Recents in Beach

header ads

अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति ने हैदराबाद गैंगरेप के विरोध में प्रदर्शन किया

गुरूग्राम: टीम अजेयभारत:
हैदराबाद में एक महिला डॉक्टर के साथ गैंगरेप के बाद की गई नृशंस हत्या ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है। देश भर में महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराधों को लेकर सभ्य समाज के लोगों में गुस्सा है। देश के सभी हिस्सों में ऐसी घटनाओं के खिलाफ लोग सड़कों पर आ रहे हैं।

इस व ऐसी ही अन्य घटनाओं को लेकर आज गुड़गाँव में अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति ने प्रदर्शन कर अपना रोष व्यक्त किया। इस प्रदर्शन की अध्यक्षता समिति की ज़िला अध्यक्ष भारती देवी की जिसमें समिति की राज्य अध्यक्ष उषा सरोहा, लीलावती, रमेश, पूनम, शोभा गुलाब, सुमन वर्मा सचिव सोनिया सह सचिव सरोज भारद्वाज उपाध्यक्ष ओमवती आदि ने भाग लिया। इस केस को लेकर देशभर में जबरदस्त आक्रोश है। तेलंगाना समेत कई राज्यों में इस नृशंस कांड के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। प्रदर्शनकारियों की मांग थी कि घटना में संलिप्त पकड़े गए सभी अपराधियों को फास्ट ट्रेक कोर्ट में मुक़द्दमा चला कर सख्त से सख्त सजा दी जाए।
ज्ञात रहे की 27-28 नवंबर की दरम्यानी रात को एक महिला पशुचिकित्सक के लापता होने के मामले में तेलंगाना के शमशाबाद पुलिस स्टेशन में एफ़आईआर दर्ज करने में देरी संबंधी ड्यूटी में कोताही बरतने के मामले में कुछ पुलिस कर्मियों को निलंबित भी किया गया है।

पुलिस ने अगर तत्काल कार्यवाही की होती तो शायद पीड़‍िता को जिंदा बचाया जा सकता था। पीड़िता की छोटी बहन थाने में शिकायत दर्ज कराने पहुंची लेकिन उसे दूसरे थाने शमशाबाद भेज दिया गया। पुलिस ने कार्रवाई की बजाय कहा कि यह मामला उसके क्षेत्र में नहीं आता है। बाद में पीड़‍िता के परिवार के साथ कई सिपाही लगाए गए और सुबह 4 बजे तक तलाशी अभियान चलाया गया लेकिन उसका पता नहीं चल पाया। पीड़‍िता की बहन ने कहा, 'एक पुलिस स्‍टेशन से दूसरे पुलिस स्‍टेशन जाने में हमारा काफी समय बर्बाद हो गया। अगर पुलिस ने समय बर्बाद किए बिना कार्रवाई कर दी होती तो मेरी बहन आज जिंदा होती।

साथ ही उत्तर प्रदेश के संभल में रेप के बाद जिंदा जलायी गई एक नाबालिक पीड़िता ने शनिवार की सुबह दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया। 85 फीसद जल चुकी नाबालिग लड़की ने 9 दिन जिंदगी और मौत से लड़ते हुये 30 नवंबर को दम तोड़ दिया। पीड़िता को 22 नवंबर को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था और तब से उसे वेंटिलेटर पर गया था।

इस प्रदर्शन में भवन निर्माण कामगार यूनियन के ज़िला प्रधान धर्मवीर व उनके अन्य साथियों ने हिस्सा लिया। 

Post a Comment

0 Comments