Recents in Beach

header ads

झुंझुंनू प्रधान सुशीला सीगड़ा कांग्रेस को छोड़ अब भाजपा में हुई शामिल ।

जयपुर/ झुंझुनूं जिले के मंडावा उपचुनाव में अब बेटी और बहू के बीच में होगा रोचक मुकाबला । कांग्रेसी प्रधान सुशीला सीगड़ा कांग्रेस को छोड़ अब भाजपा में हुई शामिल ।
कांग्रेस से निष्कासित झुंझुनूं प्रधान सुशीला सीगड़ा मंडावा सीट से भाजपा प्रत्याशी

झुंझुनूं। राजस्थान विधानसभा उप चुनाव 2019 में नागौर जिले की खींवसर सीट के बाद अब झुंझुनूं जिले की मंडावा सीट को लेकर भी प्रत्याशी की तस्वीर साफ हो गई। झुंझुनूं पंचायत समिति की प्रधान सुशीला सीगड़ा पर भाजपा ने मंडावा सीट से दांव लगाया है। बता दें कि मंडावा विधानसभा सीट के उप चुनाव 2019 में अचानक हुए घटनाक्रम में कांग्रेस से निष्कासित प्रधान सुशीला सीगड़ा को रविवार को भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन करवाई गई और फिर उनका नाम मंडावा सीट से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर फाइनल हुआ। सीगड़ा के साथ ही जिला परिषद सदस्य प्यारेलाल ढुकिया ने भी भाजपा की सदस्यता ग्रहण की है। झुंझुनूं भाजपा ने यह भी दावा किया है कि उनके साथ करीब एक दर्जन सरपंचों ने भी भाजपा ज्वाइन की है।

 किया गया था सीगड़ा का विरोध
किया गया था सीगड़ा का विरोध
बता दें कि सुशीला सीगड़ा का नाम करीब एक माह से टिकट के लिए चल रहा था, लेकिन मूल भाजपा के कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों ने उनका विरोध जताया। ऐसे में लग रहा था कि सीगड़ा को ​टिकट शायद ही मिले, मगर देर रात्रि तक अचानक घटनाक्रम बदला और सीगड़ा के नाम पर सहमति बनी।

सांसद पुत्र भी थे दौड़ में मंडावा सीट से टिकट की दौड़ में चार नाम चल रहे थे। इनमें सुशील सीगड़ा के अलावा झुंझुनूं सांसद नरेन्द्र कुमार खींचड़ के बेटे अतुल खींचड़, भाजपा कार्यकर्ता राजेश बाबल और गिरधारीलाल का नाम शामिल था। इन सबके बीच मंडावा विधानसभा क्षेत्र प्रभारी प्रभारी तथा उप नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़, सांसद नरेन्द्र खीचड़, सूरजगढ़ विधायक सुभाष पूनिया, मलसीसर पंचायत समिति प्रधान गिरधारीलाल खीचड़ आदि भाजपा नेताओं की मौजदूगी में रविवार को सीगड़ा ने झुंझुनूं भाजपा कार्यालय में पार्टी की सदस्यता ग्रहण की और उन्हें भाजपा प्रत्याशी बनाया गया।


30 को दाखिल करेंगी पर्चा
सुशील सीगड़ा को मंडावा सुशीला सोमवार को अपना नामांकन दाखिल करेंगी। सोमवार को नामांकन का अंतिम दिन है। ऐसे में इस सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी की घोषणा होने को लेकर भी सभी की निगाहें हैं। बता दें कि राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018 में मंडावा से भाजपा प्रत्याशी नरेन्द्र खींचड़ विधायक बने थे। लोकसभा चुनाव 2019 में भाजपा ने नरेन्द्र खींचड़ पर झुंझुनूं सीट से दांव लगाया। इस बार भी वे जीत गए और विधायक से सांसद बन गए। ऐसे में मंडावा सीट खाली हो गई थी।


इधर खींवसर से हनुमान बेनीवाल के भाई मैदान में
इधर, राजस्थान के नागौर जिले की खींवसर विधानसभा सीट से सांसद हनुमान बेनीवाल की पार्टी आरएलपी ने नारायण लाल बेनीवाल को प्रत्याशी घोषणा बनाया गया है। यह घोषणा आरएलपी के प्रमुख और सांसद हनुमान बेनीवाल ने शुक्रवार को की थी। 30 सितंबर को नारायण लाल बेनीवाल अपना नामांकन दाखिल करेंगे। नारायण लाल सांसद हनुमान बेनीवाल के छोटे भाई हैं।
प्रधान सीगड़ा को मंडावा से उतारने की हो चुकी है पूरी तैयारी । इस बार पहले से भी होगा रोचक मुकाबला क्यों कि
बेटे-बेटी में नहीं बल्कि बेटी रीटा चौधरी और बहू शुशीला सिंगडा के बीच हो रहा है मुकाबला ।

Post a Comment

0 Comments