बैठक में विकास से जुडे विभिन्न 15 एजेंडों पर किया गया विचार-विमर्श


योगेश जांगडा गुरूग्राम: नगर निगम गुरूग्राम के सदन की सामान्य बैठक सोमवार को सिविल लाईंस स्थित स्वतंत्रता सेनानी जिला परिषद भवन में आयोजित की गई, जिसकी अध्यक्षता मेयर मधु आजाद ने की। बैठक में नगर निगम गुरूग्राम के आयुक्त विनय प्रताप सिंह, सीनियर डिप्टी मेयर प्रमिला गजेसिंह कबलाना तथा डिप्टी मेयर सुनीता यादव सहित निगम पार्षद एवं अधिकारीण उपस्थिति में विकास से जुड़े 15 एजेंडों पर विचार-विमर्श किया गया।
   
बैठक में सदन के पटल पर नगर निगम के सभी 35 वार्डों में डिस्पैंसरी बनाने, स्टाफ एवं उपकरण उपलब्ध करवाने के मामले में निर्णय लिया गया कि प्रथम चरण में मौजूदा इन्फ्रास्ट्रक्चर को ठीक  करने तथा जिन वार्डों में डिस्पैंसरी नहीं है, वहां पर नई डिस्पैंसरी का निर्माण करने बारे स्वास्थ्य विभाग से विचार-विमर्श किया जाएगा। इस कार्य में डी-प्लान के तहत प्राप्त होने वाली धनराशि का उपयोग किया जा सकता है। इसी प्रकार राजकीय विद्यालयों में भी इसी प्रकार शिक्षा विभाग से विचार-विमर्श उपरान्त कार्य किया जाएगा।

ठोस कचरा प्रबंधन प्रणाली को विकेन्द्रीकृत करने के लिए रिहायशी सोसायटियों में नगर निगम के खर्च पर छोटे-छोटे कंपोस्टिंग प्लांट लगाने बारे बताया गया कि इस पर निर्णय लेने बारे एक कमेटी का गठन किया जाए। निगम क्षेत्र में विभिन्न स्थानों पर लगे वाटर एटीएम तथा उन पर लगाए जाने वाले विज्ञापनों के बारे में बताया गया कि कुल 60 स्थानों पर वाटर एटीएम लगाने बारे दो एजेंसियों को कार्य अलॉट किया गया था, जिनमें से एक एजेंसी ने 23 स्थानों पर वाटर एटीएम लगाए हैं। बाद में ये सभी सडक़ें गुरूग्राम महानगर विकास प्राधिकरण को हस्तांतरित हो गई तथा मामला अभी माननीय उच्च न्यायालय में विचाराधीन है। उच्च न्यायालय से फैसला आने पर आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

बैठक में निगम पार्षद रिंपल यादव द्वारा रखे गए एजेंडे ज्वाला मील के पास जोहड़ पर कब्जा तथा गांव सरहौल में आंगनवाड़ी की जमीन पर अवैध कब्जा बारे संयुक्त आयुक्त गौरव अंतिल को कार्रवाई करने के आदेश दिए गए। निगम पार्षद अनूप सिंह द्वारा सुखराली इन्कलेव में स्थित जोहड़ को कब्जा मुक्त करवाने तथा उसका जीर्णोद्धार करने का मामला सदन के समक्ष रखा गया। निगम पार्षद योगेन्द्र सारवान ने वार्ड नंबर-1 में जलभराव की समस्या को दूर करने तथा धनवापुर रोड़ से सूरत नगर फेज-1 रोड़ का निर्माण करने का मामला रखा। निगम पार्षद संजय प्रधान ने सीवरमैनों को वेतन दिलवाने तथा सैक्टर-7 सामुदायिक भवन का मामला रखा।

निगम पार्षद सीमा पाहुजा ने स्ट्रीट वैंडिंग का मुद्दा सदन के समक्ष रखा तथा लगभग सभी पार्षदों ने इस मामले में अनियमितताओं का आरोप संबंधित अधिकारी पर लगाया। इस पर निगमायुक्त ने स्ट्रीट वैंडिंग कमेटी की बैठक जल्द आयोजित करने तथा स्ट्रीट वैंडिंग एवं बीपीएल कार्य की जिम्मेदारी अतिरिक्त निगमायुक्त महावीर प्रसाद को देने के साथ ही सिटी प्रोजैक्ट ऑफिसर की कार्यप्रणाली की जांच विजिलैंस विंग से करवाने के आदेश दिए। निगम पार्षद अश्विनी शर्मा ने छोटे-छोटे कार्यों के लिए प्रत्येक पार्षद को 10 लाख रूपए प्रतिमाह की शक्तियां देने का मामला सदन के समक्ष रखा गया। निगम पार्षद सुनील कुमार ने गांव मोहम्मदपुर झाड़सा और सीही के बीच कनैक्टिविटी बनाने का मामला रखा। निगम पार्षद हेमन्त कुमार ने प्रजापति धर्मशाला का निर्माण जल्द करवाने तथा कन्हैयी मोड़ पर 30 बैड का अस्पताल बनाने की मांग रखी।

निगम पार्षद कुलदीप यादव ने सैक्टरों में पड़े खाली प्लाटों की सफाई का मामला सदन के समक्ष रखा। निगम पार्षद महेश दायमा ने गांव बंधवाड़ी एवं बालियावास के सभी विकास कार्यों को पूरा करवाने तथा सैक्टर-55 में एचएसवीपी की जमीन पर सामुदायिक केन्द्र बनाने की मांग रखी। निगम पार्षद आरती यादव ने गांव कन्हैयी में लाईब्रेरी का निर्माण करने का मामला सदन के समक्ष रखा। निगम पार्षद आरएस राठी ने सामुदायिक केन्द्रों की बुकिंग राशि को कम करने का मामला रखा, जिस पर यह निर्णय लिया गया कि अब बुकिंग राशि 7900 रूपए से घटाकर 5100 रूपए, सफाई शुल्क 2100 रूपए तथा रिफंडेबल राशि 2500 रूपए और जीएसटी लागू होगा। श्री राठी द्वारा वार्डों में सफाई, बागवानी और सिविल कार्यों के लिए कर्मचारी उपलब्ध करवाने के मामले को सदन ने स्वीकृति दी। बैठक में विभिन्न सडक़ों के नामकरण के एजेंडे को निगम पार्षद महेश दायमा की अध्यक्षता में गठित कमेटी के पास भेजने का निर्णय लिया गया।

सदन की बैठक में बायोडायवर्सिटी मैनेजमैंट कमेटी के गठन का प्रस्ताव भी सर्वसम्मति से पास किया गया। इसके साथ ही सैक्टर-53 में बनाए जाने वाले सांस्कृतिक भवन का निर्माण नगर निगम गुरूग्राम द्वारा करने के प्रस्ताव को पास करके सरकार के पास भेजा जाएगा। पहले यह कार्य लोक निर्माण विभाग को हस्तांतरित कर दिया गया था। इसके अलावा, व्यापार सदन में बनाए जाने वाले निगम कार्यालय भवन का निर्माण करने का प्रस्ताव भी सर्वसम्मति से पास हुआ। जो मुद्दे सदन से पारित होकर सरकार के पास गए हैं, तथा जो अभी तक लंबित हैं, उनके बारे में मेयर ने बताया कि इस मामले में हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के साथ आयोजित बैठक में रखा गया था। बैठक में म्यूनिसिपल सॉलिड वेस्ट मैनेजमैंट ड्राफ्ट के एजेंडे को अगली बैठक के लिए लंबित रखा गया है। इस पर निगम पार्षदों द्वारा सुझाव मांगे गए हैं।

मेयर श्रीमती आजाद ने कहा कि शहर के विकास के लिए सभी अधिकारी और निगम पार्षद मिलकर कार्य करेंगे। उन्होंने कहा कि सभी कॉलोनियों के प्रवेश द्वार तथा गली और मकान नंबर लगाए जाएं। इसके साथ ही मेयर ने अवैध मीट शॉप को हटाने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। उन्होंने स्ट्रीट लाईट कार्य की सर्वे करवाने की बात भी सदन में रखी। उन्होंने कहा कि वार्ड में होने वाले कार्यों के बारे में संबंधित निगम पार्षद को सूचना अवश्य दी जाए।

 नगर निगम गुरूग्राम के आयुक्त विनय प्रताप सिंह ने कहा कि सफाई, सडक़, स्ट्रीट लाईट, सीवरेज और पेयजल आपूर्ति नगर निगम की प्राथमिकताएं हैं। इनमें सफाई में काफी सुधार की आवश्यकता है तथा सभी पार्षद और आमजन इस कार्य में सहयोग करें। उन्होंने कहा कि जिन निगमों का अच्छा अनुभव रहा है, उनमें लोगों का जुड़ाव होना पाया गया है। उन्होंने बताया कि स्वच्छता की जिम्मेदारी संबंधित संयुक्त आयुक्तों को दी गई है, इसमें सभी लोग सहयोग करें। उन्होंने निगम पार्षदों से सफाई कार्य की निगरानी करने की अपील की।

अतिक्रमण के बारे में उन्होंने बताया कि अतिक्रमण तथा अवैध निर्माण पर कार्रवाई करने के लिए चारों जोनों में सहायक अभियंताओं के नेतृत्व में अलग-अलग टीमों का गठन किया गया है। ये टीमें सीधे संयुक्त आयुक्त को रिपोर्ट करेंगी। बैठक में फिरोजगांधी कॉलोनी के पार्क को 10 दिन में अतिक्रमण मुक्त करवाने के लिए निगमायुक्त ने अधिकारियों को निर्देश दिए। इसके साथ ही अतिक्रमण और अवैध निर्माण के मामले में जीरो टोलरैंस की नीति अपनाने के निर्देश निगमायुक्त द्वारा बैठक में दिए गए।

ये पार्षद रहे उपस्थित : बैठक में सीनियर डिप्टी मेयर प्रमिला गजेसिंह कबलाना, डिप्टी मेयर सुनीता यादव, निगम पार्षद मिथलेश बरवाल, शकुंतला यादव, रविन्द्र यादव, विरेन्द्र राज यादव, अनूप सिंह, दिनेश सैनी, शीतल बागड़ी, योगेन्द्र सारवान, नवीन, संजय प्रधान, सीमा पाहुजा, रजनी साहनी, सुभाष सिंगला, अश्विनी शर्मा, कपिल दुआ, धर्मबीर, सुनीता यादव, अश्विनी शर्मा, सुनील कुमार, सुभाष फौजी, हेमन्त कुमार, कुलदीप यादव, महेश दायमा, कुलदीप बोहरा, आरती यादव, आरएस राठी तथा कुसुम यादव उपस्थित रहे।

ये अधिकारीगण रहे उपस्थित : बैठक में निगम सचिव एवं एडीशनल म्यूनिसिपल कमिशनर वाईएस गुप्ता, अतिरिक्त निगमायुक्त सुरेन्द्र सिंह, अमरदीप जैन एवं महावीर प्रसाद, संयुक्त निगमायुक्त गौरव अंतिल, संजीव सिंगला एवं हरीओम अत्री, चीफ इंजीनियर रमन शर्मा एवं एनडी वशिष्ठ तथा सीटीपी आरके सिंह सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।

Post a Comment

0 Comments