Crime News: दिल्ली में ठगी करने वाला ज्वेलर पुत्र वधु के साथ जयपुर में गिरफ्तार

ठगी करने वाला ज्वेलर पुत्र वधु के साथ जयपुर में गिरफ्तार छिपकर रहे थे जयपुर में 

दिल्ली में लकी ड्रा सिस्टम बनाकर सैकड़ों लोगों के साथ करोड़ों रुपये की ठगी करने का है मामला ।

Ramesh Ramawat: Jaipur
करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले मुरारी ज्वेलर अपने पुत्र वधु के साथ राजस्थान में किया गिरफ्तार, बेटे विवेक अग्रवाल की तलाश जारी ।

दिल्ली के सागरपुर थाना पुलिस ने सैकड़ों लोगों के साथ करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले ज्वेलर व उसकी बहू को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ज्वेलर के फरार बेटे की तलाश कर रही है। आरोपियों ने स्कीम निकालकर लोगों से उसमें पैसा लगवाया और फिर पैसे को समेट कर जयपुर फरार हो गए। आरोपियों ने लोगों की ओर से निवेश की गई रकम से ज्यादा की ज्वेलरी देने का झांसा दिया था। आरोपी कमेटियों का पैसा भी ले गए।

दक्षिण- पश्चिमी जिला डीसीपी देवेंद्र आर्या ने बताया कि एसीपी दिल्ली कैंट मनीष जोरवाल की देखरेख में सागरपुर थानाध्यक्ष जोगिंदर सिंह, एसआई अशोक कुमार मीणा, हवलदार सतपाल, हवलदार आशीष, महिला सिपाही अनिता आदि की टीम ने शास्त्री नगर, पश्चिमी सागरपुर निवासी ज्वेलर मुरारी अग्रवाल (64) व उसकी बेटे की पत्नी कविता अग्रवाल (33) को जयपुर, राजस्थान से गिरफ्तार किया है।

ज्वेलर के बेटे विवेक अग्रवाल (35) की तलाश की जा रही है। इनकी सागरपुर में ही ज्वेलरी की दुकान थी। शुरुआती जांच में यह बात सामने आई है कि आरोपियों ने इलाके के करीब 350 से ज्यादा लोगों से पैसा स्कीम में लगवा लिया।

पुलिस अधिकारियों के अनुसार आरोपियों ने एक 20 महीने की स्कीम शुरू की। इसमें लोगों से एक हजार से लेकर पांच हजार तक पैसा लगवाया। सभी पीड़ितों को आरोपियों ने एक टोकन दिया और उनसे कहा कि हर महीने के पहले रविवार को लकी ड्रा निकलेगा। जिसका लकी ड्रा निकलेगा उसको 20 महीने तक जितना पैसा निवेश करेगा उससे ज्यादा की उसे ज्वेलरी दी जाएगी। मगर आरोपी हर महीने अपना ही लकी ड्रा निकालते थे।

इन्होंने ऐसा सिस्टम बना रखा था कि लकी ड्रा इनका ही निकलता था। ये लोगों से पैसे लेते रहे। इसके बाद आरोपियों ने सभी पीड़ितों से यह कहकर उनसे ओरिजनल टोकन वापस ले लिए कि उन्हें जीएसटी भरना है। इसके बाद आरोपी पीड़ितों का पैसा, टोकन व कमेटियां लेकर दिल्ली से फरार हो गए। ये जयपुर, राजस्थान में छिपकर रहने लगा। दिल्ली पुलिस अधिकारियों के अनुसार इलाके में रहने वाले करीब 20 से ज्यादा लोगों ने सागरपुर थाने में शिकायत दर्ज कराई थी। सागरपुर थाना पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ आठ जून, 2019 को एफआईआर दर्ज की थी। एसआई अशोक कुमार मीणा की टीम ने मोबाइल सर्विलांस से आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

Post a Comment

3 Comments