झुंझुनूं जिले के सूबेदार साहब हुए कोरोना पॉजिटिव, मिलिट्री हॉस्पिटल में किया रैफर

झुंझुनूं जिले में ईस बार सूबेदार साहब हुए कोरोना पॉजिटिव ।

राजस्थान में झुंझुनूं जिले के निवासी एक सूबेदार में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। वह छुट्टी आने के बाद 10 मार्च को ही अपनी बटालियन में लौटे थे। जानकारी के अनुसार लॉकडाउन के बीच उत्तराखंड में कोरोना का सातवां मामला सामने आया है। देहरादून में यह छठा मामला है।रविवार को देहरादून के सैन्य अस्पताल में भर्ती झुंझुनूं जिले के झारोड़ा निवासी 47 वर्षीय एक सूबेदार में कोरोना की पुष्टि हुई। बताया गया कि वह चकराता में HQ22 बटालियन में वर्तमान में तैनात हैं। इसी 10 मार्च को सुुुबेेदार छुट्टी पूरी कर राजस्थान से डयूटी पर गये थे। इस बीच उनमें किसी भी तरह के लक्षण नहीं थे  24 मार्च को डयूटी पर उनकी तबीयत खराब हुई। जिसके बाद उन्हें दून स्थित सैन्य अस्पताल में रेफर कर दिया गया। 26 मार्च को वह अस्पताल में भर्ती हुए और 27 मार्च को उनका सैंपल जांच के लिए हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज स्थित लैब में भेजा गया। रविवार को प्राप्त रिपोर्ट में उनमें कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार मरीज की विदेश की कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है। उनके पॉजिटिव होने की सूचना झुंझुनूं जिले के अधिकारियों को मिलने पर जिले के अधिकारियों ने त्वरित एक्शन लेते हुए सैनिक के ससुराल देवलावास में उनकी पत्नी की जांच के लिये सेम्पल जयपुर भिजवाए। उनकी पत्नी में अभी कोई लक्षण नही हैं लेकिन प्रोटोकॉल के तहत उनको भी चिकित्सा विभाग ने होम आईसोलेट के लिये कहा है। सूबेदार संभवत: राजस्थान में किसी कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए या फिर यात्रा के दौरान वे किसी संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में आये हैं। यहां पहुंचने में उनमें किसी तरह के लक्षण नहीं थे। काफी वक्त बाद लक्षण दिखाई दिए। चकराता स्थित सेना की HQ22 बटालियन मुख्यालय में तैनात सूबेदार में कोरोना की पुष्टि होने के बाद हड़कंप मच गया है। उत्तराखंड में किसी सैनिक के कोरोना संक्रमित होने का यह पहला मामला है, जिससे स्वास्थ्य महकमे की चिंता भी बढ़ गई है। वह इसलिए कि सैन्य अस्पताल में भर्ती होने से पहले वह करीब 15 दिन तक अपनी बटालियन में रहा। लिहाजा इस उसके संपर्क में आए बटालियन के अन्य अधिकारियों और जवानों में भी संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। ऐसे में पूरी बटालियन को क्वारंटाइन किया जा सकता है। कोरोना के जिला नोडल अधिकारी डॉ दिनेश चौहान ने बताया कि इस बाबत संबंधित यूनिट के उच्चाधिकारियों से बात हो गई है। उन्हें लिखित में आदेश भी भेजा गया है कहा गया है कि कोरोना संक्रमित सूबेदार के क्लोज कॉन्टेक्ट में रहे अधिकारियों-जवानों को तत्काल बटालियन के ही अस्पताल में क्वारंटाइन किया जाए। उसके बाद पूरी बटालियन को भी क्वारंटाइन किया जा सकता है। बटालियन के सभी जवानों के स्वास्थ्य की सघन निगरानी के लिए कहा गया है।

Post a Comment

0 Comments