लॉक डाउन के चलते पशु पक्षियों के जीवन पर भी विपरीत प्रभाव पड़ रहा है

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए देशव्यापी लॉक डाउन के चलते आम लोगों के साथ साथ पशु पक्षियों के जीवन पर भी व्यापक प्रभाव नजर आ रहा है ।

अजय कुमार विद्यार्थी:भरतपुर/डीग: प्रभावी लाँक डाउन के बावजूद प्रशासन आम जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव को हर संभव तरीके से कम करने का प्रयास करने में लगा हुआ है ताकि जनजीवन सामान्य बना रहे ।

इसी प्रयास के चलतेे डीग उप जिला कलेक्टर सुमन देवी ने लॉक डाउन का कड़ाई से पालन कराने के साथ-साथ सोशल डिस्टेंसिंग को प्रभावी ढंग से लागू करा रही हैं ।

वहीं दूसरी ओर किसानों की परेशानी को देखते हुए कृषि उपज मंडी में तहसीलदार सोहन सिंह नरूका व मंडी सेक्रेटरी के साथ पहुंचकर मंडी के व्यापारियों से  मंडी को खोलने पर विचार विमर्श किया I व्यापारियों ने कहा कि जब तक बड़ी कृषि मंडियां नहीं खुलेंगी तब तक डीग मंडी का खुलना संभव नही है । अगर भरतपुर की भी मंडी खुल जाती है तो हम डीग की मंडी खोल देंगे ।

लॉकडाउन के चलते राजस्थान की सीमा में पडने वाले डेढ किलो मीटर लम्वे परिक्रमा मार्ग के सूने हो जाने के कारण परिक्रमा मार्ग में कई हजार बंदरों मोर व अन्य पक्षियों के सामने आये भोजन के संकट के समाधान के लिय उप जिला कलेक्टर सुमन देवी ने मानवीय पहल करते हुऐ रेंजर वन विभाग पूछरी को  परिक्रमा मार्ग मे बंदरों सहित अन्य जीव-जंतुओं को खाद्य सामग्री उपलब्ध कराने को कहा है ।
साथ ही उन्होंने डीग तहसीलदार सोहन सिंह नरूका को  निर्देश दिए है कि वे परिक्रमा मार्ग में जाकर जीव जंतुओं प्रेमियों भामाशाहों आदि से मिलकर इस कठिन समय में भोजन उपलब्ध कराएं ।

 तहसीलदार सोहन सिंह नरूका ने तुरंत मानवीयता का परिचय देते हुऐ  7 सदस्य टीम बनाकर एक क्विंटल खाद्य सामग्री बेर केला चना सामग्री का बंदरो व अन्य जीव-जंतुओं  को वितरण कराया।

 वन विभाग के अतिरिक्त  सामाजिक संगठनों भामाशाहों
द्वारा भी खाद्य सामग्री का जीव जंतुओं को वितरण किया जा रहा है I

वही उप जिला मजिस्ट्रेट सुमन देवी कस्बा सहित ग्रामीण इलाकों का प्रभावी लोग डाउन कराने के लिए अपने कनिष्ठ अधिकारियों के साथ बराबर राउंड कर रही हैं ।

Post a Comment

0 Comments