आपदा राहत विभाग ने जिला कलक्टरों को भीषण आपदा Covid-19 हेतु दिए 18.06 करोड़


आपदा राहत  विभाग ने जिला कलक्टरों को दिए 18.06 करोड़
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एवं सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता व आपदा प्रबंधन मंत्री मा. भंवरलाल मेघवाल के निर्देशानुसार कोविड-19 जैसी भीषण आपदा से प्रभावित बेघर व्यक्तियों, प्रवासी श्रमिकों एवं अन्य व्यक्तियों को राहत प्रदान करने हेतु राज्य के समस्त जिला कलक्टर्स द्वारा शिविरों के माध्यम से अस्थायी आवास, भोजन, कपड़े, सुरक्षा, चिकित्सा सुविधा एवं सभी अन्य आवश्यक सुविधाओं आदि की व्यवस्था करवाई गई है। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता  मंत्री मास्टर भंवर लाल मेघवाल ने बताया कि इन राहत शिविरों के संचालन हेतु जिला कलक्टर्स द्वारा स्थानीय नगर निकायों एवं स्वयं सेवी संस्थाओं का भी सहयोग लिया जा रहा है। आपदा प्रबंधन एवं सहायता विभाग द्वारा बेघर व्यक्तियों, प्रवासी श्रमिकों एवं अन्य व्यक्तियों को राहत प्रदान करने हेतु राहत शिविरों के तहत अस्थायी आवास, भोजन, कपड़े, मेडिकल सुविधा आदि उपलब्ध कराने हेतु समस्त जिला कलक्टर्स को राशि 18.06 करोड़ रुपये जारी की जा चुकी है। इन राहत शिविरों में स्वच्छता, सोशल डिस्टेंसिंग एवं राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर जारी कोविड-19 की रोकथाम एवं बचाव के दिशा-निर्देशों के पालन का विशेष ध्यान रखा जा रहा है। स्वायत्त शासन विभाग को आपदा प्रबंधन विभाग के एसडीआरएफ मद से 70 हजार कार्मिकों हेतु 1.75 करोड़ रुपये स्वीकृत की गयी है। उक्त राशि का प्रयोग स्वायत्त शासन विभाग द्वारा कोविड-19 के संक्रमण की रोकथाम बाबत अग्निशमन विभाग कर्मियों, स्वास्थ्य कर्मियों एवं वाहन चालकों की निजी सुरक्षा के उपकरण यथा मास्क, सेनेटाईजर, दस्ताने आदि क्रय हेतु किया जा सकेगा। साथ ही राजस्थान पुलिस के ड्यूटी पर तैनात कार्मिकों के बचाव के उद्देश्य से सुरक्षा उपकरण यथा मास्क, सेनेटाईजर, दस्ताने, पीपीई किट एवं फैसशील्ड आदि क्रय करने के लिए एसडीआरएफ मद से राशि 1.25 करोड़ रुपये की स्वीकृति जारी की गई है। उन्होंनेे बताया कि राज्य सरकार कोविड-19 के रोकथाम एवं बचाव हेतु संवेदनशील है तथा इस आपदा के समय जन साधारण के सहयोग के लिये हमेशा तत्पर है।

----

पंखा एवं कूलर दुकानें 3 घण्टे खुलेगी

चूरू, 29 अप्रैल। जिला मजिस्ट्रेट संदेश नायक ने कोविड-19 से उत्पन्न महामारी के संक्रमण के बढ़ते प्रसार को रोकने हेतु आमजन के हितों के मध्यनजर धारा-144 में शिथिलता प्रदान करते हुए चूरू नगरीय क्षेत्र की सीमाओं में स्थित पंखा एवं कूलर की दुकानों को आगामी आदेशों तक दोपहर 2 बजे से सायं 5 बजे तक खोलने की छूट प्रदान की है।

आदेशानुसार प्रत्येक दुकानदार द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग की पूर्ण पालना के साथ पर्याप्त दूरी में सांकेतिक घेरा बनाना होगा। एक समय में दुकान पर 5 व्यक्तियों से अधिक भीड़ नहीं होगी तथा दुकान पर हाथ धोने के लिए सेनेटाईजर/ साबुन रखना अनिवार्य होगा। क्रेता व विक्रेता दोनों को मास्क लगाना अनिवार्य होगा तथा क्रेता को सामान पैदल ही लेकर आना होगा तथा दुकानदार को कूलर की होम डिलीवरी करनी होगी। एक परिवार से एक ही व्यक्ति बाजार से सामान लाने हेतु अनुमत होगा। विक्रेता को अपनी दुकान के बाहर रेट लिस्ट चस्पा करनी अनिवार्य होगी। आदेशों की किसी भी शर्त का उल्लंघन करने पर संबंधित के विरूद्ध विधिक कार्यवाही अमल में लाई जायेगी।

Post a Comment

0 Comments