Recents in Beach

header ads

लव जिहाद के चक्कर में पड़कर पत्नी ने करवाई पति की हत्या

Ramesh Ramawat

नाजायज संबंधों ने ली एक ओर जान पत्नी व धर्म भाई बना प्रेमी ओर एक साथी गिरफ्तार
जयपुर के थाना चंदवाजी ने बड़ी सफलता हासिल करते हुए अचरोल में हुई हत्या की वारदात का खुलासा कर मृतक की पत्नी व प्रेमी ओर एक साथी मुलजिम को गिरफ्तार किया है। मृतक की पत्नी ने नाजायज संबंधों को लेकर प्रेमी से करवाई थी हत्या।
     पुलिस अधीक्षक जयपुर ग्रामीण श्री शंकर दत्त शर्मा ने बताया कि 26 अक्टूबर की प्रातः अचरोल दुग्ध सहकार समिति के सामने एक व्यक्ति की लाश पड़ी होने की सूचना पर मौके पर पहुंचे थानाधिकारी ने मृतक की शिनाख्त पूनम गोयर पुत्र बाबूलाल हरिजन (35)  निवासी रेलवे स्टेशन के पास सांभर लेक के रूप में कर मृतक के परिजनों को सूचित किया।
    श्री शर्मा ने बताया कि हत्या की वारदात को गंभीरता से लेते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मुख्यालय श्री ज्ञान चंद यादव व वृताधिकारी जमवारामगढ़ श्री लाखन सिंह के सुपरविजन में थानाधिकारी विक्रांत शर्मा के नेतृत्व में अचरोल थाने से एक टीम गठित की गई।
       उन्होंने बताया कि अनुसंधान में गठित टीम ने पाया कि मृतक की पत्नी अंजू देवी के अकबर नाम के व्यक्ति के साथ नाजायज संबंध है। अकबर से गहनता से पूछताछ करने पर उसने बताया कि मृतक और उसकी पत्नी जयपुर में सिरसा-बिंदायका में किराए का कमरा लेकर रहते है तथा मैरिज गार्डन में सफाई का काम करते हैं। आरोपी अकबर भी गार्डन में तंदूरी रोटी बनाने का काम करता था। काम के दौरान मृतक की पत्नी अंजू से नाजायज संबंध स्थापित हो गए। मृतक की पत्नी अंजू देवी ने अपने संबंधों को छुपाने के लिए आरोपी को अपना धर्म भाई भी बना लिया था। मृतक को दोनों के संबंधों के बारे में पता लगने पर एतराज करता था।
हत्या के बाद काम पूरा हो जाने की सूचना दी मृतक की पत्नी को
श्री शर्मा ने बताया कि मृतक की पत्नी लड़ाई झगड़ा कर अपने पीहर आ गई थी। 25 अक्टूबर को उसने पूनम को मारने की योजना से पीहर अचरोल बुलाया। आरोपी अकबर ओर उसके दोस्त मन्नू खान, अफसर व अल्लादीन  उसे मोटरसाइकिल से अचरोल छोड़ने के नाम से पहले जयपुर में सिरसा रोड पर फिर अचरोल में शराब पिलाकर पत्थरों से सिर कुचलकर हत्या कर अंजू को काम होने की सूचना दे दी।
पहले भी दो बार की थी हत्या की कोशिश
इससे पहले भी दो बार आरोपियों ने मृतक पूनम को मारने की कोशिश की पर सफल नहीं हो सके। पहली बार अकबर ने अंजू को सेलफोस की टैबलेट दी थी पर वह उसे दे नहीं पाई। दूसरी बार 11 अक्टूबर की रात्रि काम से घर आते समय चलती बाइक पर लोहे की रॉड से वार कर घटना को दुर्घटना का रूप देने का प्रयास किया मगर फिर से वे अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हो पाए।   
      आरोपियों के विरुद्ध थाना शास्त्री नगर व आमेर में लूट, मारपीट तथा अपहरण के प्रकरण दर्ज है ।

Post a Comment

0 Comments