आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में लाभप्रद : डीसी

कोरोना अलर्ट: 
धनेश विद्यार्थी, रेवाड़ी। 
रेवाड़ी फोटो: संशमनी वटी की गोलियां वितरित करते हुए आयुष विभाग के चिकित्सक। 
जिला आयुष विभाग कोरोना काल में अब तक 6146 लोगों को आयुष औषधियां वितरित कर चुका है। उपायुक्त यशेन्द्र सिंह का मानना है कि आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति मानव शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है। आयुर्वेद चिकित्सा के माध्यम से अपने शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर अपने आप को रोगमुक्त रख सकते हैं। 
आयुष विभाग कोरोना महामारी के चलते रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने के लिए गुडुुची घनवटी, संशमनी वटी, अणु तेल, आयुर्वेदिक औषधियों का वितरण कर  रहा है, जिसका सभी को लाभ उठाना चाहिए। डीसी ने बताया कि कि  जिला आयुष विभाग द्वारा, बावल, धारूहेड़ा, कोसली, खोल, कुण्ड सहित जिले के विभिन्न विभागों जैसे पुलिस विभाग, नगर परिषद व पंचायत विभाग के शहरी एवं ग्रामीण स्तर पर कार्यरत अधिकारियों एवं कर्मचारियों, नगर परिषद के सफाई कर्मचारियों, तहसील के कर्मचारी सहित अन्य विभागों के अलावा सब्जी मंडी व अनाज मंडी में आने वाले व्यापारियों, आढ़तियों व अनाज बेचने आ रहे  किसानों को संशमनी वटी, अणु तेल आदि का वितरण किया गया। 6146 लोगों को रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली औषधियां वितरित की जा चुकी हैं। आयुष विभाग की ओर से आमजन को कोरोना से बचाव और आयुष पद्धतिसे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के बारे में निंरतर जागरूक किया जा रहा है। 
कैसे करें संशमनी वटी व अनु तेल का इस्तेमाल: 
जिला आयुष अधिकारी डा. अजीत यादव बताया कि संशमनी वटी की एक-एक गोली सुबह-शाम खाने के बाद गुनगुने पानी से लें तथा अणु तेल नहाने के उपरांत सुबह नाक में एक-एक बूदं डाले। डा. यादव ने बताया कि संशमनी वटी से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी होती है, जिससे मुनष्य रोग से लडने में सक्षम हो जाता है। 
ये टीमें कर रही हैं : 
औषधियां वितरण का कार्य जिला आयुष अधिकारी ने बताया कि जिलाधीश व विभाग द्वारा जारी दिशा निर्देशानुसार आयुष दवा वितरण व जागरूकता कार्यक्रम के लिए टीमें गठित की गई हैं।  आयुष के नोडल अधिकारी डा0 बसंत कुमार के संचालन में विभिन्न आयुष टीमों द्वारा जिनमें शहर रेवाड़ी में डॉ अनुराग यादव व डॉ राहुल बत्रा की टीम, बावल एवं धारूहेडा में डॉ0 अनु सिरोहा व डॉ0 अनिल यादव की टीम एवं कोसली व खोल में डॉ0 अमरजीत यादव व डॉ0 शिवजी धाकड की टीमों द्वारा औषधी वितरण का कार्य किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त जिला के सातों खंडों में दवा वितरण कार्य किया जा रहा है। 
यहां से भी प्राप्त कर सकते हैं आयुर्वेदिक औषधियां : 
जिला में 19 राजकीय आयुर्वेदिक औषधालय बनीपुर, बीकानेर, बुडौली, मुंदी, प्राणपुरा, सहारनवास, मुसेपुर, सुठाना, मंगलेशवर, नंनरामपुरबास, रालियावास, संगवाडी, पाली, कुण्ड, भाण्डोर, लुला अहीर, मामडीया अहीर, खोरी, धारण एवं सीएचसी मीरपुर, गुरावडा खोल, बावल, नाहड, पीएचसी धारूहेड़ा व डहीना, डीएचएस कोसली तथा सामान्य अस्पताल रेवाड़ी हुडा डिस्पैंसरी सैक्टर 4 रेवाड़ी की आयुष विंग द्वारा प्रतिदिन आम नागरिकों को रोग प्रतिरोधक औषधियां उपलब्ध कराई जा रही हैं। 
----------------- 

Post a Comment

0 Comments