन चतुर्वेदी, राहुल यादव,अभिराज शर्मा,वीरेंद्र सिंह,आराधना तिवारी,खुशबू ताम्रकार,अमर सिंह,संजना सक्सेना एवं अभिषेक विश्वकर्मा आदि ने विभिन्न प्रतियोगिताओं में विजयी रहे।

प्रतियोगिता में निर्णायक के तौर पर डॉ. संध्या खरे,डॉ. अर्चना गौर और डॉ. राकेश खरे रहे। इस अवसर पर वरिष्ठ प्राध्यापक डॉ. उषाकिरण गुप्ता एवं नीता पुराणिक के साथ-साथ अतिथि विद्वान शिक्षक विद्यार्थियों का उत्साह वर्धन किया। प्राचार्य डॉ. वीणा मिश्रा द्वारा विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया गया। संपूर्ण गतिविधियां रा.से.यो. कार्यक्रम अधिकारी डॉ. तैयबा खातून एवं प्रीति झारिया के निर्देशन में पूर्ण हुई। इस अवसर पर विद्यार्थियों में दीपक रजक, नासिर खान,अभिनंदन चतुर्वेदी,केशव मिश्रा,साहिल राठौर,करन लश्करी,रितिका श्रीवास्तव,काजोल जैन,दीक्षा, विशाल,विकास एवं रवि का कार्यक्रम को सफल बनाने में विशेष योगदान रहा।


Post a Comment

0 Comments