पक्का करने की मांगों की अनदेखी से नाराज कर्मचारियों ने आंदोलन का ऐलान किया


योगेश जांगडा:गुरुग्राम: केंद्रीय आम बजट में पुरानी पेंशन बहाली और ठेका कर्मचारियों को पक्का करने की मांगों की अनदेखी से नाराज कर्मचारियों ने आंदोलन का ऐलान किया है। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष लांबा ने सोमवार को यहां आयोजित जिला कार्यकारिणी की मीटिंग को संबोधित करते हुए बताया की 27 फरवरी को मांग दिवस का आयोजन किया जाऐगा। मांग दिवस पर सभी विभागों, बोर्डों, निगमों, विश्वविद्यालयों,नगर निगमों, पालिकाओं व परिषदों के कर्मचारी अपने अपने कार्यालयों पर विरोध सभाएं आयोजित कर प्रदर्शन करेंगे। विरोध सभाओं व प्रदर्शनों में सावृजनिक क्षेत्र के उपक्रमों व जन सेवाओं को बचाने, पुरानी पेंशन बहाल करने,ठेका प्रथा समाप्त कर ठेका कर्मियों को पक्का करने ,पक्का होने तक समान काम समान वेतन देने और सेवा सुरक्षा प्रदान करने आदि मांगों को प्रमुखता से उठाया जाऐगा। जिला प्रधान रामनिवास ठाकरान की अध्यक्षता में आयोजित इस मीटिंग में जिला व ब्लॉक कमेटियों के पदाधिकारियों और सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा से संबंधित विभागीय संगठनों के पदाधिकारियों ने भाग लिया। मीटिंग मे सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के उप प्रधान सुरेश नौहरा मकैनिकल वर्कर यूनियन के महासचिव कंवरलाल यादव, जिला सचिव उमेश खटाना उपस्थित थे।

सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के अध्यक्ष सुभाष लांंबा ने कार्यकारिणी को संबोधित करते हुए कहा कि 27 फरवरी के मांग दिवस के बाद 15 अप्रैल से 15 जून तक एनपीएस प्रभावित और अनुबंध पर लगे कर्मचारियों को विभागवार संगठित कर राष्ट्रीय आंदोलन के महत्व को समझते हुए इसको मजबूत करने का अभियान चलाया जाएगा। उन्होंने बताया कि इसके बाद 15 जुलाई से 15 अक्टूबर तक सभी राज्यों में हजारों वाहन जत्थे चलाए जाऐंगे, जिनका समापन चंडीगढ़ मे आयोजित होने वाली विशाल रैली मे किया जाऐगा।

सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के उप प्रधान सुरेश नौहरा ने कहा कि आंदोलन को सफल बनाने के लिए कमर कस ली है। सभी जिलों में जिला कार्यकारिणी की मीटिंग आयोजित की जा रही है और 27 फरवरी के मांग दिवस को सफल बनाने के लिए 20 फरवरी तक जिला स्तर पर कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित किए जाऐंगे। इस कड़ी में 14 फरवरी को महरौली रोड़ स्थित बिजली निगम के रेस्ट हाऊस मे उन्होंने आरोप लगाया कि हरियाणा सरकार बीस जुलाई,2019 को मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में सरकार के साथ हुई मीटिंग में मानी हुई मांगों और विभागीय यूनियन के साथ किए समझोतों को लागू न करके कर्मचारियों को आंदोलन के लिए मजबूर कर रही है।

मीटिंग में औमबीर शर्मा, रामबीर शर्मा, सुशील शर्मा, सुशील ठाकरान, रामलाल,कोड़ा राम,दयानन्द, अरविंद शर्मा, अमरजीत जाखड़, अजीत हुड्डा, तकदीर सहरावत, नरेन्द्र कुमार, राजेश आदि नेता उपस्थित थे।

Post a Comment

0 Comments