Recents in Beach

header ads

रेवाड़ी की सड़कों पर हटने लगे अवैध कब्जे बाजार पर दिखा असर, 16 दुकानदारों से वसूले साढ़े 16 हजार बावल और धारूहेड़ा में अभी नप अधिकारी सुस्त


धनेश विद्यार्थी, रेवाड़ी। 
शहर के बाजारों और सड़कों को अवैध कब्जों से मुक्त बनाने की मुहिम में जुटा प्रशासन नगर परिषद की टीम के माध्यम से सड़कों को साफ करा रहा है। उपायुक्त यशेंद्र सिंह के निर्देश पर बुधवार को नगर परिषद के अधिकारियों की टीम ने नाईवाली चैक, गोपालदेव चैक, नाईवाली फलाईओवर के नीचे और कुछ अन्य इलाकों में सड़कों पर अवैध कब्जे हटाने की मुहिम चलाई। इसके दौरान 24 दुकानदारों के चालान काटते हुए कुल साढ़े 16 हजार रूपए का आर्थिक जुर्माना भी वसूला गया। 
परिषद के प्रशासक एवं एसडीएम रेवाड़ी रविन्द्र यादव ने बताया कि बुधवार को भी यह मुहिम जारी रही, जिसके तहत मोती चैक, गोकल गेट, रेलवे रोड़, नाईवाली चैक से रामपुरा मोड तक सड़क और बाजार से अतिक्रमण हटाए गए। ऐसा करने वाले 24 दुकानदारों के चालान काटते हुए उनसे 16 हजार 500 रूपए जुर्माना भी वसूला गया। इन लोगों को यह चेतावनी भी दी गई कि अगर दोबारा सड़क पर अवैध कब्जा पाया गया तो जुर्माना राशि बढ़ जाएगी। प्रशासक ने शहरवासियों से सड़क और बाजार में सड़कों पर अवैध कब्जे नहीं करने की नसीहत दी है। 
रेवाड़ी फोटो : 5, 6 व 7: रेवाड़ी में नाईवाली चैराहे से पुलिस बल के साथ अवैध कब्जे हटवाती नप टीम।
उधर इस मुहिम से अभी कस्बा बावल अछूता है और यातायात जाम की स्थिति यह है कि बुधवार को पंचायत समिति बावल के अध्यक्ष के विरूद्ध लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को लेकर बुलाई गई अहम बैठक में प्रस्ताव लाने वाले विपक्ष के पार्षद ही एडीसी प्रदीप दहिया की अध्यक्षता वाली इस अहम बैठक में नहीं पहुंच पाए। यह बात खुद विपक्ष के पार्षदों ने इस बैठक में नहीं पहुंचने की वजह के रूप में बताई है। उधर रेवाड़ी शहर में पाॅलीथिन में लगातार सामान बेचा जा रहा है मगर अधिकारी मौन हैं। कस्बा बावल और धारूहेड़ा बस अडडे भी लगभग यही स्थिति है। नगर पालिका बावल और धारूहेड़ा में जिला उपायुक्त यशेंद्र सिंह के सड़कों से अवैध कब्जे हटवाने के आदेश पर अभी अमल नहीं हुआ है और इसकी वजह शहरी स्थानीय निकाय विभाग के संबंधित अधिकारियों से जरूर पूछी जानी चाहिए। अब देखना यह है कि बावल और धारूहेड़ा में कब नगर पालिका के अधिकारी अपनी कुम्भकर्णी नींद त्यागेंगे, यह आने वाला वक्त बताएगा। 

Post a Comment

0 Comments