रेवाड़ी जिले की क्राइम खबरे एक ही पेज पर पढ़े


धनेश विद्यार्थीरेवाड़ी।

चोरीशुदा बाइक संग एक काबू
कसौला पुलिस ने चोरीशुदा बाइक संग एक शख्स को काबू किया है, जिसकी निशानदेही पर बाइक को भी बरामद कर लिया है। आरोपी की पहचान अंबेडकर कालोनी, कुतुबपुर निवासी सोनू उर्फ सिद्धार्थ के रूप में हुई। जांच अधिकारी एचसी संजय ने बताया कि इस शख्स को कुछ दिन पहले माडल टाउन पुलिस ने कंपनी बाग के एक घर से गाड़ी चुराने के केस में काबू किया गया था। पूछताछ के दौरान इसने कसौला थाना क्षेत्र से बाइक चुराने की वारदात का खुलासा किया। आरोपी ने बताया कि 15 सितंबर को वह शहर की सब्जी मंडी से बाइक चोरी कर अपने दोस्त से मिलने हाइवे पर गया था। बीच राह में इस चोरीशुदा बाइक का तेल खत्म हो गया। तेल डलवाने के लिए आरोपी बाइक को लेकर आसलवास के पास पैट्रोल पंप पर ले गया था। इसी दौरान वहां पर चाबी लगी हुई एक बाइक खडी हुई थी। मौका मिलते ही आरोपी शहर से चोरी की हुई बाइक को वही छोड, पैट्रोल पंप पर खडी बाइक को लेकर फरार हो गया। पुलिस ने बाइक मालिक गुजरीवास के अमित की शिकायत पर बाइक चोरी का केस दर्ज किया। माडल टाउन पुलिस ने कसौला पुलिस से इस आरोपी को प्रोडेक्शन वारंट पर लेकर एक दिन के लिए रिमांड पर लिया। हाल आरोपी चोरी के अन्य केस में भौंडसी जेल में बंद था। पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर उसके घर के सामने खाली प्लाॅट से चोरी की हुई बाइक को भी बरामद कर लिया है। आरोपी को आज अदालत में पेश किया गया वहां से उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

खुद को इंश्योरेंस कंपनी का अफसर बताकर लाखों ठगे
सात आरोपी गिरफ्तार, अदालत ने दो दिन के रिमांड पर दिया, अब होगी सख्ती से पूछताछ

खुद को एक्साइड कंपनी के आॅफिसर बताते हुए दो लाख की ठगी करने के मामलें में माडल टाउन थाना पुलिस ने सात आरोपियों को गिरफ्तार किया है। गत दिवस पुलिस ने आरोपियों को अदालत में प्रोडेक्शन वारंट पर लेकर दो दिन के रिमांड पर लिया है। हाल आरोपी किस अन्य मामलें में डासना जेल गाजियाबाद में बंद थे। ठगी के मामलें की जांच रहे एएसआई ओमप्रकाश ने बताया कि मूल वासी पवन विहार काॅलोनी साहरनपुर यूपी हाल सेक्टर-3 निवासी विनय कुमार शर्मा ने शिकायत देते हुए बताया कि मार्च 2016 में उसने एक्साइड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी से एक पोलसी खरीदी थी। मार्च 2017 का पोलसी प्रीमियम उसने जमा करा दिया था। मार्च 2018 मार्च 2019 का पोलसी प्रीमियम का पैसा उसके द्वारा जमा नही कराया गया। इसी दौरान आरोपियों ने विजय कुमार के पास फोन कर अपने आप को इंश्योरेेंस कंपनी के आॅफिसर बताया ओर प्रीमियम की बकाया राशी जमा कराने पर, कंपनी की ओर से  कुछ आॅफर बताये। और कंपनी के नाम से बनाये हुए बैक एकाउंट नंबर विनय कुमार के मोबाइल पर भेजे। आॅफर के लालच में आकर विनय कुमार ने आरोपियों द्वारा दिये गये बैंक एकाउंट नंबर में दो लाख रूपये डाल दिए। जून माह में कंपनी द्वारा विनय कुमार को पता चला कि उसके द्वारा कंपनी के एकाउंट में दो लाख की कोई राशी जमा ही नही की गई। यह जानकारी मिलते ही विनय कुमार ने आरोपियों के मोबाइल नंबरों पर काॅल की लेकिन सभी मोबाइल नंबर बंद मिले। माडल टाउन थाना पुलिस ने विनय की शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ धोखाधडी सहित विभिन्न धाराआों के तहत मामला दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू की थी। रिमांड के दौरान आरोपियों से नकदी बरामद करने तथा इस ठगी के खेल में शामिल अन्य आरोपियों के बारे में गहनता से पूछताछ की जायेगी।

नाबालिग से दुष्कर्म केस में तीन आरोपी गिरफ्तार

थाना रामपुरा थाना क्षेत्र में नाबालिग के साथ दुष्कर्म करने और पीड़िता को किसी को इस वारदात की जानकारी देने पर जान से मारने की धमकी देने वाले की वारदात में डीएसपी जमाल मोहम्मद ने तीनो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। इनकी पहचान राजपुरा ईस्तमुरार के पंकज, सन्जू शमशेर के रूप में हुईै मंगलवार को इन तीनों को अदालत में पेश करके न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। मंगलवार तीनों आरोपियों को अदालत में पेश किया गया वहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। जानकारी देते हुए डीएसपी जमाल मोहम्मद ने बताया कि 19 सितंबर की शाम नाबालिग कूडा डालने के लिए गई थी। इसी दौरान तीनों आरोपी नाबालिग को सुनसान जगह ले गए। वहां पर आरोपी पकंज ने नाबालिग के साथ दुष्कर्म किया। इसी दौरान आरोपी शमशेर सन्जू दोनो वहा खडे होकर देखते रहे दोनो में से किसी ने नाबालिग को बचाने का प्रयास नही किया। घटना के बारे में किसी को बताने पर जाने से मारने की धमकी देते हुए नाबालिग को छोड कर आरोपी फरार हो गए। घर आकर नाबागिल ने आप बीती परिजनों का बताई ओर उसके बाद पुलिस को शिकायत दी गई। पुलिस ने शिकायत पर तुरन्त प्रभाव से ना केवल आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया बल्कि बीती रात ही तीनों आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया। मंगलवार तीनों आरोपियों को अदालत में पेश किया गया वहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

बंधक बना कर ट्रक लूटने वाले चार बदमाशों को कोर्ट ने सुनाई 10-10 साल कैद की सजा
एडिशनल सेशन जज कंचन माही ने सुनाया फैसला
चारों पर पांच हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया

दिल्ली-जयपुर हाईवे पर चालक परिचालक को बंधक बनाकर लूटने के सात साल पुराने मामले में चार बदमाशों को अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश कंचन माही की कोर्ट ने दोषी ठहराते हुए उन्हें 10-10 साल कैद की सजा के अलावा 5 हजार रुपए जुर्माना लगाया है। जुर्माना नहीं भरने पर दोषियों को अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी। पलवल निवासी अम्मू, यूपी के मथुरा निवासी शाहून, तावड़ू निवासी इकबाल भरतपुर निवासी रासिद ने मिलकर 7 साल पहले दिल्ली-जयपुर हाईवे पर एक ट्रक के चालक परिचालक को बंधक बनाकर ट्रक, मोबाइल 42 हजार रुपए की नकदी लूट ली थी। वारदात के कुछ समय बाद ही पुलिस ने चारों को गिरफ्तार किया था। बाद में पुलिस ने चारों दोषियों के खिलाफ कोर्ट में साक्ष्य,गवाह और सबूत रखे। कई दौर की गवाही सबूतों के आधार पर अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश कंचन माही ने चारों को दोषी ठहराया और उन्हें 10-10 साल कैद की सजा सुनाई है। साथ ही पांच-पांच हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है। जुर्माना नहीं भरने पर अतिरिक्त सजा भुगनी पड़ेगी।

दिल्ली में डस्ट खाली कर लौट रहे थे घर
राजस्थान के सीकर निवासी जसवंत सिंह संपतराम मीणा दोनों 11 सितंबर 2012 को अपने ट्रक में डस्ट को खाली कर दिल्ली से वापस नीमकाथाना लौट रहे थे। अर्धरात्रि दिल्ली-जयपुर हाईवे पर स्कॉर्पियों में सवार होकर आए बदमाशों ने कसौला थाना एरिया में गाड़ी आगे लगाकर उन्हें रोक लिया था और उसके बाद उन्हें बंधक बनाकर अपने साथ ले गए थे। जसवंत की जेब से 42 हजार की नकदी संपतराम की जेब से एक मोबाइल फोन छीनने के बाद दोनों को चलते ट्रक से नीचे फैंक दिया और फिर ट्रक को लेकर फरार हो गए थे। कसौला थाना पुलिस ने बदमाशों के खिलाफ लूट का मामला दर्ज किया था।

Post a Comment

0 Comments