समर्पण भाव से मिलेंगे भगवान


धनेश, विद्यार्थी, रेवाड़ी। संस्था हमारा परिवार ने ध्यान-साधना कार्यक्रम आओ ध्यान लगाए पंजाबी धर्मशाला में आयोजित किया। समाजसेवी कृष्णलाल मेहता के सानिग्ध में आयोजित इस कार्यक्रम में पंजाबी यूथ क्लब के प्रधान केशव चैधरी, श्याम दीवाना मंडल के प्रधान नवनीत सोनी, ब्राहम्ण युवा संगठन के संस्थापक
सदस्य बलवंतराय कौशिक ने कहा कि जब श्रीकृष्ण संधि का प्रस्ताव लेकर दुर्योधन के पास गये, उन्हें प्रसन्न करने के लिए 56 प्रकार के राजसी भोग परोसे गए मगर उन्हें विदुर के प्यार भरे केले के छिलके खाकर बताया कि वे केवल अपने भक्त के भाव को सप्रेम ग्रहण करते हैं। संस्था के संयोजक दिनेश कपूर ने कहा कि कबीर, रविदास, मीराबाई या गुरूनानक देव केवल अपनी सच्ची भक्ति की वजह से भगवान से साक्षात्कार कर पाए। समाजसेवी बहन उषा आर्य, महिला संयोजक शशि जुनेजा, दुर्गावाहिनी की प्रधान विजय चैहान, भजन गायिका कमल मखीजा समाजसेवी डा. नीरू वर्मा ने कहा कि महाभारत का युद्ध जीतने के बाद अश्वमेघ में भगवान श्रीकृष्ण ने झूठे पत्तल उठाने की सेवा लेकर भक्ति मार्ग में सेवक की महिमा का गौरवान्वित किया।


पंतजलि के जिला प्रभारी दयाराम आर्य के निर्देशन में गुरुकुल गंगायचा अहीर के बाल साधकों ने कठिन योगासनों का प्रदर्शन कर सभी को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक किया। अपना मन सफाई की ओर टीम के प्रधान कृपाल सिंह उनकी टीम ने वातावरण की स्वच्छता से मन की स्वच्छता की ओर चलने का आह्वान किया। जलवा डांस एकेडमी के निर्देशक प्रवीन ठाकुर के निर्देशन में सभी ने देशभक्ति के गीतों पर सुंदर नृत्य किया। लाफ्टर थेरेपी पर सभी ने खूब ठहाके लगाये। पर्यावरणविद एडवोकेट दिव्या राजपाल, श्याम दीवाना मंडल की पूरी टीम गुरुकुल गंगाचया अहीर के बाल साधकों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में समाजसेवी ओमप्रकाश चुघ, सुदेश चुघ, पुरुषोत्तम नंदवानी, ओमप्रकाश राजपाल, अशोक जुनेजा, सोनिया कपूर, पूर्वांशी, श्याम आहूजा, जितेंद्र वर्मा, बिल्लू पोसवाल, मोनू वर्मा, अनिल प्रधान, गोपाल शर्मा, सुनील वर्मा आगरा वाले, पूनम नंदवानी, लवनेश नागपाल, सीमा नागपाल, मुकेश, राजेन्द्र सिंह यादव, यश भटेजा, सरदार तेजासिंह, भारतभूषण, कमला दुआ, कौशल्या देवी, उमा रानी, प्रो ईश्वर सिंह, रामानारायण, चन्द्रप्रकाश, केएल कोहली, विनोद गोयल विजय चुध, रमेश सचदेवा, नरेन्द्र कुमार, किशोरीलाल नंदवानी, रामजीलाल सैनी, प्रतिभा नंदवानी ईश्वरदत्त शर्मा ने सहयेग किया।

Post a Comment

0 Comments