कौन सा दीपक जलाएं किस भगवान् के आगे और किस इच्छा पूर्ति के लिए जानने के लिए पढ़े

कौन सा दीपक जलाएं किस भगवान् के आगे और किस इच्छा पूर्ति के लिए जानने के लिए पढ़े--


भगवान गणेश की कृपा पाने के लिए तीन बत्तियों वाला दीपक जलानें और गणपति स्तोत्र का पाठ करने से मनोकामनायें पूर्ण होती है।

यदि आप मां लक्ष्मी की आराधना करते हैं और चाहते हैं कि उनकी कृपा आप पर बरसे तो उसके लिए आपको सातमुखी दीपक जलायें। और श्री सूक्त का पाठ करे।

यदि आपका सूर्य ग्रह कमजोर है तो उसे बलवान करने के लिए, आदित्य ह्रदय स्त्रोत का पाठ करें और साथ में सरसों के तेल का दीपक जलायें।

आर्थिक लाभ पाने के लिए आपको नियमित रूप से शुद्ध देशी गाय के घी का दीपक जलाना चाहिए।

शत्रुओं व विरोधियों के दमन हेतु भैरव जी के समक्ष सरसों के तेल का दीपक जलाने से लाभ होगा
 बटुक भैरव स्तोत्र का पाठ करें।


शनि की साढ़ेसाती व ढैय्या से पीड़ित लोग शनि मन्दिर में शनि स्त्रोत का पाठ करें और तिल के तेल का दीपक जलायें।

पति की आयु व अरोग्यता के लिए महुये के तेल का दीपक जलाने से अल्पायु योग भी नष्ट हो जाता है।

शिक्षा में सफलता पाने के लिए सरस्वती जी की आराधना करें और दो मुखी घी वाला दीपक जलाने से अनुकूल परिणाम आते हैं।

मां दुर्गा या काली जी प्रसन्नता के लिए एक मुखी दीपक गाय के घी में जलाना चाहिए।

भोले बाबा की कृपा बरसती रहे इसके लिए आठ या बारह मुखी पीली सरसों के तेल वाला दीपक जलाना चाहिए।

भगवान विष्णु की प्रसन्नता के लिए सोलह बत्तियों वाला गाय के घी का दीपक जलाना लाभप्रद होता है।

हनुमान जी की प्रसन्नता के लिए तिल के तेल आठ बत्तियों वाला दीपक जलाना अत्यन्त लाभकारी रहता है। इसके अलावा आटे का दीपक बना कर चार बत्तियों का दीपक धन वृद्धि के लिए भी जला सकते है। हनुमान चालीसा का पाठ करें।

 गुरु को बलवान करने के लिए बत्ती को हल्दी में रंग कर 4 मुँह का दीपक केले के पेड़ पर चढ़ाये।

 पूजा की थाली या आरती के समय एक साथ कई प्रकार के दीपक जलाये जा सकते हैं।

रविशराय गौड़
ज्योतिर्विद
अध्यात्मचिन्तक

Post a Comment

0 Comments